Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
07-12-2018, 12:39 PM,
#21
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--21

गतान्क से आगे..........

(पर्दे के पीछे से टीना बेड पर दो जिस्मों को एक दूसरे के साथ गुथे हुए चुपचाप खड़ी देखती है।)

राजेश: करीना…करीना…

करीना: हूँ…थैंक्स मेरे प्रीतम

राजेश: आज तुम्हें क्या हुआ…हम तो एक साथ ही सीमा के पार पहुँचा करते हैं…

करीना: परन्तु आज नहीं…

(टीना पर्दे के पीछे से निकल कर राजेश के पीछे आ कर खड़ी हो जाती है। करीना उसको देख कर राजेश के नीचे से निकलने कि चेष्टा करती है।)

राजेश: अभी नहीं…तुम कुछ देर आराम कर लो…

टीना: पापा…(टीना की आवाज सुनते ही राजेश चौंक कर करीना से अलग होता है)

राजेश: टीना तुम…

टीना: हाँ पापा…अभी मेरा ट्रेनिंग रूटीन बचा हुआ है (कहते हुए अपनी टी-शर्ट और स्कर्ट उतार फेंक कर बेड पर करीना के साथ लेट जाती है। असमंजस में पड़े हुए राजेश के मुख से आवाज नहीँ निकलती है।)

टीना: क्या हुआ…प्लीज पापा…आप दोनों को देख कर तो मैं कितनी देर से आग में जल रही हूँ… (राजेश होश में आते हुए और सारा माजरा समझते हुए)

राजेश: बेटा…(टीना के निकट जा कर) इस सरप्राईज के बाद तुम्हारे साथ आज कुछ भी करना मेरे लिये बड़ा मुश्किल होगा…(कहते हुए करीना और टीना के बीचोंबीच जा कर लेट जाता है)

टीना: (राजेश पर सवार हो कर) प्लीज पापा…आप ही तो कह रहे थे कि हम दोनों ही आपकी प्रेमिका हैं…

राजेश: बेटा…(अपने सामने टीना की खुली हुई टांगों के बीच योनिच्छेद से रिसते हुए रस अपने सीने पर टपकते हुए देख कर)…करीना और तुम दोनों मुझे बहुत प्रिय हो पर एक समय दोनों के साथ… शायद यह मुझसे न हो सकेगा…(लेकिन तब तक टीना अपनी चूत राजेश के सीने पर रगड़ना शुरू कर देती है)

टीना: (राजेश के जिस्म पर अपनी योनि रगड़ती हुई) करीना…उठ यार अपना काम हो जाने के बाद मुझे भूल गयी…तू पापा के लंड को तैयार कर…देखो तो बेचारे का डर के मारे क्या हाल हो गया है।

करीना: टीना…(उठते हुए)…मेरे प्रीतम को शाक लगा है…तू चिन्ता मत कर अभी कुछ देर में इन का एक आँख वाला अजगर तेरा बुरा हाल कर देगा…देखती जा…

राजेश: करीना…(कुछ और बोलने से पहले टीना झुक कर अपने होंठ की गिरफ्त में राजेश के होंठों ले लेती है। राजेश के होंठों के साथ खेलती हुई टीना अपनी उन्नत और पुष्ट पहाड़ियों को राजेश के सीने पर रगड़ती है। दूसरी ओर राजेश के लंड को करीना अपने मुख में ले कर अपनी जुबान की ठोकरों से उठाने में लग जाती है।)…टीना…आह…

टीना: आप भी तो कुछ करिए…(कह कर अपने योनिच्छेद को राजेश के मुख पर रख देती है। रिसता हुआ प्रेमरस राजेश के होंठों को गीला कर देता है। राजेश से भी नहीं रहा जाता और अपनी उँगलियों से जुड़ी हुई फाँको को अलग करता है अपनी लपलपाती जुबान से लाल रंग के ऐंठें हुए बीज पर चोट करता है)…आअ…आह…अ…आह पापा

(राजेश टपकते हुए योनिरस को सोखने में लग जाता है। बार बार करीना की जुबान की कुकुरमुत्ते समान सिर पर चोट, मुलायम हाथों से अंडकोशों से खिलवाड़ और करीना के होंठों की मालिश से लिंगदेव भी प्रसन्न हो कर एक बार रौद्र रूप धारण कर के लहराने लगते है।)

राजेश: (अपना मुख योनि पर से हठा कर) टीना…तुम अब पूरी तरह से तैयार हो गयी हो मेरे लंड को अपने दूसरे मुख में लेने के लिये…पीछे हो कर तुम उस पर बैठ जाओ…करीना तुम टीना की मदद करो…

(करीना अपने मुख से राजेश का लंड को आजाद करती है और गरदन पकड़ कर सीधा कर देती है। टीना पीछे सरक कर धीरे से चूत के मुहाने को बैगनी रंग के फूले हुए लंड के सुपाड़े पर बिठाती है और धीरे से अपना वजन डाल कर अन्दर सरकाती है।)

टीना: (आँखे मूंद कर गर्म मोटी सलाख को अन्दर महसूस करती हुई)… अ…आ…ह्…आह

(करीना अब आगे आकर राजेश के मुख पर अपनी चूत को रख देती है। टीना थोड़ा जोर लगा कर एक झटके के साथ बैठ जाती है। जोश में तन्नायें हुए लिंगदेव चूत के संकरेपन में अपना रास्ता खोजते हुए सीधे बच्चेदानी के मुहाने पर जा कर रुक जाते है। इधर राजेश को आधा-अधुरापन महसूस होता है और वह भी अचकचा कर नीचे से एक भरपूर धक्का देता है जिसकी वजह से बच्चेदानी का मुख खोल कर लिंगदेव गरदन तक जा कर अन्दर फँस जाते है। टीना पूरा लंड निगल कर आँखें मूंदे योनि में पल-पल उठते हुए जलजले को महसूस करती हुई भावविभोर हो जाती है। करीना भी आँखें मूंद कर अपनी चूत के साथ होते हुए खिलवाड़ को महसूस करती है। तीन जिस्म अपने-अपने तरीके से वासना के तूफान में बहते हुए चरम सीमा तक पहँचने की तैयारी में लग जाते है। उत्तेजना में आसक्त हो कर टीना अपने हाथ बढ़ा कर करीना के स्तन को कभी सहलाती और कभी जोश मे मसक देती है।)

करीना: (टीना के कोमल हाथ और राजेश की जुबान की ठोकर से) अ आ…आह…आ…ह (कहती हुई झरझरा के बह उठती है। राजेश बहते हुए प्रेमरस के झरने में मुँह लगा कर पी कर तृप्त हो जाता है। करीना निढाल हो कर राजेश के उपर से हट कर बेड पर लेट जाती है और अपनी तेज चलती हुई साँसों को काबू में करती है।)

टीना: प…आ…पा (राजेश के लंड पर उन्मुक्त घुड़सवारी करते हुए)…हाय…आह…

(करीना के जोश को ठंडा करके अब राजेश अपना ध्यान टीना पर केन्द्रित करता है। टीना के हिलते हुए स्तनों को अपनी हथेली का सहारा देकर सहलाता और मसलता है। उँगलियों के बीच मे फूले हुए अंगूरों को दबा कर तरेड़ता है।)

राजेश: टीना…आअ…मुझे लगता है कि मेरा लंड किसी लोहे के जबड़े में फँस कर रह गया है…आह

(राजेश के लंड की लम्बाई और मोटाई को नापते हुए टीना की चूत भी अपने अन्दर उफनते ज्वालामुखी को रोक नहीं पाती और झरझरा कर प्रेमरस की झड़ी लगा देती है।)

टीना: .उउआ.आह....उई...आ...उ.उ.उ...आह.....

(कुछ ऐसा ही हाल राजेश के साथ भी होता है। जैसे ही टीना के अन्दर ज्वालामुखी फटता है वह धम्म से अपना सारा वजन डाल कर बैठ जाती है और उसी गति राजेश का लंड सारी बाधाएँ पार करते हुए अपना सिर टीना की बच्चेदानी में जा कर फँसा देता है। टीना की चूत राजेश के लंड को इर्द-गिर्द से जकड़ कर उसका रस सोखने में लग जाती है। इसके एहसास से राजेश के अन्दर उफनता हुआ लावा सारे बाँधों को तोड़ कर बाहर आ जाता है और टीना की चूत को लबालब प्रेमरस से भर देता है। टीना भी थक कर राजेश के उपर गिर जाती है और राजेश भी टीना को अपने आगोश में ले कर अपनी तेज चलती हुई साँसों को काबू में करने की कोशिश करता है। दोनों का मिला जुला प्रेमरस टीना की चूत में से रिसता हुआ अब बाहर छलकने लगता है और राजेश के पेट पर फैल जाता है।)

राजेश: (टीना को हिलाते हुए) टीना…बेटा…

टीना: हूँ…पापा

राजेश: क्या हुआ…तुम ठीक हो…

टीना: हूँ…

राजेश: (साथ में लेटी करीना की ओर रुख करके) करीना…करीना…

करीना: हूँ…

राजेश: (टीना को अपने उपर से हटा कर बैठते हुए)…अरे दोनों सिर्फ हूँ ही करती रहोगी या कुछ और भी बोलोगी…आखिर हम तीनों के मिलन का पहला दिन है…कैसा लगा?

करीना: एक्स्क्युइजिट्…

टीना: माइन्ड ब्लोइंग… पापा आप परफेक्ट पार्टनर हो…

राजेश: (दोनों को चूमते हुए) तुम दोनों मेरे लिए परफेक्ट फिट हो…अब जल्दी से तैयार हो जाओ मम्मी के आने का टाइम नजदीक आ रहा है…

टीना: नहीं पापा…ऐसे ही लेटे रहना अच्छा लगता है…(और कह कर करीना से लिपट जाती है)

करीना: हाँ डार्लिंग…टीना ठीक कह रही है (और कह कर टीना को कस कर अपने आगोश में बाँध लेती है)

राजेश: (दोनों लड़कियों को जबरदस्ती अलग करके बीच में बैठते हुए) मेरी परियों प्लीज होश में आ जाओ…जल्दी से कपड़े पहन लो मम्मी का टाइम हो गया है…

टीना: (ठुनकती हुई) पापा…ठीक है हम दोनों मेरे कमरे में जा कर आराम कर लेती है…(कह कर बेड पर खड़ी हो जाती है) करीना चल यार मेरे कमरे में वहाँ जा कर आराम करते है…

करीना: (बेड पर खड़ी होती हुई)…चल यार…मेरे प्यारे अंकल नें दिल तोड़ दिया…

(राजेश टुकुर-टुकुर दोनों की बातें सुनता है और दो नग्न कमसिन जिस्मों को निहारता है। दोनों के हसीन चेहरों पर पूर्ण तृप्ति के भाव, थरथराते हुए सुडौल वक्ष, कटाव लेते हुए नितंब, मासंल जांघें और बालोंरहित कटिप्रदेश देखते हुए राजेश के शरीर में एक बार फिर से रक्त संचारित होने लगता है। दोनों अपने कपड़े उठा कर नग्न अवस्था में इठलाती और बल खाती हुई टीना के कमरे का रुख करती है।)

राजेश: लड़कियों प्लीज… रहम करो… अपने को रोक नहीं सकूँगा…

करीना: (मुड़ कर) न रहा जाए तो…उपर आ जाईएगा…

टीना: (रुक कर) पापा…हम दोनों आपकी राह देखेंगीं…

राजेश: ओके बेटा…

(तभी दरवाजे की घंटी बजती है…दोनों लदर-पदर भागते हुए सीड़ीयाँ चड़ती हुई टीना के कमरे में चली जाती है। राजेश जल्दी से अपनी लुंगी को लपेट कर दरवाजे की ओर झपटता है।)

(दरवाजा खुलने पर अपने सामने कुरियर वाले को खड़ा पा कर खिसिया जाता है। लीना की वापिसी की फ्लाइट की जानकारी स्कूल वालों ने दी थी। जब तक राजेश कुरियर वाले को निपटाता है…सामने से मुमु कार को शेड के नीचे पार्क करती हुई दिखाई देती है…)

मुमु: (घर मे प्रवेश करते हुए) किसकी खबर है?

राजेश: कुछ खास नहीं…स्कूल वालों ने बताया है कि संडे सुबह लीना आ रही है।

मुमु: (सोफे पर बैठती हुई) टीना कहाँ है…

राजेश: उपर अपने कमरे में करीना के साथ है…खाना आज बाहर से मँगवा लेते है क्योंकि तुम थकी हुई होगी और करीना भी है…

मुमु: हाँ यही ठीक रहेगा…आज क्वालिटी रेस्टोरेन्ट से मँगवा लेते है।

राजेश: अच्छा ठीक है। तुम ओर्डर दे दो और मैं जल्दी से तैयार हो कर आता हूँ फिर तुम बाथरूम यूज कर लेना…

मुमु: हाँ यही ठीक रहेगा (कहते हुए फोन की ओर बढ़ जाती है)

(करीना, राजेश और उसका परिवार रात का भोजन एक साथ करते है। मुमु और राजेश अपने बेडरूम में चले जाते है। दोनों लड़कियाँ उपर टीना के कमरे में चली जाती हैं।)

मुमु: प्लीज एक नींद की गोली दे दो…

राजेश: मुमु अब इसकी आदत मत डालो…आगे चल कर तुम्हें इसकी आदत हो जाएगी।

मुमु: मै जानती हूँ परन्तु क्या करूँ…थकान और पिताजी की चिन्ता की वजह से नींद नहीं आएगी।

राजेश: (नींद की गोली मुमु को थमाता है) अच्छा चलो अब सो जाओ…(कहते हुए करवट बदल कर सोने का उपक्रम करता है)

(एक घंटे के बाद राजेश अपने बिस्तर से उतर कर दबे पाँव टीना के कमरे का रुख करता है। दरवाजे पर कान लगा कर अन्दर के हाल का जायजा लेता है। कमरे में उत्तेजना से भरी सिसकारियाँ गूँज रही है। थोड़ी देर बाहर खड़ा हो कर चुपचाप सुनता है और फिर दरवाजे को ठेल कर देखता है कि कहीं अन्दर से बन्द तो नहीं है परन्तु बिना कोई आहट किए दरवाजा खुल जाता है। राजेश कमरे में प्रवेश करके पर्दे के पीछे से अन्दर की ओर झाँकता है।)

(राजेश पर्दे के पीछे से अन्दर की ओर झाँक कर बेड पर पसरी हुई टीना और करीना के बीच मे होते हुए समलैंगिक एकाकार पर दृष्टि डालता है। उसके भी खून मे तेजी आ जाती है।) टीना:.उ.अ..आह.पा…अ.उउआ.पाआह....

करीना: अ..आह.…अ.उउआ.ह....

(दोनों लड़कियाँ 69 पोजीश्न बनाए एक दूसरे की जवानी के रस को सोखती हुई बेसुध हालत में है। सामने का दृश्य देख कर राजेश स्तब्ध खड़ा रह जाता है। धीरे से अपने को होश में ला कर दोनों की ओर बढ़ता है। दोनों हसीनाएँ आँखें मूंदे अपनी ही बनाई दुनिया में मस्त है और राजेश के आगमन से अनिभिज्ञ है। टीना की चूत पर करीना मुख लगा कर अपनी जुबान के अग्र भाग से लाल रंग के मोती को घिसती है। यही कुछ टीना भी करीना की चूत के साथ करती है। सामने का द्दृश्य देख कर राजेश का लंड भी अपनी हरकत में आ जाता है। राजेश अपनी लुंगी को निकाल फेंकता है और अपने लंड को एक मुठ्ठी में ले कर उसके सिर को अनावरित करते हुए अपने अंगूठे को चिकने बैंगनी रंग के फूले हुए सिर पर धीरे से फिराता है। अचानक करीना की निगाह राजेश पर पड़ती है और उसके मुख से दबी हुई चीख निकल जाती है। टीना भी हड़बड़ा कर उठ बैठती है और राजेश को देख कर हतप्रभ रह जाती है।)

टीना: पापा… यह क्या आपने दरवाजा कैसे खोला…

राजेश: (अपने तन्नाते हुए लंड को प्यार से हिलाते हुए) क्यों तुमने चिटकनी नहीं लगाई थी क्या? करीना डार्लिंग इसे तुम्हारे मुख की जरूरत है प्लीज…

टीना: नहीं करीना। हमनें कुण्डी तो लगाई थी…पर लगता है कि ठीक से नहीं लगी होगी…फिर भी आप दरवाजा तो खटखटा देते…

राजेश: तुम दोनों ने इतना उधम मचा रखा था की दरवाजे के बाहर तक आवाजें आ रही थीं।… और अगर मैनें खटखटा दिया होता तो मुझे इतना हसीन यादगार सीन कैसे देखने को मिलता?

टीना: (गुस्से से) पापा…(फिर रुआँसी आवाज में) आप बड़े वो हो…

राजेश: (टीना को अपनी ओर खींचते हुए) बेटा…तुम दोनों के बीच की घनिष्टता को मै जानता हूँ…पर क्या मैं तुम दोनों के साथ घनिष्ठ नहीं हो सकता (कहते हुए पास बैठी करीना को भी अपने उपर खींचता है)

करीना: (कुछ सोचते हुए) टीना तुझे तो पता है कि मै तो अंकल की पूरी तरह से हो चुकी हूँ…मेरे अंग-अंग पर उनका अधिकार है (कहते हुए नीचे झुक कर राजेश के लंड को अपने मुख में रख कर चूसना शुरू कर देती है)

टीना: करीना हमारे पैक्ट का क्या हुआ…हम दोनों ने वादा किया था कि हम दोनों सारा जीवन साथ बिताएँगी…एक पति और पत्नी की तरह…और (राजेश की ओर देखती हुए) …देखो मेरी पत्नी ने कैसे अपने मुख में मेरे पापा का लंड ले रखा है?

राजेश: तो क्या हुआ (आ…ह)…क्या एक पत्नी के दो पति नहीं हो सकते…करीना तुम्हारी पत्नी ही रहेगी परन्तु मेरी प्रेमिका बन कर भी रह सकती है। क्या तुम मेरी प्रेमिका नहीं बनना चाहती…तुम्हें भी तो मेरे हथियार की धार बनानी है…(कह कर टीना के थरथराते होंठों को अपने होंठों में दबा कर उसकी सीने की पहाड़ियों को धीरे से सहलाता हुआ नीचे की ओर सरक कर बेड पर लेट जाता है।)

टीना: अ..आह…पापा…अ.उउआ.ह....

राजेश: बेटा…तुम एक स्त्री पहले हो और बाद में तुम्हारा प्यार…एक के बजाय तुम्हारे लिए वैराय्टी को भोगने का सुख है तो क्यों जबरदस्ती कर रही हो…(करीना अब गति पकड़ती हुई अपने होंठों से राजेश के लंड की नपाई करने लगती है)…तुम मेरी हो…अ..आह....तुम्हारा अंग-अंग मेरा है… (कहते हुए टीना को अपने सीने के उपर बिठा लेता है और अपनी उँगली को योनिच्छेद में डाल कर अन्दर ऐंठें हुए बीज के साथ छेड़खानी शुरु कर देता है)

टीना: अ..आह…अ.उउआ.ह...पापा.

राजेश: बेटा…थोड़ा सरक कर आगे की ओर आओ (उत्तेजित अवस्था में टीना राजेश के मुख पर अपनी चूत रख देती है)… अ..आह…(राजेश की लपलपाती हुई जुबान टीना की योनिछिद्र में घुस कर आग भड़का देती है)

टीना: आह.…अ.उउआ.ह....

(राजेश की जुबान ने टीना की चूत में खलबली मचा रही है। करीना ने राजेश के लंड को अपने गले तक निगल रखा है। कमरे का माहौल सिसकारियाँ और तेज साँसों से बोझिल हो रहा है। एकाएक टीना उत्तेजना से काँपती हुई झरझरा कर वासना के ज्वर में पिघल जाती है और निढाल हो कर साइड में लेट जाती है।)

राजेश: जान… इस को अब अपने दूसरे मुख का स्वाद लेने दो…आओ इस के उपर बैठ जाओ (इतना सुनते ही करीना अपने मुख से लंड को निकाल कर अपनी चूत के मुहाने पर रख कर धम्म से बैठ जाती है। वजन के दबाव की वजह से राजेश का लंड अपनी जगह बनाता हुआ सरक कर अन्दर तक जा कर धँस जाता है।)

राजेश: अ..आह.…

करीना: अ.उउआ.ह....

(करीना ने लंड की सवारी करते हुए गति पकड़नी शुरु कर दी है और राजेश की उँगलियों करीना की चूत की फाँकोँ को अलग कर के सिर उठाए बीज को घिसती है। करीना आँखे मूंद कर राजेश के लंड की मोटाई और लंबाई को नापती हुई अपनी उत्तेजना को शान्त करने में मग्न है। राजेश का एक हाथ करीना के स्तनों के साथ छेड़खानी करने में व्यस्त है। कभी कलश को सहलाते हुए निप्पलों को तरेड़ता है और कभी उंगलियों में दबा कर खींचता है और कभी कचकचा कर पीस देता है।)

करीना: अ..आह.…अ.उउआ.ह....उई…म… माँ…

राजेश: अ.उउआ.ह....

(एक झटके के साथ दोनों के अन्दर का उफ़नता हुआ ज्वालामुखी फट पड़ता है। राजेश एक आखिरी झटके के साथ निढाल हो कर करीना को बाँहों में भर कर लस्त हो कर पड़ जाता है। दोनों का मिश्रित प्रेमरस करीना की चूत से धीरे-धीरे रिसता हुआ राजेश की जांघों से होता हुआ नीचे बिछी चादर को अंकित करता है। टीना को भी अपनी ओर खींच कर अपने अंग से लगा कर राजेश कुछ देर अपनी धड़कनों को काबू में करता है।)

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:39 PM,
#22
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--22

गतान्क से आगे..........

राजेश: टीना…करीना…टीना

टीना: हूँ…

करीना: हूँ…

राजेश: मैं तुम दोनों से बहुत प्यार करता हूँ…क्या तुम दोनों मुझे आपस में बाँट सकती हो…

टीना: क्यों नहीं…क्या हमने अभी तक नहीं बाँटा था…परन्तु करीना…

करीना: टीना प्लीज जब हम दोनों अंकल को बाँट सकती है तो क्या तुम मुझे अंकल के साथ नहीं बाँट सकती…

टीना: पर… (राजेश खामोशी से दोनों के बीच होता हुआ वार्तालाप सुनता है)

करीना: पर क्या… अंकल ठीक ही तो कह रहे है… हम तीनों एक दूसरे के साथ कितना मजा कर रहे है… तुझे किस बात की तकलीफ है फिर…

टीना: परन्तु जब लीना दीदी…

राजेश: क्यों क्या हुआ लीना को… टीना क्या वह भी…

टीना: पापा… लीना दीदी लेस्बियन है। पहले वह मेरे साथ सोया करती थीं और फिर करीना ने भी लीना दीदी को जौइन कर लिया था… परन्तु जिस दिन से करीना ने आपके साथ काम सुख का आनन्द लिया है उस दिन से इसकी कायापलट हो गयी है…यह भी सही है कि जब से आपके लंड का स्वाद चखा है मेरी चूत की आग बहुत ज्यादा भड़क गयी है जिसको एक लड़की का संसर्ग बुझाने में पूर्णतः अस्मर्थ है।

राजेश: (टीना के बालों में उँगलियों को फिराते हुए) तो फिर परेशानी की बात क्या है…

करीना: अंकल… टीना को लीना दीदी कि रह-रह कर चिन्ता सता रही है…उसका कहना है कि जब दीदी को पता चलेगा की हम दोनों की चूत को लंड का स्वाद पसन्द है तो उनको बहुत आघात लगेगा। इस लिए टीना आपके साथ चुदाई के लिए मना कर रही है…

राजेश: (करीना की बात सुन कर खिलखिला कर हँस देता है)…यह बात है बस… पर बेटा अगर तुम्हारी दीदी ने अभी तक मेरे या किसी के लंड का स्वाद चखा नहीँ तो वह किस बात की वजह से अपने को लेस्बियन मान रही है…

टीना: नहीं पापा…ऐसी बात नहीं है। मुझे तो उन्होंने कुछ नहीं बताया था परन्तु मुझे लगता है कि दीदी ने किसी के लंड का स्वाद चख रखा है…

राजेश: टीना…तुम और करीना इसके बारे में सोचना छोड़ दो…तुम दोनों मेरी प्रेमिका हो और मै तुम्हारा…लीना को लौटने दो…मुझे विश्वास है कि इस बात का हल भी निकल आएगा…

(दोनों लड़कियाँ खुश हो कर राजेश से लिपट जाती हैं।)

राजेश: अब दोनों आराम करो…जल्दी से सो जाना (कह कर अपनी लुंगी समेट कर पहनता हुआ बेड से उतरता है। दोनों लड़कियों के माथे को चूम कर अपने कमरे की ओर रुख करता है। राजेश के जाने के बाद…)

करीना: टीना…अंकल सही कह रहें है। जब तक लीना दीदी की चूत ने लंड को निगल कर नहीं देखा तब तक उनको कैसे पता चलेगा की चूत और लंड का मिलन तो प्रकृति का नियम है… देखना एक बार अंकल ने दीदी की चूत खोल दी तो वह सब कुछ भूल जाएँगीं।

टीना: हाँ… शायद तू सही कह रही है… चल सो जा बहुत थक गयी हूँ।

करीना: हाँ…आज तेरे पापा ने तो मेरा अंग-अंग तोड़ कर रख दिया…बहुत थक गयी हूँ…अब सो जा यार…

(कहते हुए दोनों सहेलियाँ निर्वस्त्र हालत में एक दूसरे के साथ लिपट कर सो जाती है…।)

(रविवार की सुबह। राजेश, मुमु और टीना एअरपोर्ट की विजिटर गैलरी में खड़े हुए लीना की फ्लाईट का इंतजार कर रहे हैं।)

राजेश: अभी तक फ्लाईट लैंड नहीं हुई है…

टीना: पता नहीं और कितनी देर लगेगी?

राजेश: बेटा जब आनी होगी उससे पहले अनाउँस्मेन्ट हो जाएगा…मुमु तुम तब तक टीना को ले जाओ और सामने बैठ जाओ…

मुमु: आओ टीना…चल कर सामने बैठ जाते है।

राजेश: सुनो…सुनो…श्रीनगर की फ्लाईट लैंड हो गयी है…

(इतना सुन कर सब के चेहरों पर खुशी की लहर दौड़ जाती है और बेसब्री के साथ लीना का इंतजार करते हैं। कुछ मिनटों के बाद एक लड़कियों का झुण्ड एक दूसरे के साथ बातें करता हुआ गेट से बाहर आता हुआ दिखाई देता है।)

टीना: पापा…यह लड़कियाँ हमारे स्कूल की है…

राजेश:…ध्यान से देखना शायद लीना भी इसी ग्रुप में हो…

टीना: नहीं पापा…यह दूसरे सेक्शन की लड़कियाँ है…पापा वह रही दीदी…(खुशी से चील्लाती है) दीदी…दीदी (सामने से लीना अपनी सहेलियों के साथ इधर-उधर देखते हुए गेट से बाहर निकलती है और टीना को देखते ही अपना हाथ हिलाती है)

राजेश: लीना…(अपना हाथ हिला कर उसका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है)

(राजेश पर नजर पड़ते ही लीना अपनी सहेलियों को छोड़ कर राजेश की ओर भागती है और उसके सीने से लिपट जाती है। पीछे से टीना भी भागते हुए आकर लीना से लिपट जाती है।)

राजेश: बेटा…(पीठ पर हाथ फेरते हुए) कैसा रहा तुम्हारा ट्रिप…

मुमु: लीना…

लीना: मम्मी…(कहते हुए मुमु के गले लग जाती है)…पापा इट वाज फन… हाय टीना (कह कर टीना से लिपट जाती है)…सो लिटिल सिस्टर…आई मिस्ड यू अ लाट…

टीना: ओह दीदी…आई मिस्ड यू टू

राजेश: लीना…तुम जल्दी से जा कर अपनी टीचर और फ्रेंड्स से बाय कर लो…मुमु और टीना तुम लीना को ले कर बाहर आओ मै पार्किंग से कार निकाल कर लाता हूँ…(कहते हुए कार लेने चला जाता है। लीना अपनी सहेलियों से मिलने चली जाती है।)

मुमु: टीना…(सामने से लीना अपनी सामान की ट्राली ढकेलती आती दिखाई देती है) अपनी दीदी की जरा हेल्प कर्…

(दोनों बहने बतियाती हुई मुमु के साथ गेट की ओर बढ़ती है। अचानक किसी के चेहरे पर नजर पड़ते ही मुमु का चेहरा डर के मारे सफेद हो जाता है। सामने राजेश कार में बैठा हुआ तीनों का इंतजार कर रहा है और उन पर नजर पड़ते ही झट से उतर कर कार की डिक्की को खोलता है। लीना और टीना सामान रखवाने में राजेश की मदद करती है। दोनों बहने पीछे की सीट पर बैठ कर अपनी बातों का सिलसिला आगे बढ़ाती है। मुमु आगे की सीट पर राजेश के साथ बैठ जाती है। राजेश कार को घर की ओर बढ़ा देता है।)

राजेश: मुमु बड़ी खामोश हो…क्या बात है…

मुमु: नहीं…कुछ नहीं

राजेश: पर अन्दर तो तुम ठीक थीं पर अब बहुत सहमी सी लग रही हो…क्या बात है…

मुमु: कुछ नहीं…तुम…घर पर चल कर बात करेंगें…अभी नहीं

(राजेश अपनी नजर मुमु पर डाल कर अपना ध्यान सड़क पर लगाते हुए चुपचाप कार चलाता है। पीछे दोनों बहनें अभी भी बतिया रही है। घर पर पहुँच कर राजेश और मुमु सामान निकालने में टीना और लीना की मदद करते है। सब लोग अन्दर जा कर सोफे पर थकान से पसर जाते है।)

मुमु: लीना और टीना तुम दोनों अब कुछ देर आराम करो… तब तक मै खाने का इंतजाम करती हूँ…

टीना: मम्मी…

लीना: चल न …(कह कर अपने कमरे की ओर बढ़ती है और पीछे-पीछे टीना भी उठ कर अपनी बहन के कमरे में चली जाती है)

राजेश: अब बताओ…क्या हुआ था

मुमु: एअरपोर्ट के गेट पर मैने मंगल को देखा था…

राजेश: कौन मंगल…वही खूनी,…तुम्हारा नौकर…पागल हो क्या…भला वह वहाँ क्या करेगा। तुम्हें कोई गलतफहमी हो गयी है…

मुमु: नहीं…वह मंगल ही था। मुझे कोई गलतफहमी नहीं हुई है…उस कमीने को मै कैसे भूल सकती हूँ।

राजेश: मुमु…अगर तुम सही कह रही हो तो फिकर करने की बात है। तुमने अपने पिताजी को कब और कहाँ बुलाया है? यह जानना जरूरी है कि तुम्हारे पिताजी और मंगल के बीच क्या कुछ चल रहा है…

मुमु: मैनें कोई ऐसी बात नहीं की थी…जब भी उनसे बात करती हूँ तो उनके कटाक्ष सुन कर तन बदन में आग लग जाती है और मैं फोन रख देती हूँ।

राजेश: कोई बात नहीं…(दरवाजे की घंटी बजती है)

मुमु: मै देखती हूँ…(कहते हुए जाकर दरवाजे को खोलती है)…तुम…(आने वाले को देख कर गुस्से से भन्नाते हुए) तुम्हें यहाँ पर आने की हिम्मत… चले जाओ

राजेश: कौन है…मुमु किस पर बरस रही हो (कहते हुए दरवाजे की ओर आता है)…अरे आप हैं आइये…मुमु तुम्हारे पिताजी हैं…आने दो…ठाकुर साहिब अन्दर आईए…तुम भी आओ सुन्दरी…सौरी आभा आओ तुम्हारा ही घर है…

मुमु: क्या कह रहे हो राजेश…मै अपने घर पर इन लोगों की छाया भी नहीं पड़ने देना चाहती

राजेश: मै तुम्हारी परेशानी जानता हूँ…पर जब मैं अपने पिताजी की मौत को भूल सकता हूँ तो तुम से कहूँगा कि तुम भी पिछ्ली बातें भुला कर इन्हें माफ कर दो। ठाकुर शमशेर सिंह और आभा आप इनकी किसी भी बात का बुरा न मानना… (सारे लोग ड्राइंगरूम में आकर बैठ जाते है। शमशेर सिंह और आभा ड्राइंगरूम की भव्यता को निहारते है)

शमशेर: (मुमु की ओर देखते हुए) कैसी हो बेटी…

मुमु: आपकी बेटी तो उसी दिन मर गयी थी

शमशेर: न बेटी…ऐसा नहीं बोलते।

आभा: दीदी…कैसी हो? बहुत दिनों से आपकी याद आ रही थी (राजेश की ओर मुस्कुरा कर नजर डालते हुए) उस दिन जीजू मिले थे तब आपकी खैर-खबर ली थी और उस दिन से आपसे मिलने की इच्छा तीव्र हो गयी थी।

मुमु: तू बता कैसी है। इतने दिन कहाँ थी? अम्मा कैसी है…उनके बहुत एहसान है।

आभा: अम्मा को मरे तो तीन साल हो गये हैं। उनके मरने के बाद से मै पिताजी के साथ रह रही हूँ…आखिर इस उमर में उन्हें किसी के साथ की जरूरत है और मै भी कहाँ जाती सारे खेत तो मुकदमेबाजी में पहले ही बिक गये थे। अगर जीजू मदद न करते तो पता नहीं मेरा क्या होता।

मुमु: पगली अभी तो मै जिन्दा हूँ…तू मेरे पास पहले क्यों नहीं आयी। आखिर माँ के मरने के बाद मैनें ही तो तुझे पाला है।

आभा: दीदी आँख खोली तो आपको ही माँ माना है…दीदी छोड़ो पुरानी बातें…आप बताओ आप खुश तो हो…

मुमु: बहुत खुश हूँ…राजेश बहुत प्यार करते हैं मुझे

आभा: (राजेश को घूरते हुए) अच्छा…जीजू तो सभी को बहुत प्यार करते है।

राजेश: आप लोग बातें करो…मै आप लोगों के लिए कुछ चाय नाश्ते की तैयारी करता हूँ।

मुमु: नहीं आप बैठो…मै तैयारी करती हूँ।

राजेश: न तुम बैठो…यह लोग तुम से मिलने आए हैं। (कह कर रसोई की तरफ जाता है)

(शमशेर सिंह खामोशी से सब की बातें सुन रहा है और उसकी नजर मुमु पर टिकी हुई है। आभा सरक कर मुमु के पास आती है और अपनी आँखों से शमशेर सिंह को इशारे से अपनी ओर बुलाती है। शमशेर सिंह उठ कर मुमु के दूसरी ओर आकर बैठ जाता है।)

आभा: दीदी…हम दो साल से जीजू के फार्म हाउस पर नौकर की तरह काम कर रहे है…क्या जीजू ने आप को कभी हमारे बारे में नहीं बताया…

मुमु: (असमंजस में) नहीं तो। हाँ अभी कुछ दिन पहले राजेश कह रहे थे कि पिताजी को उन्होंने किसी दोस्त के पास काम पर रखवा दिया था पर अपने फार्म पर…

शमशेर: मुमु…जब से तू गयी है मेरी बर्बादी शुरू हो गयी…सिर्फ तेरे कारण ही मै उसके फार्म पर नौकरी कर रहा था…अब तू मुझे माफ कर दे जिससे मै अपने बुढ़ापे में आराम से मर सकूँ।

आभा: दीदी प्लीज जीजू को कुछ न बताना… वह बहुत खतरनाक और ऐयाश किस्म के आदमी है…। आपने पूछा था कि मै आपके पास पहले क्यों नहीं आयी बस इतना समझ लो कि उन्होंने मुझे अपना हमबिस्तर बनाने का भरसक प्रयत्न कर लिया परन्तु मै किसी तरह से उनके चंगुल में नहीं फँस पायी।

शमशेर: मुमु…वह निहायत कमीना आदमी है। आभा गवाह है कि उसने हमारे सामने कितनी लड़कियों के साथ अपने फार्म पर रंगरेलियां मनायी है। अभी कुछ दिन पहले की बात है कि वह एक स्कूल की लड़की को अपने साथ ले कर फार्म पर आया था।

मुमु: पिताजी आपके मुख से यह बातें शोभा नहीं देती। आप तो उस से भी बड़े कमीने हो क्योंकि आपने मुझे तेरह साल की उम्र में एक बच्ची की माँ बना दिया था…

आभा: दीदी…पिताजी ठीक कह रहे है। यह बहुत ही कमीना आदमी है। इसको त्याग कर हमारे साथ चलो…सुना है मेरी दो और बहनें है…अब तो बड़ी हो गयी होंगीं…कहां पर है

मुमु: अगर तुम लोग इसी तरह की बकवास करोगे…तो अभी और इसी वक्त मेरे घर से निकल जाओ…

(पैर पटकती हुई लीना आती है और दो अजनबियों को मुमु के साथ बात करते हुए देख कर ठिठक जाती है। सभी की निगाहें लीना पर पड़ती है।)

लीनाझल्लाती हुई आती है)…मम्मी मेरा सारा सामान कहाँ रख दिया…कुछ भी नहीं मिल रहा…ओह सौरी…(कह कर वापिस जाने के लिए मुड़ती है)

आभा: बेटी…इधर आओ…(लीना मुड़ कर आभा की ओर देखती है और प्रश्नवाचक द्रष्टि से मुमु को देखती है)

आभा: बेटी आओ न…मै तुम्हारी एक रिश्ते से मौसी लगती हूँ और… (इससे पहले कुछ बोलती राजेश हाथ में चाय की ट्रे और कुछ नाश्ते का सामान लेकर कमरे में प्रवेश करता है)

राजेश: और बेटा एक रिश्ते से यह तुम्हारी बहन भी लगती है। लीना बेटे आप अपने कमरे में जाओ।

आभा: (इठला कर) क्यों जीजू क्या हमारा कोई भी हक नहीं है। बेटा प्लीज मेरे पास आओ…

राजेश: (अनसुनी करते हुए) आप लोग चाय लीजिए…लीना तुम मेरे साथ चलो मै बताता हूँ कि तुम्हारा सामान कहाँ पर रखा हुआ है…(कह कर लीना का हाथ पकड़ कर अपने साथ ले जाता है।)

आभा: यह बड़ी वाली है न…

मुमु: हाँ…छोटी वाली का नाम टीना है।

शमशेर: (जाती हुई लीना को घूरते हुए) बहुत हसीन है…बिल्कुल तुम्हारे ऊपर गयी है। इस उम्र में तुम इतनी ही खूबसूरत दिखती थी।

आभा: पिताजी…कोई भी…दीदी तुम अपनी लीना और टीना की तो सोचो…जब वह कमीना स्कूली लड़कियों के साथ रंगरेलियॉ मनाने से नहीं हिचकता…इतनी सुन्दर और हसीन बच्ची को भला राजेश जैसा ऐयाश कभी छोड़ेगा…

मुमु: तुम लोग इज्ज्त से अन्दर आये हो…अब लगता है कि बेइज्जत हो कर बाहर जाओगे…

शमशेर: मुमु…तूने मेरी कई रातें रंगीन की है…और लीना और टीना उन्हीं रातों की देन है…क्या तुझे कुछ भी नहीं समझ आता…वह मुझसे तनवी और अपने बाप का बदला लेना चाहता है… तू क्या भूल गयी…

आभा: दीदी आप नादान न बनो…

राजेश: (पर्दा हटा कर गुस्से में आग बबूला होता हुआ अन्दर प्रवेश करता है)… ठाकुर तू जन्म-जात कमीना है। जिस थाली में खाता है उसी में छेद करता है। अपनी बेटी को मेरे खिलाफ भड़का रहा है जिस ने तेरी इतने दिनों तक देखभाल की…साले फाँसी हो जाती अगर मैने वकील नहीं किया होता…शायद वही हम सब के लिए अच्छा होता…

आभा: तुम तो रहने दो…जरूर पिताजी आपकी लड़कियों भाग्य ही खराब है कि सब इस लम्पट के जाल में फँस जाती है…

राजेश: (गुस्से से दहाड़ते हुए) सुन्दरी तूने शायद कितनी बातें झूठ बोली हो परन्तु एक बात बहुत सही कह रही है कि ठाकुर शमशेर सिंह ने अपनी सारी बेटियाँ शायद मेरे लिए ही पैदा की हैं। ठाकुर कुछ भी कहो तेरी एक-एक बेटी के लिए मै अपनी हजार जानों की कुर्बानी देने को तैयार हूँ…

(घमासान के शोर को सुन कर टीना और लीना अपने कमरे से निकल कर पर्दे के पीछे से अन्दर होती हुई लड़ाई को समझने की कोशिश में लगी हुई हैं।)

शमशेर: तेरा गन्दा खून तेरे सिर चड़ कर बोल रहा है… मै अपनी बेटी से बात कर रहा हूँ…

मुमु: पिताजी…मुझे पता है कि आप इस से क्यों नफरत करते है। यह आपके मुख से तनवी नाम के शिकार को ले उड़ा…पर कभी आपने सोचा कि कैसे जानते-बूझते इसने आपकी झूठन को अपने घर की जीनत बना ली और आपके पाप को अपना नाम दिया…

आभा: दीदी…यह सिर्फ हमारे को नीचा दिखाने के लिए ऐसा कर रहा है…

मुमु: अच्छा तू इतनी बड़ी हो गयी है कि मुझे सिखाएगी…(दिल की पीड़ा से सिसकती हुई)… मरते समय तनवी ने इसे मेरा और मेरी बच्चियों का ख्याल रखने को कहा था। बच्चियों के बाप ने तो दूसरी लड़की होने पर मुझे अपने घर से निकाल दिया था परन्तु बेचारा राजू आज तक अपनी पत्नी की बात को गाँठ बाँध कर अमल कर रहा है।

राजेश: मुमु…मै तुम्हें रोते हुए देख कर कमजोर पड़ जाऊँगा…प्लीज

आभा: तुम रहने दो…अपना नाटक बन्द करो। दीदी…लीना और टीना की सोचो आखिर यह कमीना उनका बाप नहीं है और अपनी कसम पूरी करने के लिए उनकी जिन्दगी बर्बाद कर देगा…

राजेश: मुमु तुम्हें इस बात की हैरानी तो होगी कि लेकिन सुन्दरी आखिर मे सही मायने में ठाकुर की औलाद है। मै तो तुम्हें पहले बता देता कि दाई अम्मा के मरने के बाद जब इस को यहाँ लाने के लिये गाँव गया था तो यह मुझ पर अपनी जवानी लुटाने की कसम खा रही थी…क्यों सुन्दरी अब बोलती बन्द हो गयी…पर साथ में शर्त रख रही थी कि तुम्हें और दोनों बच्चियों को अपने घर से बेदखल कर दूँ।तुम तो जानती हो कि ऐसा मै कभी भी नहीं कर सकता था तो मेरे इंकार से खफा हो कर इसने मुझे बदनाम करने की कोशिश करी थी…पर मेरी माँ इन सब बातों की गवाह थी जिसकी वजह से यह मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पायी। मेरी माँ ने इसे धक्के मार कर घर से निकाल दिया था। आखिर तनवी मेरी माँ की बहू नहीं बेटी थी तो भला वह कैसे तनवी की बात को झूठ्ला देती… मै तो स्वर्णाभा को ही ठाकुर की असली औलाद मानता हूँ क्योंकि जितना कमीना वह है यह उससे दो कदम आगे है।

आभा: (गुस्से से बिफरती हुई) सब झूठ है…बहुत झूठा है यह…

राजेश: (खिलखिला कर हँसते हुए) अच्छा सावित्री…तो तूने मेरा कभी भी बिस्तर गर्म नहीं किया? क्या पिछले हफ्ते फार्म हाउस पर मेरे साथ माला पढ़ रही थी… यही वह औरत है जो अपने बाप के साथ दो साल पहले जब फार्म हाउस पर आयी तो मुझे मेरा ही वचन याद करा रही थी…

मुमु: राजेश… तुम्हारे मेरे ऊपर बहुत एहसान है…बिना विवाह किए तुमने मेरी बच्चियों को अपना नाम दिया…कभी किसी को इस बात का एहसास नहीं होने दिया कि हम पति-पत्नी नहीं है। अगर मै नहीं जोर देती तो तुम कभी भी मेरे साथ संबंध नहीं बनाते…

राजेश: (घबराहट में) कौन है…पर्दे के पीछे… टीना…

(डरते हुए लीना और टीना सुबकते हुए पर्दे के पीछे से बाहर निकल कर कमरे मे प्रवेश करती है और राजेश की ओर देखते हुए भाग कर उस से लिपट जाती हैं।)

राजेश: न बेटा…न बेटा…रोते नहीं (उनको चुप करने की कोशिश करता है। मुमु भी भाग कर लीना और टीना के पास आ कर सिर पर हाथ फेरती हुई चुप कराने की कोशिश करती है। दोनों को मुमु के सुपुर्द कर के राजेश कमरे के बाहर जाता है।)

आभा: बेटा तुम अपने पिताजी से नहीं मिलना चाहोगे…(शमशेर सिंह की ओर इशारा करते हुए)…यह तुम्हारे और मेरे पिताजी है…

मुमु: आज तो हम पर कहर टूट पड़ा…(चीखते हुए) तुम मेरे घर से इसी समय निकल जाओ और मै तुम दोनों की सूरत नहीं देखना चाहती…

(राजेश एक बार फिर से कमरे में प्रवेश करता है। मेज पर धीरे से कागज का पुलिन्दा रखता है और फिर उस पुलिन्दे के साथ एक पिस्तौल रख देता है)

राजेश: ठाकुर और सुन्दरी आज तुम्हारे पास सिर्फ एक रास्ता है…जब तुम मेरे पास आये थे अपने लुटने का रोना सुनाने…तब मैने वह फार्म हाउस तुम्हारे नाम पर ट्रांसफर कर दिया था कि तुम्हारा बुढ़ापा आराम से गुजरे यह उसके कागजात है…अगर तुम आज और अभी फिर कभी भी यहाँ न आने का वादा करो तो यह कागज उठा लो हमेशा के लिए चले जाओ… और अगर एक क्षण की भी देरी की तो यह पिस्तौल से मै एक बहुत पुराना काम जो रह गया था आज पूरा कर दूँगा…।

आभा: पिताजी…(जल्दी से पुलिन्दा उठा कर शमशेर सिंह का हाथ थामती है) जीजू ने तो हमें…

शमशेर: (आभा के हाथ से पुलिन्दा छीन कर राजेश की ओर फेंकता है) मै कोई कुत्ता नहीं हूँ कि हड्डी मिलते ही दुम हिलाना शुरु कर दूँ…(झपटते हुए पिस्तौल उठा लेता है) आज मैं तुम्हारा बहुत पुराना काम खत्म कर देता हूँ…(राजेश की ओर निशाना लगाता हुआ गोली चला देता है)…

(पिस्तौल को ठाकुर के हाथ मे देख कर मुमु अपनी दोनों बेटियों को छोड़ कर शमशेर की ओर रोकने के लिए बढ़ती है। इस से पहले मुमु कुछ कर पाती पिस्तौल की गोली मुमु के सीने को चीरती हुई निकल गयी। सब अवाक् से खड़े देखते रह गये।)

आभा: (अचानक होश में आ कर) आपने यह क्या किया…भागो यहाँ से (कह कर शमशेर सिंह का हाथ पकड़ कर खींचते हुए बाहर की ओर भागती है)

राजेश: (मुमु को बाँहों मे उठा कर) बेटा जल्दी से ताला लगा कर के बाहर आओ हमें अभी अस्पताल जाना है…ठाकुर अगर आज इसको कुछ हो गया तो तुम्हें कहीं से भी खोद कर निकाल कर ऐसी मौत मारूँगा की…(भागता हुआ कार तक पहुँच कर घायल मुमु को पिछली सीट पर लिटाता है और लीना और टीना को ले कर सीधा अस्पताल की ओर रुख करता है)

मुमु: र…रा…जेश…तुम्हें इन दोनों का ख्याल रखना है…इनके उपर कभी पिताजी का साया नहीं पड़ने देना।

राजेश: तुम्हें कुछ नहीं होगा… बस आ गया…(तेजी से ब्रेक लगा कर कार को रोकता है)…बेटा तुम लोग मेरे पीछे-पीछे रहना…इमर्जेन्सी जल्दी…(वार्ड के लोग भाग कर आते है और मुमु को स्ट्रेच्रर पर लिटा कर अन्दर ले जाते है। राजेश भागता हुआ रिसेप्शन डेस्क पर आता है।)

राजेश: डाक्टर सोनी कहाँ है…जरा उन्हें अभी यहाँ बुलवाईए, इमर्जेन्सी है…

(इधर राजेश अपने रसूख का इस्तेमाल मुमु की जान बचाने के लिए कर रहा है और उधर मुमु जीवन और मौत के बीच झूल रही है। लीना और टीना सिसकती हुई अपनी माँ के लिए दुआएँ माँग रही है…। वाह री किस्मत, कैसी विडम्बना है कि एक बार फिर ठाकुर ने अपनी एक और लड़की को राजेश से मोहब्बत करने के कारण कुर्बान कर दी…)

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:40 PM,
#23
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--23

गतान्क से आगे..........

(होस्पिट्ल के वेटिंग लाउंज में राजेश, लीना और टीना बेसब्री से मुमु की खबर का इंतजार कर रहे हैं। राजेश के सीने पर सिर टिका कर लीना अभी कुछ देर पहले रोते हुए सो गयी है। टीना के चेहरे पर हवाइयां उड़ी हुई है और बीच में कभी-कभी सुबक उठती है। राजेश के चेहरे पर पीड़ा और चिन्ता के भाव साफ दिख रहे है। आप्रेशन थियेटर का दरवाजा खुलता है, एक डाक्टर और नर्स बात करते हुए बाहर निकलते है। राजेश उनको देख कर उठ जाता है।)

डाक्टर सोनी: राजेश…जो हम कर सकते थे हम ने कर दिया। अब सब उपर वाले के हाथ में है।

राजेश: हाँ यार…क्या उम्मीद है।

डाक्टर: यार क्या बताऊँ गोली तो जो नुकसान कर सकती थी उसने कर दिया। तुम समय पर ले आये तो हम कुछ कोशिश भी कर रहें है वरना उसके लिए भी हमारे पास समय नहीं मिलता… भाभी तो बेहोशी में तेरा नाम ले रही है…

राजेश: बेचारी अभी भी मेरी चिन्ता कर रही है…

डाक्टर: पुलिस का क्या करना है…यह पुलिस केस है पर मैने अपनी गारन्टी पर इलाज शुरु तो कर दिया है…आगे क्या करना है…

राजेश: यार…मुझे समझ नहीं आ रहा है। पता नहीं मुमु मुझसे क्या उम्मीद करेगी- उसके पिताजी का नाम लूँ या नहीं। यार जरा थोड़ी देर और नहीं रुक सकते…

डाक्टर: नहीं यार…वैसे ही बहुत देर हो गयी है

राजेश: प्लीज यार कुछ कर…मुमु को होश आने दे (टीना झपटती हुई उन दोनों की ओर बढ़ती है)

टीना: पापा क्या सोचना…(गुस्से से लाल होते हुए) मै उस आदमी को फांसी लगते हुए देखना चाहती हूँ। अंकल आप पुलिस को बुला लिजिए…

राजेश: बेटा…गुस्से से नहीं विवेक से काम लेना चाहिए (कहते हुए टीना को अपनी बाँहों मे भर कर फफक कर रो पड़ता है। टीना भी राजेश से लिपट कर रोने लगती है।)

डाक्टर: राजेश…संभालों अपने आप को…अगर तुम ही हिम्म्त छोड़ दोगे तो इनका क्या होगा… (कहते हुए अपने कमरे की ओर बढ़ जाता है और पीछे-पीछे नर्स भी वार्ड का राउन्ड लेने के लिए चली जाती है।)

राजेश: (टीना की पीठ पर प्यार से थपथपाकर चुप कराते हुए) बेटा…जब बदले का वक्त आएगा तब अवश्य बदला लेंगें पर अभी तो तुम्हारी मम्मी की सुरक्षा का सवाल है…

टीना: आप सच बताइए…क्या आप हमारे पापा नहीं हो…क्या वह राक्षस हमारा पापा है…

राजेश: बेटा तुम्हें क्या लगता है… कि एक दिन कोई भी आएगा और कहेगा मै तुम्हारा पापा हूँ तो तुम मान लोगी और इतने साल का मेरा प्यार बेमानी हो जाएगा…

टीना: नहीं पापा…(सिसकती हुई)आप ही मेरे और लीना के पापा हो…

राजेश: बेटा…तुम और लीना ही मेरे जीवन का सहारा हो…अगर तुम्हारे और मेरे बीच में कोई भी आया तो…(लीना की नींद टूट चुकी है और दोनों को देख कर इनकी ओर बड़ती है)

लीना: पापा…मम्मी कैसी है…अब तक कुछ अन्दर से खबर आयी…

राजेश: अभी खतरा बना हुआ है…आगे उपर वाले पर भरोसा है…

(तीनों फिर से सामने पड़ी कुर्सीयों पर बैठ जाते है। अन्दर मुमु जीवन और मौत के साथ घमासान होते देख रही है। जरा सा होश आता है तो राजेश को पुकारती है…ड्यूटी नर्स बाहर आ कर राजेश को आवाज देती है…)

राजेश: बोलिए…

नर्स: आपको बुला रही है परन्तु अब उनके पास ज्यादा समय नहीं है…आप उनसे मिल लें…मै डाक्टर को बुलाने जा रही हूँ।

राजेश: मै इनको भी साथ ले जाऊँ…इनको देख कर शायद भगवान को दया आ जाये…

नर्स: ठीक है…(कह कर फोन के पास चली गयी)

(धीरे कदमों से चलते हुए तीनों दरवाजा धकेल कर रूम के अन्दर चले जाते है। अन्दर मुमु बेड पर आँखें मूंदे लेटी हुई है। विभिन्न प्रकार के यन्त्र मुमु के अलग-अलग अंग से जुड़े हुए है। आहट सुन कर मुमु आँखे खोलती है। राजेश, लीना और टीना सिर्हाने खड़े हो कर ढबढबाई आँखों से मुमु को निहारते हैं।)

मुमु: (करहाते हुए)…राजू…मेरा समय आ गया है…

राजेश: तुम्हें कुछ नहीं होगा…

मुमु: लीना…टीना… हमारे लोगों ने इन्हें सिर्फ दुख दिया है… अब एक बार फिर तुम पर इनका भार डाल रही हूँ। कुछ भी हो जाए इन दोनों पर मेरे पिताजी का साया नहीं पड़ने देना…

राजेश: तुम नाहक ही चिन्ता कर रही हो…तुम्हें कुछ नहीं होगा

मुमु: लीना…तू बड़ी है देख टीना का ख्याल रखना…तुम दोनों कभी भी इनका साथ नहीं छोड़ना…राजू हर पल तुम्हारे साथ बीता हुआ मेरे जीवन के सुनहरे पल है…तनवी की कमी तो मै पूरी नहीं कर सकी पर हाँ तुमने अपने प्यार में कभी कोई कमी नहीं आने दी…जब तनवी से मिलूँगी तो उसे बताऊँगी कि राजेश… बेटा यह अकेले हो जाएगें इनकी देखभाल करना (कहते हुए आँखे मूंद कर खामोश हो जाती है)

(डाक्टर और नर्स भागते हुए अन्दर आते है…सामने लगे मोनिटर की ओर देखते ही ठिठ्क कर रुक जाते हैं)

डाक्टर: आप लोग बाहर जाईए…नर्स इन्हें बाहर निकालिए और जरा शाक पैड ट्यून किजीए…

(तीनों भारी मन से बाहर आ जाते हैं। कुछ ही समय बाद डाक्टर बाहर आता है)

डाक्टर: सौरी राजेश…हम भाभीजी को बचा नही सके… तुम मेरे रूम में आओ और पुलिस कार्यवाही के पेपर्स पर साइन कर दो…हम ब्रोट डेड की रिपोर्ट देंगें…

(तीनों एक बार फिर से फफक कर रो पड़ते है…।)

(ड्राइंगरूम रूम में तीनों चुपचाप बैठे हुए है। मुमु की मृत्यु को एक महीना बीत चुका है। ठाकुर और आभा को पुलिस पकड़ कर ले गयी है और उन पर खून का मुकद्दमा चल रहा है। धीरे-धीरे सब कुछ रोज की तरह से हो रहा है परन्तु सिर्फ मुमु की कमी खल रही है। दरवाजे की घंटी बजती है…)

राजेश: लीना…देखना कौन है…

(लीना दरवाजा खोलती है)

लीना: पापा…करीना है…आजा सब ड्राइंगरूम में बैठे है।

(लीना और करीना ड्राइंगरूम में प्रवेश करते है।)

करीना: नमस्ते अंकल…हाय टीना

राजेश: आओ करीना…

टीना: हाय…

(फिर सब नजरें झुका कर चुप बैठ जाते है)

राजेश: (सब के उदास चेहरे को देख कर) बहुत दिन हो गये है…चलो आज फार्म पर चलते है… थोड़ा मन बहल जाएगा…

टीना: मन नहीं है पापा…

लीना: पापा…आप हो आइए, मेरा भी मन नहीं है…

राजेश: आज कोई कुछ नहीं कहेगा…तुम्हारी मम्मी को बहुत तकलीफ होगी जब वह उपर बैठ कर तुम्हारे उदासीन चेहरे देखती होगी। आज फार्म पर हम सब लोग जाँएंगे… करीना तुम भी चलो…तुम्हारे घर पर मै बात कर लेता हूँ।

(बेमन से लीना और टीना उठ कर अपने कमरे में कपड़े बदलने के लिए जाते है। करीना नजरें झुकाए सोफे पर बैठी रहती है। राजेश उठ कर करीना के पास आ कर बैठ जाता है।)

राजेश: करीना…

करीना: हूँ…

राजेश: कैसी हो…

करीना: ठीक हूँ…

राजेश: क्या बात नहीं करोगी…बस ठीक हो

करीना: नहीं ऐसी कोई बात नहीं है…सोच कर हैरानी होती है कि वह लोग ऐसे भी हो सकते हैं

राजेश: हाँ तुम तो उनसे मिल चुकी हो…

करीना: मैं तो उस आदमी की नजरों से समझ गयी थी कि यह अच्छा आदमी नही है…जिस तरह से मुझे घूर रहा था…

राजेश: छोड़ो…यह सब…बहुत दिनों के बाद आयी हो…कभी मेरे बारे में नहीं सोचा…

करीना: रोज…परन्तु जो कुछ उस दिन हुआ था उस वजह से…।

राजेश: (करीना की कमर में हाथ डाल कर अपनी ओर खींचते हुए) तुम्हें पता नहीं कि तुम मेरे लिए क्या हो… कम से कम फोन पर तो बात कर सकती थीं। तुम मेरे जीवन का अहम् हिस्सा हो…।

करीना: (ढबढबाई आँखों से) आपको इस मुश्किल में देख कर मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ…(लीना और टीना कमरे में दाखिल होती हुई)

लीना: क्या समझ नहीं आ रहा था तुझे…

करीना: (झेंपती हुई) कुछ नहीं…

टीना: पापा…चलें क्या…

राजेश: हाँ (कह कर उठ खड़ा होता है)

(राजेश तीनों को ले कर कार में बैठ जाता है और अपने फार्म हाउस की ओर कार को ड्राईव करता है)

राजेश: आज क्या बात है सब जीन्स और कुर्ते पहने हुए हैं… मै वैसे ही दुखी हूँ और पिछ्ले दिनों में तुम्हारी मातमी सूरतें देख कर और भी ज्यादा परेशान हो गया हूँ…जाने वाला चला गया परन्तु उसकी बेहतर यादें हमें जीवन का सहारा देती है…

टीना: पापा…मम्मी की कमी बहुत खलती है और उन्हें याद करके…

राजेश: (बीच में बात काटते हुए) बेटा…तुम्हारी मम्मी को चहकती हुई टीना अच्छी लगती थी या मातमी सूरत वाली टीना…

करीना और लीना: (एक स्वर में बोलती हुई) शैतान टीना…

राजेश: यही तो मै भी कह रहा हूँ… अगर तुम खुश तो तुम्हारी मम्मी भी खुश और तुम दुखी तो तुम्हारी मम्मी भी दुखी…

लीना: पापा…बहुत दिनों से एक बात पूछना चाहती हूँ…

राजेश: वही न कि उस दिन की बातों में कितनी सच्चाई है…तुम्हारे पूछे बिना ही मैं बता देता परन्तु मै तुमसे पूछ्ना चाहता हूँ कि अगर कल तुम्हें कोई कहे कि मुमु तुम्हारी मम्मी नहीँ थी तो क्या तुम्हारा दिल मानेगा… क्या पैदा करना ही जरूरी है माँ या बाप बनने के लिए…

लीना: पापा मेरा यह मतलब नहीं था…

राजेश: बेटा…मुझसे पूछने के बजाय तुम्हें अपने दिल से पूछना चाहिए कि क्या कोई और तुम्हारे लिए मुझसे ज्यादा प्रिय हो सकता है…अगर हाँ तो मेरा रिश्ता कमजोर है और नहीं तो फिर सारी बातें बेमानी है…

लीना: पापा…मै मम्मी से ज्यादा आपसे प्यार करती हूँ…मेरे लिए सब बेमानी है परन्तु जो हमने उस दिन सुना था क्या वह सच है।

राजेश: बेटा इस दुनिया में बहुत सी बातें हैं जिनका तुम्हें पता नहीं है…अगर तुम जानना चाहती हो तो मै तुम्हें जरूर बताऊँगा परन्तु इतना हमेशा याद रखना पुराने घाव को कुरेदने से तकलीफ ही होती है…

(कार फार्म हाउस के गेट पर आ कर रुक जाती है…राजेश हार्न बजाता है लेकिन फिर कुछ याद करके खुद जा कर गेट खोल कर कार को अन्दर ले जा कर खड़ी कर देता है।)

टीना: पापा…यह तो बहुत सुन्दर जगह है आप पहले यहाँ हमें क्यों नहीं लाये थे…

राजेश: मै नहीं चाहता था कि तुम उन लोगों से मिलो।

लीना: वही जो उस दिन हमारे घर पर आये थे…(एकाएक) पापा…तनवी कौन थी…

टीना: हाँ…वह कौन थी…

राजेश: बाद में…पहले घूम कर देख तो लें कि यहाँ का क्या हाल है।

(राजेश तीनों लड़कियों को लेकर कर फार्म दिखाने ले जाता है। खुला और शान्त वातावरण, चारों ओर हरियाली, पहाड़ी के आँचल में फैला हुआ खेत, किनारे से कल-कल बहता हुआ मौसमी जंगली झरना, कुल मिला कर एक मनमोहक दृश्य।)

टीना: (इतने दिनों में पहली बार चहकते हुए) ब्यूटीफुल प्लेस…पापा मैं आपसे नाराज हूँ कि आप मुझे पहले यहाँ पर ले कर क्यों नहीं आए… करीना तुझे कैसा लगा?

लीना: हाँ पापा…बहुत सुन्दर जगह है। क्या मम्मी ने यह जगह देखी है?

राजेश: नहीं… अर…रे वहाँ कौन है…चलो वहाँ चल कर देखते है…

लीना: पापा…हम अपने स्विमिंग कास्ट्यूम ले आते तो अच्छा रहता…इस जगह हम आराम से तैरना सीख सकते है…

राजेश: वो तुम ऐसे भी सीख सकते हो…(तेज कदमों से बढ़ता हुआ पेड़ के पास जा कर रुक जाता है)…यहाँ तो कोई भी नहीं है…

करीना: हाँ मैने भी किसी को पेड़ की आड़ में खड़ा देखा था…

राजेश: चलो यहाँ से…(कह कर आउट हाउस की ओर बढ़ता है। तीनों लड़कियाँ भी राजेश के पीछे-पीछे आउट हाउस की ओर चल देती है।)

टीना: पापा…कहीं आपको कोई गलतफहमी तो नहीं हो गयी…यहाँ पर जंगली जानवर भी तो होते होंगें…शेर, चीता, साँप,…

लीना: टीना तू नाहक ही डरा रही है…यहाँ पर ऐसा कुछ भी नहीं है…क्यों पापा?

(राजेश दरवाजा खोल कर अन्दर का जायजा लेता है। करीना को एक महीने पहले की इस कमरे मे खेली हुई रंगरेलियां याद आते ही चेहरे पर शर्म कि लालिमा फैल जाती है।)

टीना: (करीना के भाव को पढ़ते हुए) करीना तुझे क्या हुआ…

करीना: कुछ नहीं…

(पीछे से किसी के आने की आहट होती है। चारों पीछे घूम कर देखते है तो अपने सामने सुन्दरी उर्फ आभा को खड़ा पाते है।)

आभा: यह तुम्हें क्या बताएगी…मै बताती हूँ (इतना सुन कर करीना के चेहरे पर हवाइयां उड़ गयीं)

राजेश: पहले तो तू बता आभा कि तू यहाँ क्या कर रही है…तेरी हिम्मत कैसे हो गयी यहाँ आने की…

आभा: मैं तो बीते तीन दिन से रह रही हूँ क्योंकि यह मेरे पिताजी की जगह है। तुम्हीं ने कहा था कि यह जगह तुमने मेरे पिताजी के नाम पर खरीदी है…तो क्या मै पूछ सकती हूँ तुम मेरी जगह पर क्या कर रहे हो…

राजेश: अच्छा…बहुत नीच खानदान की हो…पहली बात तो यह जगह मेरे नाम पर है। मैने ट्रान्सफर के कागजात तुम्हारे पिताजी के नाम पर बनवाए थे…जिससे कि उनका बुढ़ापा आराम से कट जाए…पर जेल से कब छूटीं…

आभा: बात क्यों बदल रहे हो…तुम्हारी बेटी ने इस छोकरी से कुछ पूछा था…क्या उसका जवाब नहीं दोगे…खैर यह क्या जवाब देगी मै बताती हूं यह छोकरी तुम्हारे बाप की रखैल है और कुछ दिन पहले इसी जगह पर एक पूरा दिन तुम्हारे बाप ने इसकी जवानी को भरपूर लूटा था…

(आभा की बात सुन कर लीना और टीना सकते में आ गयी और करीना लाज के मारे नजरें झुकाए जमीन में गड़ी जा रही है। बेबसी के आँसु करीना की आँख से टपकने लगे थे जिसे देख कर राजेश बेंचैन हो उठा है। राजेश अपना आपा खो कर आभा की ओर झपटता है और खींच कर उसके गाल पर एक चांटा रसीद कर देता है। इस अचानक वार से आभा चक्कर खा कर जमीन पर ढेर हो जाती है।)

लीना: पापा यह क्या कह रही है…आप और करीना

राजेश: हां…मै और करीना ही नहीँ…मैं और…

लीना: (गुस्से से बाहर की ओर भागती हुई)…तो जो उस दिन सब कह रहे थे वह सच है…

राजेश: (पीछे-पीछे भागते हुए) मेरी बात सुनो…लीना…प्लीज (एक पल के लिए ठिठ्क कर रुक जाता है।)

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:40 PM,
#24
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--24

गतान्क से आगे..........

(सामने से लीना को थामे मंगल पगडंडी से होता हुआ राजेश के पास आकर खड़े हो जाता है) राजेश: …मंगल…इसको छोड़ दे…

मंगल: क्यों…मेरे छुने से यह मैली हो जाएगी या तेरे लायक नहीं रहेगी…इसमें कोई शक नहीं ठाकुर ने एक से एक सुन्दर लड़की पैदा की है और जब जेल जा रहे थे तो उसने अपनी लड़की को मेरे हवाले करते हुए कहा था कि मंगल इनका भरपूर ख्याल रखना…आज तक सुन्दरी को बहुत जतन से संभाल रहा हूँ और उसकी जवानी को बड़े चाव से अपना हिसाब चुकता कर रहा हूँ। पर अब सुन्दरी से ऊब गया हूँ और अब से मै लीना और टीना का बड़े प्यार से ख्याल रखूँगा…

राजेश: तू क्या चाहता है…(अब तक करीना और टीना भी बाहर आ राजेश के साथ खड़ी हो कर सब कुछ देख रही है)…इसको छोड़ दे तुझे जितना रुप्या पैसा चाहिए वह मै तुझे दूँगा…

मंगल: वह तो लूँगा ही…जो तेरे पास है आज से मेरा ही तो है। (लीना के उभरे हुए सीने के उपर अपना हाथ फिराते हुए और कस कर एक स्तन को दबा देता है। डर और पीड़ा से लीना की चीख निकल जाती है। राजेश झपटने की कोशिश करता है तो मंगल दो कदम पीछे हो जाता है और लीना के पीछे से अपने हाथ को बाहर निकाल कर चाकू लहराता है।) ऐसी कोई गलती मत करना कि इसकी जवानी का स्वाद चखे बिना यह तेरे से बहुत दूर चली जाए…

राजेश: तेरी-मेरी दुश्मनी है…इस बच्ची ने तेरा क्या बिगाड़ा है…भगवान के लिए इसको जाने दे मै तेरे आगे हाथ जोड़ता हूँ…(अब तक आभा भी बाहर आ कर खड़ी हो जाती है)

आभा: मंगल तू लीना को छोड़ दे…

मंगल: क्यों…मेरी जान अब तेरे छेद में वो मजा नहीं रहा…राजू बेटा एक बात तुझे बता रहा हूँ…तुम्हारी दुश्मनी के चक्कर में मैनें बहुत मजे लिए है…मेरी मदद के लिए ठाकुर ने सुन्दरी को मेरे हवाले कर दिया…मुहँ-माँगे पैसे दिए और आज इसी दुश्मनी के कारण सुन्दरी ने इस हसीन कली को मेरी झोली में डाल दिया…बता अन्धा क्या चाहे दो आँखें…

राजेश: तेरी उम्र हो गयी है…कम से कम अपना बुढ़ापा तो अच्छे से गुजार ले…जो चाहिए आज माँग ले वरना कल तेरी इतनी भयानक मौत होगी कि तेरी रुह भी काँप जाएगी…

आभा: मंगल बेकार की बात मत कर…तू सारा खेल चौपट कर देगा… इसको छोड़ दे…पिताजी के वकील ने सारा इंतजाम कर लिया है…तू सिर्फ एक की सोच रहा है और पिताजी इस हरामी के चगुंल से दोनों को छुड़ाने की जुगत बनाए हुए है…

मंगल: तूने मेरी सारी ठरक पर पानी फेर दिया…(एक बार फिर से लीना के सीने के उभारों को बेरहमी से मसकते हुए)…पता नहीं इसकी जवानी का स्वाद कब चखने को मिलेगा…

आभा: मिलेगा…आखिर तेरी साली है…और यही क्यों…क्या टीना को भूल गया…जो मजा प्यार से खाने में है वह जोर जबरदस्ती में नहीं…छोड़ दे लीना को

(मंगल बड़े बुझे मन से लीना को अपनी गिरफ्त से आजाद कर देता है। लीना भागते हुए राजेश के सीने से लग जाती है। राजेश प्यार से लीना के सिर पर हाथ फिराते हुए उसे शान्त करने की कोशिश करता है। टीना और करीना भी राजेश के साथ लिपट कर फफक कर रो पड़ती है।)

मंगल: मेरी साली को मेरे लिए सँभाल कर रखना राजू…सुन्दरी इस कमसिन जवानी की सुगंध ने मेरी आग भड़का दी है…चल मेरी रानी अभी तेरे से ही काम चला लेता हूँ…(कहते हुए आभा का हाथ थाम कर सामने बने हुए शमशेर सिंह के कमरे मे ले जाता है)

राजेश: हमें अभी वापिस चलना है…(कहते हुए लीना का हाथ थाम कर कार की ओर बढ़ता है)…यह क्या नया चक्कर चला रहें है मुझे अपने वकील से बात करनी पड़ेगी…

(चारों के चेहरे की हवाइयां उड़ी हुई है। सब चुपचाप कार में बैठते है और वापिस घर की ओर जाते है। रास्ते में करीना के घर पर कार को रोकते हुए)

राजेश: करीना…आज जो भी सुना है उसका जिक्र किसी से भी नहीं करना… (कहते हुए कार को अपने घर की ओर मोड़ लेता है)

(घर पहुँच कर सीधा अपने कमरे में जा कर किसी से फोन पर बात करता है। टीना और लीना अभी भी बहुत डरी हुई है। शरीर पत्ते की भांति काँप रहा है और चेहरे पर डर के भाव साफ दिखाई पड़ रहे है। फोन पर बात करके राजेश ड्राइंगरूम में आता है जहाँ पर लीना और टीना बैठी हुई है।)

राजेश: बेटा, डरने की कोई बात नहीँ है… अभी थोड़ी देर में वकील साहिब आ रहे है…उनसे बात करके ही पता चल पाएगा… तुम्हारे लिए कुछ खाने के लिए बना दूँ या बाहर से मँगवा लें…

टीना: पापा…अब क्या होगा…

लीना: पापा…क्या हमें उसके पास रहना पड़ेगा…

राजेश: जब तक मै जिन्दा हूँ तो कोई भी ताकत तुम दोनों को मुझसे अलग नहीं कर सकती है…(दरवाजे की घंटी बजती है)…लीना जा कर दरवाजा खोलो…शायद वकील साहिब आये होंगें।

लीना: नहीं पापा…मुझे डर लगता है कि कहीं वह यहाँ पर दुबारा आ जाये…आप खोल कर देखिए…

(राजेश अपनी भयभीत बेटियों के मुख को देख कर बड़ा बेबेस महसूस करता है। दरवाजे को खोलने के लिए खुद जाता है…।)

(राजेश और वकील साहिब ड्राइंगरूम में प्रवेश करते है। दोनों लड़कियों को बैठा देख कर ठिठक कर रुक जाते है।)

राजेश: बेटा आप अपने कमरे मे जाओ…मुझे वकील साहिब से कुछ जरूरी बात करनी है…

वकील: नहीं…मेरे ख्याल में इनका यहाँ होना जरूरी है…अगर राजेश जी आपको कोई आपत्ति न हो तो…

राजेश: ठीक है…पर आप लोग चुपचाप बैठ कर सुनना…हाँ बोलिए वकील साहिब

वकील: कल मेरे आफिस में कोर्ट से नोटिस आया है कि आपने जबरदस्ती ठाकुर शमशेर सिंह की दो नाबलिग लड़कियों को अगवा कर के बंधक बना रखा है…उनकी माँ के मृत्यु के बाद उनकी कस्टडी उनके पिता को मिलनी चाहिए…यानि ठाकुर साहिब को मिलनी चाहिए।

राजेश: यह कैसे हो सकता है…इन दोनों के स्कूल में पिता की जगह मेरा नाम लिखा है…

वकील: ठीक है…परन्तु जो बर्थ सर्टिफिकेट है वहाँ पर ठाकुर साहिब का नाम है…अब तो कोर्ट के हाथ में है कि बताए कि कौन पिता है…

राजेश: अगर लड़कियाँ कहे कि वह मेरे साथ रहना चाहती है…क्या तब भी कोर्ट नहीं मानेगा…

(दोनों लड़कियाँ एक साथ सिर हिला कर हामी भरती है)

वकील: अगर लड़कियाँ बालिग हो तो…वरना असली पिता को कस्टडी दी जाएगी। आप उनके कोई नहीं लगते क्योंकि इनकी माँ के साथ आपने शादी नहीं की थी…वह तो लिव-इन रेलेशन माना जाएगा…

राजेश: आप कोई रास्ता निकालिए…आखिर इनका असली पिता जेल में है तो कोर्ट किसको कस्टडी देगा…

वकील: आपको कस्टडी मिलने के चांसेज बहुत कम है क्योंकि नेक्स्ट रिलेशन मौसी का है…

राजेश: तो क्या किया जा सकता है…मै किसी भी कीमत पर इनकी कस्टडी ठाकुर या आभा को नहीं लेने दूँगा…

टीना: पापा…मै मर जाउँगी पर उनके साथ नहीं जाऊँगी…

राजेश: न बेटा ऐसा नहीँ कहते…मेरे रहते हुए ऐसा कभी भी नहीं होगा…

वकील: जो सच है मैने आपको बता दिया है…

राजेश: वकील साहिब आप कोई रास्ता निकालिए…मै किसी भी हालत में इनकी कस्टडी उनको नहीं दे सकता…

वकील: देखिए कोर्ट तो सबसे पहली सुनवाई पर आपसे कहेगा कि बच्चियों की सुपुर्दगी ठाकुर और उनकी लड़की को दी जाए उसके बाद ही वो आपकी दलील सुनेगा…बहुत सोचने के बाद इसका एक ही हल है कि आप बड़ी लड़की की शादी कर दिजीए और फिर बड़ी लड़की और दामाद छोटी लड़की की जिम्मेदारी ले लें।

राजेश: अब इतनी जल्दी में एक लड़का कहाँ से ले कर आऊँगा।

वकील: कल तक आपके नाम का वारन्ट निकल जाएगा क्योंकि आप पर नाबालिग लड़कियों को जबरदस्ती अगवा करा हुआ है…पहले तो हमें आपको बचाना है…क्योंकि बड़ा गंभीर चार्ज लगाया है…

राजेश: क्या करें अब…

टीना: पापा…मेरे दिमाग में एक आईडिआ आया है…

राजेश: तुम्हें मैने कहा था कि तुम दोनों चुप रहोगी इस लिए अब वकील साहिब को अपना काम करने दो…

वकील: आप इन पेपर्स पर साइन कर दिजिए…ताकि हम आगे की कार्यवाही कर सकें…

(राजेश जल्दी से पेपर्स पर साइन करता है)

वकील: आप भी कुछ सोचिए और मेरी टीम भी सोच रही है…अब मै चलता हूँ।

राजेश: हाँ आप चलिए अगर बेल नहीं हो पाती तो मै इन दोनों को ले कर फरार हो जाउँगा…

वकील: आप मेरे से पूछे बिना ऐसा कोई काम नहीं करना…(कहते हुए बाहर की ओर जाता है।)

लीना: पापा…अब क्या होगा

राजेश: फिकर मत करो…

टीना: पापा प्लीज मेरी बात सुन लीजिए…अगर आप मेरी दीदी से शादी कर लें तो सारी मुश्किल दूर हो जाएगी…

राजेश: कैसे…नहीं यह नहीं हो सकता…

टीना: कल अगर आप को पुलिस पकड़ कर ले गयी तो वह दोनों हमारे को अपने साथ जबरदस्ती ले जाएँगे फिर हम क्या कर सकेंगें…

लीना: टीना तू यह क्या कह रही है…

टीना: दीदी…अगर मै सोलह बरस की होती तो मै पापा के साथ शादी कर लेती…पर क्या करूँ मुझे तीन साल इंतजार करना पड़ेगा… पापा तो वैसे भी हमारे पापा नहीं है…

लीना: क्या मजाक कर रही है…तुझे शर्म नहीं आती ऐसी बातें सोच कर

टीना: दीदी…

राजेश: (बात काटते हुए) लीना…मुझे लगता है कि टीना जो कह रही है उस बात में दम है…मै जरा वकील साहिब से बात कर के ही कुछ निर्णय ले सकूँगा…तुम यह बताओ कि तुम्हें कोई इस बात से एतराज है…

लीना: पापा…मै क्या कहूँ…मुझे पता नहीं बस इतना जानती हूँ कि आपके बिना मै मर जाउँगी पर उनके साथ नहीं जाऊँगी।

राजेश: फिर तो हमें उनसे बचने के लिए कुछ भी करना पड़े हम करेंगें…तुम दोनों मेरे साथ हो न…अगर तुम मेरे साथ मेरी बेटी बन कर नहीं रह सकती तो मेरी पत्नी बन कर तो रह सकती हो…। मै वकील साहिब से बात करने जा रहा हूँ…(कह कर राजेश फोन पर बात करता है)

टीना: दीदी…हम दोनों पापा के साथ शादी कर लेते है…फिर हमें कोई भी अलग नहीं कर सकेगा…

लीना: पता नहीं आगे क्या होगा…पापा नहीं होते तो सोचो हमारा क्या होता…वह कमीना इन्सान तो हर पल हमें बर्बाद करने की ताक में लगा होता…

(राजेश की फोन पर बात खत्म हो गयी है)

राजेश: मेरी बात हो गयी है…लीना तुम्हारी उम्र सोलह बरस और सात महीने है। वकील साहिब का कहना है कि कानूनी तौर से मै तुम्हारे साथ शादी नहीं कर सकता हूँ क्योंकि तुम्हारी उम्र अठारह साल से कम है…पर हम आर्य-समाजी तरीके से एक दूसरे के साथ विवाह कर सकते है और या फिर इस्लाम धर्म को कबूल करके विवाह कर लें… पर जो कुछ भी करना है वह हमें आज करना है क्योंकि उनका कहना है कि कल मुझे शायद पुलिस अरेस्ट करने की कोशिश करेगी… लीना, अब तुम बताओ…क्या करें

लीना: पापा…मै आपके साथ ही रहना चाहती हूँ… कुछ भी करिए

टीना: पापा…आप प्लीज मेरे साथ भी शादी कर लीजिए…

राजेश: बेटा…मै तुम दोनों के बिना नहीं जी सकूँगा। पहले तनवी चली गयी और फिर मुमु, अब ठाकुर तुम्हें मुझसे अलग करना चाह रहा है…मुझे समझ नहीं आ रहा कि वह मुझसे इतनी नफरत क्यों करता है कि वह अपने ही खून को उस लम्पट मगंल के हवाले करने में भी नहीं हिचक रहा है…

लीना: पापा…यह सब भूल जाइए और सोचिए कि आगे क्या करना है…

राजेश: टीना तुम मुमु की अलमारी से जरा लाल रंग की कोई साड़ी ले आओ और लीना को दुल्हन की तरह सजा दो…लीना…तुम जल्दी से तैयार हो जाओ…मै आर्य समाज मन्दिर में पंडित का इन्तज़ाम करता हूँ…

टीना: चलो दीदी…मै आपके विवाह के लिए आपको तैयार करने में आपकी मदद करती हूँ।

लीना: चलो…

(राजेश बाहर की ओर रुख करता है। टीना और लीना बेडरूम की ओर जाती है)

लीना: टीना…मुझे डर लग रहा है

टीना: किस बात का…।

लीना: पता नहीं फिर भी अन्दर से डर लग रहा है…

टीना: अपनी सुहाग रात का डर लग रहा है तो आप चिन्ता मत करो आपकी सुहाग की सेज पर आज मै सो जाउँगी…(खिलखिला कर हँस पड़ती है)

लीना: (शर्मा कर) हट बेशर्म…

(टीना अलमारी से एक चटक लाल रंग की साड़ी निकालती है। लीना अलमारी की सेफ को खोल कर मुमु के जेवरों का बाक्स निकालती है। टीना अपनी बहन को बड़े चाव से सजाती है। लीना साड़ी और जेवर पहन कर अपने आप को आईने में निहारती है।)

टीना: दीदी…आज तुम्हें देख कर पापा की छुट्टी हो जाएगी…सच

लीना: चल हट…

(दोनों बहनें अब राजेश का बेसब्री से इंतजार करती है। दरवाजे की घंटी बजती है…टीना दौड़ कर दरवाजा खोलती है। राजेश घर में प्रवेश करता है।)

राजेश: लीना तैयार हो गयी…

टीना: (मुस्कुराते हुए) आप खुद ही देख लो।

राजेश: कहाँ पर है…(बेडरूम से लीना बाहर निकलती हुई देख कर राजेश एक पल के लिए साँस लेना भूल जाता है)

टीना: क्यों क्या हुआ पापा…

राजेश: जोर का झटका जोर से ही लगा…लीना बेटा तुम बड़ी… हो गयी हो। चलो जल्दी…

(दोनों लड़कियों को अपने साथ लेकर कार से सीधा मन्दिर पहुँचता है। एलन और डौली गेट पर खड़े उनकी राह देख रहें है। लीना को देखते ही डौली दोनों लड़कियों को अपने साथ ले जाती है। राजेश सीधा विवाह वेदी पर जा कर बैठ जाता है और कुछ एक पलों के बाद डौली अपने साथ लीना को लेकर आती है और राजेश के साथ वेदी पर बिठा देती है। पंडितजी अपना कार्य शुरू करते है…)

राजेश: पंडितजी…आप हमारे विवाह का सर्टिफिकेट दे दीजिए…

पंडित: (सर्टिफिकेट राजेश के हाथ में थमाते हुए) आपका विवाह सम्पन्न हुआ…आज से आप पति और पत्नी है…

राजेश: धन्यवाद…

एलन और डौली: कोन्ग्रेच्युलेशन्स…लीना

टीना: (लीना के गले लग कर) दीदी…आज से आप मेरी मम्मी बन गयी…मुबारक हो।

लीना: पापा…सौरी…आपको आज से क्या कहूँगी

राजेश: तुम पापा ही कहो…अब जल्दी से घर चलो मुझे यह सर्टिफिकेट वकील साहिब के पास पहुँचाना है। एलन और डौली थैंक्स…टीना अपनी दीदी को ले कर कार मे जा कर बैठो…मै मन्दिर और पंडितजी का हिसाब करके आता हूँ।

(इतना कह कर राजेश मन्दिर में वापिस चला गया। एलन और डौली के साथ टीना और लीना कार की ओर बढ़ गयी। राजेश भी सारा काम निपटा कर कार मे आ कर बैठ गया। तीनों कार से घर पहुँचते है। आज के दिन की गहमागहमी से सब लोग थक चुके है। कुछ न समझते हुए एकाएक लीना फफक कर रो पड़ती है और राजेश से लिपट जाती है। राजेश उसे अपनी बाँहों मे भर कर चुप कराता है। टीना भी अपने आप को रोक नहीं पाती और दोनों से लिपट जाती है।)

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:40 PM,
#25
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--25

गतान्क से आगे..........

राजेश: बेटा…हिम्मत रखो। सब ठीक हो जाएगा…लीना तुम बड़ी हो अब टीना की देखभाल की जिम्मेदारी तुम्हारी है। मै वकील साहिब से मिल कर आता हूँ। रास्ते में रेस्टोरेन्ट से खाना पैक करा कर भिजवा दूँगा तुम लोग खाना खा लेना…(कह कर घर से बाहर चला जाता है।)

लीना: टीना…अब क्या करें

टीना: दीदी तुम पापा के बेडरूम में जा कर आराम करो…मै कपड़े बदल कर आती हूँ।

लीना: मै भी कपड़े बदल लेती हूँ…

टीना: नहीं दीदी…आज यह तुम्हारे कपड़े तो पापा आ कर उतारेंगें

लीना: हिश्…श। तू पागल है…

टीना: नहीं दीदी…देख लेना

लीना: टीना तुझे तो पता है कि मुझे यह सब पसन्द नहीं है…

टीना: मै शर्त लगा सकती हूँ कि आज के बाद तुम्हें सिर्फ यही पसन्द होगा…बाकि कुछ नहीं।

लीना: तुझे कैसे पता…क्या पहले तूने किसी के साथ किया है।

टीना: हाँ…लेकिन यह मत पूछना कि किस के साथ क्योंकि उसका नाम मै नहीं बताने वाली। पर मुझे लगता है कि पापा तुम्हारे साथ आज रात कुछ नहीं करेंगें…

लीना: क्यों क्या मेरे में कोई खराबी है…

टीना: नहीं दीदी…परन्तु तुम जब तक खुद पहल नहीं करोगी तब तक वह कुछ नहीं करेंगें।

(दोनों बहनें इसी तरह की बातें करती हुई राजेश के आने का इंतजार करती है। दरवाजे की घंटी बजती है। टीना जा कर देखती है कि रेस्टोरेन्ट से खाने की डिलिवरी हुई है। दोनों बहने बातें करती हुई खाना खाती है और बचा हुआ खाना राजेश के लिए रख देती है।)

टीना: दीदी तुम पापा के बेडरूम में जा कर आराम कर लो…मै भी थक गयी हूँ मै भी सोने जा रही हूँ।

लीना: मै अकेली…नहीं मुझे डर लगता है।

(इस से पहले लीना कुछ और कहे, टीना तेजी से चलती हुई अपने कमरे में चली जाती है। लीना भी झिझकती हुई राजेश के बेडरूम मे जाती है…।)

(रात के ग्यारह बज रहें है। राजेश धीरे से लाक खोल कर घर में प्रवेश करता है। चारों ओर सन्नाटा छाया हुआ है। राजेश आज की गहमागहमी से थक कर चूर हो गया है। वह सीधा अपने बेडरूम की ओर जाता है परन्तु भीतर घुसते ही ठिठ्क कर खड़ा हो जाता है। सामने लीना उसके बेड पर सुहाग की साड़ी पहने गहरी नींद में सोई हुई है। उसके सारे कपड़े अस्त वयस्त हालत में है। साड़ी सरक कर उपर हो गयी है और गोरी पिंडुलीयाँ नाईट्लैंम्प में चमक रही है। सीने का पल्लू भी हट गया है जिसकी वजह से लीना के गुदाज सीना लो-कट ब्लाउज के बाहर झाँक रहा है। धीरे-धीरे साँस लेने के कारण सीने के उभार एक लय के साथ उपर-नीचे होते हुए एक मादक निमन्त्रण देते हुए प्रतीत हो रहे है। उसके चेहरे पर एक हल्की मुस्कान और अधखुले पंखुड़ियों से गुलाबी होंठ कुछ करने के लिए आमंत्रित करते हुए दिख रहे है। एक क्षण के लिए इतना लुभावना दृश्य देख कर राजेश कि धड़कन रुक गयी और फिर हिम्मत करके बेड के सिरहाने जा कर खड़ा हो गया)

राजेश: (हल्की आवाज में) लीना… लीना (कोई जवाब न मिलने पर) बेटा…(कहते हुए लीना के निकट लेट गया)…

(इतने हसीन दृश्य को देख कर राजेश की सारी थकान काफुर हो गयी और उसकी धमनियों में रक्त का प्रवाह तेज हो गया। बड़ी मुश्किल से अपने आप को काबू में करके नींद में खोने की प्रतीक्षा करने लगा। काफी देर तक करवटें बदलने के बाद जब रहा नहीं गया तो उठ कर जाने को हुआ…तभी लीना ने करवट ली और राजेश के सीने से लिपट कर फिर गहरी नींद में सो गयी। अब लीना के होंठ राजेश के सामने आ गये और सीने की कठोर पहाड़ियाँ राजेश के सीने में चुभने लगी। इससे पहले राजेश कुछ हरकत करता लीना ने अपनी एक टांग उठा कर राजेश की कमर पर रख दी।)

राजेश: (धीमे से लीना के कान के पास मुख ला कर) लीना…

लीना: (नींद में) हूँ…

राजेश: बेटा…

लीना: (अबकी बार थोड़े उनींदेपन में) हाँ…

(कहते है कि कामाग्नि के मारे हुए व्यक्ति का दिमाग सुन्न हो कर रह जाता है और शरीर के हरेक अंग का अपना दिमाग सक्रिय हो जाता है। राजेश के होंठ अपने आप की लीना के खुले हुए गुलाबी होंठों पर छा गये। लीना के निचले कोमल होंठ को अपने होंठों में थाम कर राजेश ने उनका रसपान आरंभ कर दिया। राजेश के हाथ भी अपने आप सरक कर लीना के नितंबों पर बेधड़क विचरने लगे।)

लीना: उ…ऊ…अ…आह

राजेश: लीना…(कहते हुए लीना की साड़ी के भीतर अपने हाथ को सरका दिया)

लीना: (तेज चलती साँसें लेती हुई नींद से जागते हुए) पा…आह…हा…य (कुछ और बोलती एक बार फिर से राजेश ने लीना के होंठों को अपने होंठों से सीलबन्द करते हुए करवट ले कर उसे अपने नीचे दबा लिया।)

(थोड़ी देर लीना के होठों का रसपान करने के बाद राजेश की निगाहें लीना के चेहरे पर आते-जाते भाव पर पड़ी। लीना आँखे मूंदे उत्तेजित हो कर अपना सिर इधर-उधर पटक रही है। अचानक लीना ने अपनी आँखे खोली तो राजेश की निगाहों से आँखें चार हो गयीं। बेचारी ने झेंप कर आँखे झुका ली।)

राजेश: (लीना के माथे को चूम कर) लीना…

लीना: (आँखे झुकाए) हूँ…

राजेश: आज हमारी सुहाग रात है…तुम्हें पता है न…

लीना: (उत्तेजना से तेज चलती साँसें लेती हुई) हूँ…

राजेश: अगर आज तुम्हें पसन्द नहीं है… तो फिर हम किसी और दिन अपनी सुहाग रात मना लेंगें।

लीना: पापा…

राजेश: (अपने जोश को काबू में करके) बेटा…तुम पहले तो अपने कपड़े ठीक करके बेड पर नई-नवेली दुल्हन की तरह घूंघट डाल कर बैठ जाओ…

लीना: पापा…क्या यह जरूरी है…

राजेश: बेटा…सुहाग रात जीवन में सिर्फ एक बार आती है… इस लिए यह ठीक से हो तो अच्छा है क्योंकि तुम अपने सारे जीवन में इसी रात की कल्पना सँजोए उस हर पल का सुख भोगोगी जो आगे चल कर तुम अपने पति के साथ गुजारोगी…

लीना: पापा…मुझे डर लगता है…

राजेश: बेटा डर कैसा… यह तो एक सुहागन की नियति है…

(राजेश लीना के उपर से हटता है और लीना भी उठ कर बैठ जाती है। लीना बेड से नीचे उतर कर अपनी अस्त-वयस्त साड़ी और ब्लाउज को ठीक करती है और फिर पहने हुए मुमु के जेवरों को ठीक से सेट करती है।)

राजेश: बेटा तुम बहुत सुन्दर हो… और आज तो जैसे कोई अप्सरा जमीन पर उतर आयी है…

(लीना घूंघट निकाल कर चुपचाप बेड के कोने पर बैठ जाती है। राजेश धीरे से लीना की ओर बढ़ता है और प्यार से घूंघट उपर करता है। लीना की धड़कन तेज हो जाती है। वह निगाहें नीची कर के अगले पल का इंतजार करती है। राजेश अपनी उँगलियों से लीना के चेहरे को उपर करता है। लीना की आँखे मुंदी हुई है और होंठ हल्के से खुले हुए हैं। राजेश धीमे से अपनी उँगली को लीना के अधखुले होंठों पर फिराता है।)

राजेश: लीना…अपनी आँखे खोलो

लीना: (गरदन हिला कर मना करती है)…

राजेश: प्लीज…(अभी भी लीना के कपकंपाते होंठों पर अपनी उंगली फिरा रहा है)

लीना: (आँखें खोलती हुई) पापा… (लीना की आँखों में लाल डोरे तैरते हुए दिखते है)

राजेश: लीना… आज से हमारा रिश्ता बदल जाएगा

(कहते हुए अपने गुड़िया सी बैठी हुई लीना को अपने आगोश में ले कर अपनी ओर खींच लेता है। लीना चुपचाप राजेश की गोद में सिमट कर आ जाती है। राजेश बड़े प्यार से लीना के माथे को टीका हटाता है और उसका माथा चूमता है। फिर नाक में पड़ी नथ को निकालता है और लीना के होंठों को चूमता है। लीना के होंठों को अपने होंठों में भर कर जी भर कर उनका रसपान करता है। फिर अपने हाथ पीछे ले जाकर गले से हीरों वाला पेन्डेन्ट और सोने की जंजीर को खोल कर पास ही सहेज कर रख देता है। उसी हाथ से पीछे लगे हुए ब्लाउज के हुक को टटोलता हुआ धीरे से खोलता है)

लीना: (अचकचाती हुई अपने को छुड़ाती हुई) पापा… यह क्यों…

राजेश: यह इस लिए कि पति-पत्नी के बीच में कोई भी बाधा न हो…(कहते हुए लीना के सुराहीदार गरदन पर अपने होंठ की मौहर लगाता हुआ बचे-कुचे हुक खोलता है)

लीना: (झिझकती हुई) उंह…

(हुक खुलने से पीठ नंगी होने के एहसास से लीना शर्म से अपना चेहरा राजेश के सीने में छिपा लेती है। राजेश धीरे से ब्लाउज को उतार कर सिरहाने रख देता है। लीना को अपने से अलग कर के राजेश की निगाह एक बार लीना के सीने पर पड़ती है। दूध सी सफेदी पर गुलाबीपन लिए लीना के सुडौल और उन्नत वक्ष और जाली वाली ब्रा मे से झांकते हुए गहरे बादामी रंग के उत्तेजना से फूले हुए अनछुए निप्पल बाहर निकलने के लिए बेचैन प्रतीत होते दिखते है। राजेश धीरे से लीना को बेड पर लिटा देता और उसको अपने नीचे दबा कर एक बार फिर से उसके होंठों के साथ खिलवाड़ करते हुए पीछे लगे हुए ब्रा के हुक को खोल देता है। लीना के चेहरे के हर हिस्से को राजेश अपने होंठों से नापता है। इस बार राजेश अपनी जुबान के अग्र भाग से लीना के होंठों को खोल कर उसकी जुबान के साथ छेडखानी आरंभ करता है। इस नये एहसास से लीना की कामाग्नि भड़क उठती है और वह राजेश को अपनी बांहों मे कस कर जकड़ लेती है। अब लीना भी बढ़-चढ़ कर राजेश का साथ देती है और अपनी जुबान से राजेश के मुख के साथ अठखेलियां खेलती है। कुछ देर एक दूसरे के साथ जुबान लड़ा कर राजेश अलग होता हुआ एक झटके के साथ ब्रा को शरीर से अलग कर देता है।)

लीना: नन…नहीं पापा… (कहते हुए अपने हाथों से अपने निर्वस्त्र वक्ष को ढकने की कोशिश करती है…)

राजेश: लीना… (उसके दोनों हाथों को अपने हाथों मे ले कर अलग करता है)… कितने सुन्दर कलश है… (एक पल एकटक देखते हुए) क्या तुम्हें पता है कि यह हूबहू मुमु के जैसे हैं… सिर्फ साईज में फर्क है…

(लीना इस से पहले कुछ और बोले राजेश झपट कर एक निप्पल को अपने मुख में ले कर उसका रस सोखने में लग जाता है। लीना को इस वक्त महसूस होता है कि एक स्त्री और मर्द के मुख में क्या फर्क होता है। लीना अजीब सी कश्मकश महसूस करती है उसके निप्पल से करन्ट उत्पन्न होते हुऐ पुरे शरीर में फैलता हुआ सीधे नीचे जाकर योनिद्वार पर दस्तक देता है। राजेश स्तनपान करते हुए महसूस करता है कि लीना अपने हाथों को राजेश के गले में डाल कर उसके सिर पर दबाव बना रही है।)

लीना: (सिसकारी भर कर) नहीं करो न…पापा

राजेश: आज की रात हमारे बीच पति-पत्नी का प्यार और भी प्रगाड़ हो जाएगा।

लीना: पापा…आह… मैं आपसे सब से ज्यादा प्यार करती हूँ। पर डर लगता है कि …

राजेश: आज तुम्हारे जीवन की वह रात है कि इन पलों को तुम सारे जीवन अपने दिल में सँजोए रखोगी… मेरी बात मान जाओ (लीना को अपने आगोश में लेकर कभी कान पर चूमता, तो कभी होंठ पर, कभी निशाने पर स्तन होते और कभी खड़े हुए दो निप्पल्स होते)…

लीना: प…अपा प्लीज न…हीं करो… न्… (बार-बार के राजेश के वारों से लीना के जिस्म के भीतर हलचल बढ़ा दी थी)

(दोनों के जिस्म कामोत्तेजना से जल रहे है। राजेश धीरे से लीना से अलग होता है और उसे बेड पर खड़ा करता है। लीना प्रश्नवाचक नजरों से राजेश की ओर देखती है। लीना के सीने पर जगह-जगह लाली उभर आयी है। दोनों शिखर कलश और कलश बार-बार चूमने और चूसने की वजह से लाल हो गये है। एक गिफ्ट रैपर को खोलने की तरह राजेश धीरे से साड़ी को लीना के बदन से अलग करता है। अन्दर लगी हुई आग को बुझाने के लिए लीना भी अनजानी राह पर चलने को तैयार है।)

लीना: (उपर से निर्वस्त्र पेटीकोट में खड़ी हुई) पापा…

राजेश: (पेटीकोट के नाड़े को पकड़ कर एक झटके के साथ खींचते हुए) बस यह आखिरी दीवार है हम दोनों के बीच में इसे भी हटना होगा…(नाड़ा खुलने से पेटीकोट बेड पर सरक कर गिर जाता है।)

लीना: नहीं करो…पापा…प्लीज (कहते हुए अपने हाथ से कटिप्रदेश को ढक लेती है।)

राजेश: अरे अभी एक दीवार और बाकी है…(लीना की पैन्टी की ओर इशारा करते हुए) खैर अब तुम लेट जाओ…(लीना धम्म से बेड पर बैठ जाती है। राजेश एक बार फिर से लीना को बेड पर लिटा देता है।)

लीना: पापा…प्लीज

(राजेश ने लीना को नीचे लिटा कर उसके थिरकते होठों को अपने होठों के कब्जे में लेकर लगातार चूमना आरंभ किया। दोनों अनावरित उन्नत पहाड़ियों सामने पा कर, राजेश के हाथ भी अपने कार्य मे लग गये। कभी चोटियों पर उँगलियॉ फिराता और कभी दो उँगलियों मे निप्पल को फँसा कर खींचता, कभी पहाड़ियों को अपनी हथेलियों मे छुपा लेता और कभी उन्हें जोर से मसक देता। उधर आँखे मुदें हुए लीना का चेहरा उत्तेजना से लाल होता चला जा रहा है।

राजेश: लीना अब आगे का सफर शुरु करें…

लीना: हुं….उई....प.आ...पा.…उ.उ.उ...न्…हई…आह.....

(राजेश का एक हाथ दाएँ वक्ष के मर्दन में लग जाता है और दूसरे हाथ से पैन्टी से ढकी योनिमुख को छेड़ता है। लीना का उत्तेजना से जलता हुआ नग्न जिस्म बेड पर राजेश की आँखों के सामने तड़पता है। राजेश पैन्टी से ढके बालोंरहित कटिप्रदेश और योनिमुख को अपनी उंगलियों से टटोलता है।)

लीना: उई....पअ.पआ....…उ.उ.उ..न्…हई…क्या कर आह.हो....(लीना अपने दोनों हाथों से राजेश का हाथ पकड़ने की कोशिश करती है, पर राजेश की उँगलियों सरका कर नाइलोन की पैन्टी में छिपी जुड़ी हुई संतरे की फाँकों को अलग करती है। राजेश की उंगली योनिच्छेद में जगह बनाती अकड़े हुए बीज पर जा टिकती है।)

लीना: .उई...माँ….पा.……प…उफ.उ.उ.पा..न्हई…आह.....

(राजेश अपनी उंगली से घुन्डी का घिसाव जारी रखता है। अपने होठों से लीना के होंठों को सीलबन्द कर देता है, अपने एक हाथ से कभी उत्तेजित खड़े हुए निप्पलों पर उँगलियॉ फिराता और कभी दो उँगलियों मे निपल को फँसा कर खींचता, कभी एक पहाड़ी को अपनी हथेली मे छुपा लेता और कभी दूसरी को जोर से मसक देता। लीना की असीम आनंद से भरी हुई सिसकारियाँ बढ़ती जाती हैं।)

राजेश: (लीना के निचले होंठ को चूसते और धीरे से काटते हुए) लीना…कैसा महसूस कर रही हो…

लीना: (शर्म से अधमरी हुई जा रही) हुं… (एक सिसकारी भरती हुई)…ठीक हूँ…

(एक बार फिर से कभी जुबान से फूले हुए निपल को छेड़ता और कभी पूरी पहाड़ी को निगलने की कोशिश करता है)।

लीना: (राजेश को ढकेलती हुई) .उई....अ.पआ...पा.…उ.उ.उ.न्…हई…आह.....

(बार-बार कसमसाती हुई लीना को स्थिर करने के लिए लीना के नग्न जिस्म को अपने शरीर से ढक देता है। अब राजेश नीचे की ओर अपना ध्यान लगाता है। दोनों पहाड़ियों के बीच चूमता हुआ नीचे की ओर सरकता है। नाभि पर रुक कर राजेश अपनी उँगलियों को पैन्टी की इलास्टिक मे फसाँ कर एक झटके से नीचे की ओर घुटनों तक सरका देता है। हल्की रोशनी में राजेश के सामने सफाचट और फूले हुए पाव की भाँति जुड़ी हुई संतरे की फाँकें विद्दमान होती है। इस नजारे को देख कर राजेश की उत्तेजना भी चरम-सीमा पर पहुँच जाती है।)

लीना: पापा…नहीं प्लीज…

(राजेश से अब रुका नहीं जा रहा है। बहुत देर से उसके तन्नायें हुए लिंगदेव अब सिर उठाने के लिए तड़प रहें है। लीना को वासना की आग में जलते हुए छोड़ कर राजेश बेड से उतर कर एक तरफ खड़ा हो जाता है।)

राजेश: लीना…एक मिनट के लिए मेरी ओर देखो… (लीना अपनी गरदन मोड़ कर राजेश की ओर देखती है)

लीना: क्या हुआ…पापा

राजेश: (अपनी शर्ट के बटन खोलता हुआ)… बेटा तुम ने तो अपना जिस्म मेरे हवाले कर दिया परन्तु अब मेरा भी फर्ज है कि मै अपनी पत्नी के हवाले अपना जिस्म कर दूँ…(कहते हुए अपनी शर्ट निकाल कर फेंक देता है।)

लीना: पापा…

राजेश: (पैन्ट उतारते हुए) लीना अपनी आँखे बन्द कर लो…एक सरप्राइज है, क्योंकि आज मै तुम्हें पति-पत्नी के बीच की दूरी बिलकुल मिटा देना चाहता हूँ… (पैन्ट और जांघिये को एक साथ उतार कर जमीन पर फेंक कर अपने लिंगदेव को कैद से आजाद कर के लीना की बढ़ता है। लीना कनखियों से राजेश की ओर देखती है तो उसकी निगाहें एक गोरे रंग का सर उठाए एक लम्बा सा, परन्तु बहुत मोटा, अजगर कि भाँति झूमता हुए लिंग पर पड़ती है।)

लीना: पापा… यह क्या है…(एक ट्क देखती हुई जड़वत रह जाती है)।

राजेश: (लिंगदेव को अपनी मुठ्ठी में लेकर हिलाते हुए) लीना… यह मेरा लंड है…इसको लौड़ा भी कहते है…इससे मिलो यह आज से सारे जीवन के लिए तुम्हारे गुलाम है… इसको प्यार करो…

(राजेश बेड पर चढ़ कर (69) पोजीशन बना कर अपने कसरती नग्न जिस्म से लीना का बदन ढक देता है। बड़े प्यार से जुड़ी हुई संतरे की फाँकों को खोल कर अकड़ी हुई घुन्डी पर अपनी जुबान टिका कर बहता हुआ लीना का रस सोखता है।)

लीना: .उई...माँ….पअपा..न्हई…आह.....

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:41 PM,
#26
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--26

गतान्क से आगे..........

(राजेश अपनी जुबान से ऐंठी हुई घुन्डी के उपर घिसाव आरंभ करता है। लीना इस वार से हतप्रभ रह जाती है। नादान टीना और करीना के मुखों के सुख से कहीं ज्यादा एक खेले खाये मर्द की लपलपाती हुई जुबान का सुख लीना को पागल कर देता है। राजेश अपने होठों से लीना की योनि को अपने कब्जे में ले कर बार-बार अपनी जुबान को योनिच्छेद के भीतर डालने का प्रयास करता है।)

राजेश: बेटा… (उधर राजेश के हिलने से लिंगदेव भँवरें की भाँति बार-बार लीना के चेहरे और होंठों पर चोट मारते है। लीना अपना चेहरा बचाने की कोशिश में राजेश के लंड को अपने हाथ में ले लेती है। नरम हाथ का स्पर्श पा कर लिंगदेव एक जिवित गर्म लोहे की सलाख में तब्दील हो जाते है।)

लीना: …आह....पापा

(राजेश की जुबान योनि की गहराई और लम्बाई नापने की कोशिश मे वार पर वार कर रही थी और लीना के हाथ में कैद लिंगदेव ने भी अपने फूले हुए सिर को पूरी तरह उघाड़ दिया है। क्षण भर रुक कर, राजेश दो तरफा वार शुरु करता है। एक तरफ जुबान का वार योनिच्छेद पर, दूसरी ओर लिंगदेव का फूला हुआ नंगा सिर करीना के होंठों को खोलने पर आमादा हो रहा है। ऐसे दो तरफा वार लीना के लिए एक नया अनुभव है जिसको लीना बरदाश्त नहीं कर पायी और झटके खाते हुए झरझरा कर बहने लगी। असीम आनंद को महसूस करते हुए लीना के होंठ खुल गये। राजेश इसी क्षण की आस में बैठा था, जैसे ही होंठों के बीच थोड़ी सी जगह बनी हल्का सा जोर लगाते हुए लिंगदेव के सिर से लीना के मुख को सीलबन्द कर दिया।)

लीना: .गग…गगगू...म…गूग.गअँ.न्ई…आह.....

(साँस घुटती हुई लगी तो लीना को मुख पूरा खोलना पड़ गया, राजेश ने थोड़ा सा और भीतर सरका दिया। बेबस लीना जितना राजेश को उपर से हटाने की कोशिश करती, राजेश अपने लंड पर दबाव बढ़ा कर उसे और अन्दर खिसका देता। राजेश का लंड सरकते हुए अपनी जगह बनाते हुए लीना के गले में जा कर बैठ गया। राजेश ने पूरा लंड धँसा कर बाहर निकाल लिया क्योंकि अब वह भी ज्यादा देर ज्वालामुखी को फटने से रोक नहीं सकता था।) राजेश ने सीधे हो कर लीना को अपने आगोश में ले कर बेड पर लेट गया।)

राजेश: (धीरे से कन्धा हिलाते हुए) लीना…लीना…

लीना: (शर्माती हुई) हुं…

राजेश: तुम्हें यह कैसा लगा?

लीना: पापा… बहुत बड़ा है (अपना गाल सहलाते हुए और मुँह खोल कर बन्द करते हुए)…

राजेश: बेटा तुम्हें इसकी आदत नहीं है…(बात करते हुए अपने अन्दर उफनते हुए लावा को शान्त करते हुए)…आज के बाद तो तुम्हें इसको रोज ही अपने मुख से नहलाना पड़ेगा…आखिर पत्नी धर्म की लाज तो रखनी है।

लीना: प्लीज, पापा यह नहीं…

राजेश: बेटा अभी तो तुम्हें मेरी पूरी तरह से पत्नी बनना है… (कहते हुए राजेश एक बार फिर से लीना के उपर छा जाता है।)

(राजेश अपने तन्नायें हुए हथियार को मुठ्ठी में लेकर धीरे से एक-दो बार हिलाता है और फिर लीना के योनिमुख पर टिका देता है। लोहे सी गर्म राड का एहसास होते ही लीना के मुख से एक सिसकारी निकल जाती है। राजेश प्यार से संतरे की फाँकों को खोल कर अकड़ी हुई घुन्डी पर अपने फनफनाते हुए अजगर से रगड़ता है और फिर धीरे-धीरे रगड़ाई की लम्बाई बढ़ाता है)

लीना: …आह... …आह..... …आह..... (आँखें मूदें एक गर्म सलाख को सिर उठाती घुन्डी के सिर पर बढ़ते हुए दबाव और योनिच्छेद से उठती हुई तरंगों को महसूस करती हुई एक सिस्कारी भरती है)

(राजेश अपनी जुबान से करीना के होंठों को खोल कर उसके गले की गहराई नापता है। ऐठीं हुई घुन्डी के उपर लिंगदेव का घिसाव अन्दर तक लीना को विचलित कर देता है। बेबस लीना इस नये वार से हतप्रभ रह जाती है। राजेश तन्नाये हुए लिंगदेव को योनिच्छेद के अन्दर डालने का प्रयास करता है। उधर उत्तेजना में तड़पती लीना के चेहरे और होंठों पर राजेश अपने होंठों और जुबान से भँवरें की भाँति बार-बार चोट मार रहा है। गीली होने की वजह से अकड़ी हुई घुन्डी और भी ज्यादा संवेदनशील हो चुकी थी और राजेश का लंड सतह पर आराम से फिसलने लगता है।)

लीना: आह.....

(राजेश अपने लंड का घिसाव जारी रखता है। अपने होठों की गिरफ्त में लीना के होंठों को ले लेता है। एक हाथ से कभी उन्नत उरोजों पर उँगलियॉ फिराता और कभी दो उँगलियों मे निपल को फँसा कर तरेड़ता, कभी एक कलश को अपनी हथेली मे छुपा लेता और कभी दूसरी को जोर से मसक देता। लीना भी एक बार फिर से असीम आनंद में लिप्त होती जा रही हैं।)

राजेश: (लीना के होंठ को चूसते हुए) लीना… अब द्वार खोलने का टाइम आ गया है… रेडी

(राजेश प्यार से अपने तन्नायें हुए लंड को योनिच्छेद के मुख पर लगा कर ठेलता है। संकरी और गीली जगह होने की वजह से फुला हुआ कुकुरमुत्तेनुमा सिर फिसल कर जगह बनाते हुए भीतर घुस जाता है।)

लीना: …उ.उई.माँ..…पा.…पा…उफ.उ.उन्हई…आह.....

(राजेश कुछ देर अपना लंड अटका कर लीना के कमसिन उरोजों के साथ खेलता है ताकि योनिच्छेद इस नये प्राणी की आदि हो जाए। धीरे-धीरे आगे पीछे होते हुए सिर का घिसाव अन्दर तक लीना को विचलित कर देता है। इधर योनिच्छेद मे फँसा हुआ लंड अपने सिर की जगह बन जाने के बाद और अन्दर जाने मे प्रयासरत हो जाता है। उधर उत्तेजना और मीठे से दर्द में तड़पती हुई लीना के होंठों को राजेश अपने होंठों से सीलबंद कर देता है। बार-बार हल्की चोट मारते हुए राजेश जगह बनाते हुए एक भरपूर धक्का लगाता है। आग में तपता हुआ लंड लीना के प्रेम रस से सरोबर सारे संकरेपन और रुकावट को खोलता हुआ जड़ तक जा कर फँस जाता है। लीना की आँखें खुली की खुली रह गयी और मुख से दबी हुई चीख निकल गयी।)

लीना: उ.उई.माँ..अँ.उफ…मररउक.…गय…यईई…उफ..नई…आह..ह..ह.

राजेश: (पुरी तरह अपने लिंग को जड़ तक बिठा कर) शश…शशश्…लीना…ली…ना

लीना: पापा…निका…उ.उई.माँ..अँ.उफ…मररगय…यईई…निक्…उफ..लि…ए…आह..ह..ह.

राजेश: लीना…बस अब सारा दर्द खत्म…।

(लीना की चूत भी राजेश के लंड को अपने शिकंजे मे बुरी तरह जकड़ कर दोहना आरंभ करती। क्षण भर रुक कर, राजेश ने लीना के सुडौल नितंबो को दोनों हाथों को पकड़ कर एक लय के साथ आगे-पीछे हो कर वार शुरु करता है। एक तरफ लिंगदेव का फूला हुआ नंगा सिर लीना की बच्चेदानी के मुहाने पर चोट मार कर खोलने पर आमादा है और फिर वापिस आते हुआ कुकुरमुत्ते समान सिर छिली हुई जगह पर रगड़ मारते हुए बाहर की ओर आता हुआ लीना के पूरे शरीर में आग लगा देता है। लंड को गरदन तक निकाल कर एक बार फिर से राजेश अन्दर की ओर धक्का देता है। लीना की योनि भी अब इस प्रकार के दखल की धीरे-धीरे आदि हो गयी है।)

राजेश: (गति कम करते हुए) लीना अब दर्द तो नहीं हो रहा है…

लीना: हाँ …बहुत दर्द हो रहा है…

राजेश: (रोक कर)… ठीक है मै फिर निकाल देता हूँ… (और अपने को पीछे खींचता है)

लीना: (अपनी टाँगे राजेश की कमर के इर्द-गिर्द कस कर लपेटते हुए) …न…हीं, पापा अभी नही…

(धक्कों की बाढ़ आते ही राजेश के जिस्म मे लावा खौलना आरंभ हो गया और धीरे-धीरे वह अपनी चरम सीमा पर पहुँच चुका है। ज्वालामुखी फटने से पहले राजेश एक जबरदस्त आखिरी वार करता है और उसका लंड लीना की बच्चेदानी का मुख खोल कर गरदन तक जा कर अन्दर धँस जाता है। इस करारे वार की मीठी सी पीड़ा और रगड़ की जलन आग मे घी का काम करती है। लीना का शरीर धनुषाकार लेते हुए तनता हुआ बेड की सतह से उपर उठता है और एक झटके के साथ लीना की चूत झरझरा कर बहने लगती है। उसकी आँखों के सामने तारे नाँचने लगे और एकाएक राजेश के लंड को गरदन से जकड़ कर लीना की चूत झटके लेते हुए दुहना शुरु कर देती है। इस एहसास से सारे बाँध तोड़ते हुए राजेश का लंड भी बिना रुके लावा उगलना शुरु कर देता है। लीना की चूत को प्रेमरस से लबालब भरने के बाद भी राजेश अपने लंड को अन्दर फँसाये रखता है। लीना को अपने नीचे दबाये राजेश एक और नई-नवेली संकरी चूत को खोलने का लुत्फ लेता है। लीना का शरीर रजेश के नीचे शिथिल पड़ा हुआ है।)

राजेश: (उपर से हटते हुए) लीना…लीना…

लीना: (कुछ क्षणों के बाद)….गअँ.न्ई…आह..... (होश मे आकर अपनी आँखें खोलती हुई) पापा…

राजेश: (लीना के सिर को सहारा दे कर उठाते हुए) क्या हुआ लीना… क्या आँखों के आगे अंधेरा छा गया था।

लीना: (पल्कें झपकाती हुई) हाँ कुछ ऐसा ही हुआ था… आपको कैसे पता चला…

राजेश: तुम अपने प्यार की सातवीं सीढ़ी पर पहुँच गयी थी… जब मेरा हथियार तुम्हारी सुरंग को भेद कर पूरी तरह से भर देता है तो वही स्तिथि को फाईनल सीड़ी या प्रेममिलन के सातवें आसमान पर पहुंचना कहते हैं। हर नारी कामक्रीड़ा मे लीन हो कर इस स्तिथि से गुजरना चाहती है पर कुछ ही नारियों अपने जीवन मे इस स्तिथि का बोध कर पाती है। तुमने तो अपनी सुहाग रात पर ही इस स्तिथि का स्वाद चख लिया।

लीना: (राजेश से लिपटते हुए) पापा…कल क्या होगा… आपको पुलिस पकड़ कर ले जायगी क्या…

राजेश: (अपने सीने से लगाते हुए) न बेटा… अगर हम पति-पत्नी है तो कोई ताकत हमें एक दूसरे से अलग नहीं कर सकती है… चलो अब सो जाओ……क्या टाइम हो गया है…ओफ्फो सुबह के चार बज रहे है…

लीना: पापा… मै आपसे बहुत प्यार करती हूँ

(राजेश ने आगे बढ़ कर लीना को अपने आगोश में ले कर बेतहाशा चूमना शुरु कर देता है। लीना भी राजेश का पूरा साथ देती है। कुछ देर एक दूसरे के साथ प्रेमालाप के बाद, राजेश लीना को अपने आगोश में भर कर सो जाता है…।)

(सुबह के ग्यारह बज रहे हैं। टीना अपने कमरे से अलसायी सी नीचे ड्राइंगरूम में आती है। सब कुछ शान्त देख कर राजेश के बेडरूम की ओर बढ़ती है। दरवाजा खुला हुआ पा कर धीरे से कमरे प्रवेश करती है। सामने बेड पर निर्वस्त्र अवस्था में राजेश और लीना एक दूसरे के साथ बेल की तरह लिपटे हुए गहरी नींद में सो रहे है। टीना दबे कदमों से बेड के सिरहाने खड़े हो कर रात के प्रेमालाप का जायजा लेती है।)

टीना: (लीना के कन्धे को हिलाती हुई) दीदी…दीदी… पापा…उठ जाओ… ग्यारह बज रहे है

(आवाज सुन कर राजेश चौंकते हुए उठता है… लीना नींद में कसमसाती हुई करवट लेती है।)

राजेश: (टीना को देख कर झेंपता हुआ) टीना… आज बहुत देर हो गयी

टीना: हाँ पापा… यह देखो दीदी को… दीदी…दीदी

लीना: (उनींदी आँखों से उठती हुई) क्यों परेशान कर रही है… (आँखे खोलती हुई)

टीना: आप दोनों कपड़े पहन लो… क्योंकि अब कोई भी आ सकता है…

(इतना सुनते ही दोनों को अपने निर्वस्त्र होने का एहसास होता है। दोनों झेंप जाते है और उठने का प्रयास करते है। लीना पास ही पड़ी साड़ी को अपने उपर ढक लेती है और राजेश के उपर बची हुई साड़ी डाल देती है)

लीना: टीना की बच्ची अब से हमारे कमरे में खटखटा करके आया कर… आखिर एक पति-पत्नी के कमरे में ऐसे ही नहीं चले आते… क्यों पापा

टीना: अच्छा जी… दीदी तुमसे पहले मैं पापा की आधी घरवाली हूँ…इन पर मेरा भी उतना हक है जितना तुम्हारा… क्यों पापा

राजेश: (बेड से उतर कर बाथरूम की ओर बढ़ता हुआ) हां बिलकुल… मै जा कर तैयार होता हूँ कभी भी वकील साहिब आ सकते है… (कहते हुए बाथरूम में घुस जाता है)

टीना: दीदी…कैसी रही सुहाग रात… अजगर को पूरा निगल गयीं या नहीं…

लीना: एक बार अजगर को जगह दी तो उसने तो मेरा कचूमर निकाल दिया… सच टीना यह रात तो मै जीवन भर नहीं भूल पाऊँगी… शायद मै अब पापा के बिना नहीं रह पाऊँगी…

टीना: मैनें कहा था न… कि एक बार सुहाग रात होने दो फिर तुम हम सबको भूल जाओगी…

लीना: हाँ…चल अब मुझे तैयार होने दे… और तू भी जा कर तैयार हो जा… फिर देखती हूँ कि क्या करना है…

टीना: दीदी…प्लीज रात की कहानी सुनाओ न…

लीना: अभी नहीं… (उठते हुए)

टीना: दीदी तुम बहुत सुन्दर हो… लगता है कि पापा ने तुम्हारे अंग-अंग को अपने प्यार से लाल कर दिया… (लीना के नग्न सीने और गरदन की ओर इशारा करते हुए)

लीना: चल हट… बेशर्म

(बात करते हुए दोनों बहनें अपने-अपने कमरे में चली जाती है। कुछ देर के बाद राजेश तैयार हो कर ड्राइंगरूम में आता है।)

राजेश: लीना… टीना… तैयार हो कर नीचे आ जाओ… मैं नाश्ता की तैयारी करता हूँ (कहते हुए रसोई की ओर बढ़ जाता है)

लीना: पापा… मै तैयार हो कर आपकी मदद करने के लिए आती हूँ…

(लीना तैयार हो कर अपने कमरे से निकल कर टीना को आवाज दे कर नीचे रसोई की तरफ़ जाती है।)

लीना: टीना…जल्दी से तैयार हो कर नीचे आ जाओ…

(राजेश नाश्ते की तैयारी में लगा हुआ है। पीछे कुछ आहट सुन कर मुड़ता है तो रसोई के अन्दर लीना घुसती हुई दिखती है। लीना के चेहरे पर संतुष्टि आभा और नई नवेली दुल्हन की चमक देख कर राजेश खुशी से फूला नहीं समाता है। टाइट वेस्ट और स्कर्ट लीना के जिस्म के उभार और कटावों को निखार कर दिखाते हुए राजेश का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करती है। गले में पड़ा मंगलसूत्र लीना के हर कदम पर दोनों पहाड़ियों के बीच झूलता हुआ राजेश को गयी रात का एह्सास दिलाता है।)

लीना: पापा… मै कुछ मदद करूँ

राजेश: (लीना को अपनी बाहों मे भर कर) नहीं बस तुम यह सब मेज पर सजा दो…(कहते हुए लीना के होंठ चूम लेता है)… मेरा तो नाश्ता हो गया।

लीना: (शर्म से लाल होती हुई) पापा…

राजेश: (लीना के उभारों को सहलाते हुए) लीना तुम बहुत सुन्दर हो… (कहते हुए एक बार फिर से लीना के होंठों का रसपान करता है)

टीना: (अन्दर आ कर) पापा… मेरा नम्बर कब आएगा।

राजेश: (लीना को छोड़ कर) आजा…(टीना को अपनी बाँहों मे ले कर)…तेरा नम्बर आ गया (कहते हुए टीना के होंठों को चूम लेता है।)

लीना: पापा… चलिए नाश्ता लग गया है। अगर ऐसे ही नम्बर चलता रहा तो नाश्ता ठंडा हो जाएगा।

(तीनों हँसते हुए डाईनिंग टेबल पर करीने से लगे नाश्ते पर टूट पड़ते है। इधर-उधर की बातें करते हुए नाश्ता करते हैं। दरवाजे की घंटी बजती है। टीना हाथ में ब्रेड ले कर दरवाजा खोलने जाती है। गेट पर आभा को कुछ पुलिस वालों के साथ देख कर ठिठ्क जाती है और राजेश को पुकारती है)

टीना: पापा…पापा…

राजेश: कौन है…

टीना: आप बाहर आइए… (राजेश दरवाजे पर आता है)

राजेश: हाँ बताइए आप लोगों को क्या काम है…

आभा: इन्स्पेक्टर साहिब यही वह कमीना है जिसने मेरी भतीजियों को बंधक बना रखा है…।

राजेश: आभा… क्या बक रही हो…पागल हो गयी हो।

आभा: इन्स्पेक्टर आप इस आदमी को अभी अरेस्ट किजीए…

इन्स्पेक्टर: सर, इन्होंने हमारे पास कम्प्लेंट लिखाई है कि आपने इनकी नाबलिग भतीजियों को बहला फुसला कर अपने पास बंधक बना रखा है…हम इधर तफतीश के लिए आये है…

राजेश: देखिए इन्स्पेक्टर साहिब… आप लोग अन्दर आइए… बैठ कर भी हम बात कर सकते हैं…।

(सब लोग अन्दर आ जाते है और ड्राइंगरूम में बैठ जाते है।)

राजेश: देखिए…(लीना की ओर इशारा करते हुए) यह मेरी पत्नी लीना है और (टीना की ओर इशारा करता हुआ) यह मेरी छोटी साली टीना है… और जिसने शिकायत दर्ज कराई है वह मेरी बड़ी साली स्वर्णाभा है… इसको कई सालों से पागलपन का दौरा पड़ता जिस वजह से यह अपनी याददाश्त खो देती है। पता नहीं अबकी बार इसे क्या हुआ है…

आभा: (गुस्से से बिफरती हुई) यह कमीना झूठ बोल रहा है…

राजेश: तो ठीक है… यह कहती है कि मैनें जबरदस्ती इन दोनों को बंधक बना रखा है…आप इन्हीं से क्यों न पूछ लेते…

इन्स्पेक्टर: (लीना की ओर रुख करके) हाँ बेटा बताओ…

लीना: यह यह मेरे पति है… (गले में लटकते हुए मंगलसूत्र को दिखाते हुए)

टीना: यह मेरे जीजू है…

इन्स्पेक्टर: परन्तु अभी तो तुम इन्हें पापा कह रही थी…

टीना: हाँ… यह मेरे पापा से भी ज्यादा है क्योंकि यह मेरे पिताजी से भी ज्यादा मेरा ख्याल रखतें हैं… और यह जो खुद को मेरी मौसी बता रही है…कल यह एक गुंडे को लेकर आयी थी मेरी बड़ी बहन को अगवा करने के लिए…

इन्स्पेक्टर: बेटा आप लोगों की क्या उम्र है…

लीना: सत्रह साल

टीना: तेरह साल

इन्स्पेक्टर: सर… आप दोनों के विवाह का कोई गवाह या प्रमाण है?

राजेश: हाँ क्यों नहीं… हमारे विवाह की गवाही मिस्टर एलन और उनकी पत्नी मिसेज डौली या फिर आर्य समाज मन्दिर के पंडित शास्त्री दे सकते है… प्रमाण के लिए मै फोटो दिखा सकता हूँ और अगर आप चाहें तो हमारा मैरिज सर्टिफिकेट दिखा सकता हूँ…

आभा: यह बहुत बहुत झूठा आदमी है… यह हरामी मेरी बच्चियों की जिन्दगी बर्बाद कर देगा…

इन्स्पेक्टर: (थोड़ी कठोरता से) चुप… हम तफतीश कर रहें है न… अगर आप औरत न होती तो अब तक पुलिस के पास झूठी रिपोर्ट लिखाने के जुर्म में आपको बन्द कर दिया होता। जनाब क्या आप अपने विवाह के हमें प्रमाण दिखा सकते है?

राजेश: हाँ क्यों नहीं…(कहते हुए मेज पर रखी एलबम इन्स्पेक्टर को देता है)… जब तक आप इसे देखिए मै सर्टिफिकेट ले कर आता हूँ (कहते हुए अपने बेडरूम की ओर रुख करता है)

इन्स्पेक्टर: देखो बेटा आप लोगों को डरने की जरूरत नहीं है… अगर यह आदमी आपको जबरदस्ती अपने यहाँ रखे हुए है तो अब बता दो… यह आदमी तुम्हारा कुछ भी नहीं बिगाड़ पाएगा।

लीना: अंकल… क्या कोई लड़की ऐसे ही किसी भी आदमी को अपना पति कह सकती है… यह मेरे पति है… मैं इनसे बहुत प्यार करती हूँ

टीना: अंकल अगर यहाँ कोई गलत है वह यह हमारी मौसी हैं… इन से पूछिए कि यह हमें कब से जानती है… इन को आज मिला कर हम सिर्फ तीन बार मिले है…

आभा: इन्स्पेक्टर साहिब… उस ने इन्हें मेरे खिलाफ बरगला दिया है…

लीना: अच्छा… तो यह बता दो कि अब तक हम तुम्हारे पास कहाँ रहते थे…

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:41 PM,
#27
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--27

गतान्क से आगे..........

(राजेश कमरे में दाखिल होता हुआ)

राजेश: इन्स्पेक्टर साहिब यह रहा हमारा मैरिज सर्टिफिकेट…

इन्स्पेक्टर: (सर्टिफिकेट देखते हुए)… हाँ ठीक है (वापिस लौटाते हुए) अगर आपको एतराज न हो तो कृपया आप इसकी कापी दे सकते है… यह केस को फाइल करने में हमारी मदद करेगी… और अगर अपने गवाहों के नाम और पते भी दे दें…

राजेश: बिल्कुल… मै आपके थाने में यह दोनों चीजें कुछ देर में पहुंचा दूंगा…

इन्स्पेक्टर: सर… हम चलते है…(कहते हुए आभा को छोड़ कर सब उठ खड़े हुए) क्यों मैडम चलना नहीं है… चलिए

राजेश: रहने दिजीए… आखिर यह भी मेरी रिश्तेदार ठहरी… आपका बहुत थैंक्स (कहते हुए पुलिस पार्टी को गेट से विदा किया)

(आभा आँखें झुकाए चुपचाप सोफे पर बैठी हुई। लीना और टीना बहुत क्रोधित निगाहों से आभा को घूरती हुई।)

टीना: पापा… इन्हें क्यों रोक लिया…इनको हमारे घर से बाहर निकाल दो इसी वक्त…

राजेश: न बेटा, ऐसे नहीं बोलते। तुम भूल रही हो कि यह तुम्हारी मम्मी की छोटी बहन है… नहीं तुम्हारी बड़ी बहन है… क्या हमने आप को ऐसी शिक्षा दी है…

लीना: परन्तु पापा… कल देखा था इन्हें… फिर भी

राजेश: (आभा के नजदीक बैठ कर) बेटा तुम भूल रही हो कि इन्हीं के कहने पर मंगल ने तुम्हें कल छोड़ा था… अगर यह नहीं कहती तो वह तुम्हें कोई चोट भी लगा सकता था… आभा आज मैं तुम से अपना समझ कर कह रहा हूँ कि अब इस दुश्मनी को खत्म करो… क्या मुझे नीचा दिखाने के चलते तुम अपनों को नुक्सान पहुँचाओगी… लीना और टीना आखिर तुम्हारा अपना खून है…तुम्हारी भतीजी और तुम्हारी अपनी सगी बहनें है…

आभा: (धीरे से सिसकते हुए)… क्या यह मेरी किस्मत है कि पिताजी के लिए मै ही अपने को जलाऊँ…

राजेश: (आभा के सिर पर हाथ फेरते हुए) नहीं हम सब का फर्ज है परन्तु हम सब को सही और गलत का एहसास होना चाहिए… अगर कोई बात पिताजी की गलत है तो वह हमेशा गलत ही रहेगी… और गलत बात का साथ देने वाला भी गलत होता है… मुझे पूरा विश्वास है कि यह तुम्हारा असली रूप नहीं है… किसी कोने में तुम मुझसे आज भी उतना ही प्यार करती हो जितना तुम तनवी के रहते करती थीं… क्या तुम भूल गयी कि बचपन में तनवी को मेरे पास छोड़ने के लिए मेरी उँगली पकड़ कर आइस्क्रीम खाने की जिद्द करती थी और जब मै मना करता था तो तुम मुझसे रूठ जाती थीं। और फिर मै और तनवी तुम्हारे आगे-पीछे भागते थे कि तुम हमारे बारे मे अपने पिताजी से नहीं बताना… क्या उस वक्त भी तुम मुझसे इतनी नफरत र

आभा: (फफक कर रो पड़ती है) मै क्या करूँ… एक तरफ पिताजी और हमारी बर्बादी… दूसरी ओर तुम और फिर तुम्हारी वजह से तनवी दीदी की मौत… और फिर तुम्हारे कारण मुमु दीदी का हमसे मुँह फेरना… क्या करती…

राजेश: कुछ नहीं करती… जब मै तुम्हें लेने आया था तो मेरे साथ आ कर यहाँ रह कर देखती… अगर मै गलत होता तो मुझे सजा देती परन्तु अपने ही खून को उस जालिम मंगल के हवाले करने की सोचती भी नहीं…।

आभा: (राजेश के सीने से लग कर रोते हुए) हाँ तुम्हारे पास सब कुछ था परन्तु मेरे पास कुछ भी नहीं था जब मेरे पिताजी ने मुझे मंगल के हवाले कर दिया था… पहले पिताजी ने मेरा शोषण किया फिर मुझे उस कसाई के हाथ मे दे दिया था… तब तुम कहाँ थे…

(लीना और टीना अचरज से दोनों की बातें चुपचाप सुनती है। आभा की बातें सुन कर दोनों बहनों की आँखे नम हो गयीं।)

राजेश: तुम अब मंगल की चिन्ता छोड़ दो… वह अब कभी भी तुम्हें परेशान करने के योग्य नहीं रहेगा। कल रात को मैनें उसका इंतजाम कर दिया है… मुझे सिर्फ तुम्हारी चिन्ता थी क्योंकि मै तुम्हें कोई भी नुक्सान नहीं पहुँचा सकता था…

राजेश: क्या तुम दुबारा से मेरी सुन्दरी नहीं बन सकती… पीछे का सब भूल जाओ और अब हमारे साथ रहो… सौरी परन्तु पहले मुझे अपनी पत्नी से पूछना पड़ेगा… क्यों लीना

लीना: (भर्रायी हुई आवाज से) पापा… प्लीज इन्हें यहीं रोक लिजीए…

टीना: हाँ पापा… मौसी यहीं रुक जाइए… (कहते हुए आभा से लिपट कर रोने लगी)

आभा: राजेश क्या तुम मुझे आभा के रुप में स्वीकार नहीं सकते…

राजेश: अरे पगली… तुम मेरे लिए पहले भी आभा थीं और जब तुम सुन्दरी थी तब भी तुम मेरे लिए आभा थी… लेकिन पहले नाश्ता कर लें बहुत भूख लग रही है।

(सब डाईनिंग टेबल पर इकट्ठे हो जाते है और हँसी-खुशी नाश्ता करते है। लीना, टीना और आभा, तीनों बातों मे लीन है। दरवाजे की घंटी बजती है, राजेश जाकर दरवाजा खोलता है…)

राजेश: आईए वकील साहिब… सब दुरुस्त हो गया है (कहते हुए दोनों अन्दर आते हैं। सामने आभा को हँसते हुए लीना और टीना से बात करते हुए देख वकील साहिब अचरज भरी निगाहों से राजेश की ओर देखते है।)

वकील: अरे यह क्या देख रहा हूँ…

राजेश: यह एक परिवार है…सुबह का भूला शाम को घर आ जाए तो उस को भूला नहीं कहते… आभा, लीना और टीना… नाश्ता हो गया हो तो इधर आ जाओ…वकील साहिब आये है।

(तीनों उठ कर ड्राइंगरूम में आ कर सामने बैठ जाते है। कुछ ही देर में तीनों बहने की तरह हिल-मिल गयी है। बहुत दिनों के बाद आभा के चेहरे पर खुशी के भाव दिखाई दे रहें है।)

वकील: राजेश सबसे पहले तो आभा जी की शिकायत वापिस लेनी होगी… आभाजी आप को कुछ नहीं करना (एक कागज बढ़ा देता है)… इस पर साइन कर दें… बाकि मेरा दफ्तर देख लेगा…

राजेश: वकील साहिब मै चाहता हूँ कि आप ठाकुर साहिब की तरफ से पैरवी करें कि ज्यादा उम्र हो जाने कि वजह से उन्हें फाँसी की सजा उम्र कैद में तब्दील हो जाए… और मै अपनी वसीयत लिखवाना चाहता हूँ…

वकील: अब आपका विवाह हो चुका है…जायज बात है कि आप नयी वसीयत बनाना चाहेंगे… मुझे सिर्फ नाम दे दिजिएगा बाकी मै देख लूँगा… अच्छा चलता हूँ…

(वकील साहिब को छोड़ने राजेश बाहर चला गया और फिर से तीनों बहनें अपनी बातों मे तल्लीन हो गयीं…।)

(शाम का समय। सब ड्राइंगरूम में गपशप में मस्त है। टीना और आभा किसी गहन चर्चा में मशगूल है। लीना राजेश की गोदी में लेटी हुई है और राजेश अपनी उँगलियॉ लीना के बालों में फिराता हुआ सबकी बातें सुन रहा है।)

राजेश: मुझे लीना को कुछ बताना है… बेटा पिछले दिनों इतना कुछ हो गया कि तुम्हें सारी बात नहीं बता सका… पहले तुम अपनी छुट्टियॉ बिताने श्रीनगर गयी हुई थी, वहाँ से वापिस आयीं तो अपनी मम्मी को खो दिया… फिर तुम्हारी झटपट में मेरे साथ शादी हो गयी… कुछ भी बताने का समय नहीं मिल सका…

लीना: (राजेश के गले में बाँहे डाल कर) कोई बात नहीं पापा…

राजेश: न… आज हमें सारी बात साफ कर लेनी चाहिए… क्यों आभा… क्यों टीना…

आभा: राजेश क्यों बेचारी को उम्र से बड़ी बना रहे हो… इसके खेलने-खाने के दिन है…धीरे-धीरे इसे सब समझ में आ जाएगा…

राजेश: नहीं आभा… इसे सब कुछ जानने का हक है… लीना तुम मेरी दूसरी ब्याहता पत्नी हो…मेरी पहली पत्नी का नाम तनवी है (तनवी की याद आते ही राजेश की आँख नम हो गयी) जो अब इस दुनिया में नहीं है… तो कानूनन आज तुम मेरी पहली पत्नी हो…

लीना: तो क्या हुआ पापा…

राजेश: इसी लिए यह जरूरी है कि तुम्हें मेरे बारे में सब कुछ पता हो… अगर सब कुछ जानने के बाद तुम्हें लगता है कि मै तुम्हारा पति बनने के लायक नहीं हूँ…तो मै तुम्हें तलाक दे कर आजाद कर दूँगा… लेकिन तुम्हारे लिए मेरे प्यार पर इस बात का कोई असर नहीं पड़ेगा…

लीना: पापा मै आपसे बहुत ज्यादा प्यार करती हूँ…मै सोच भी नहीं सकती आप से दूर जाने की…

राजेश: बेटा क्या तुम मेरी पत्नी हो कर मुझे कुछ और लोगों के साथ बाँट सकती हो…

लीना: पापा…मुझे पता है कि आप आभा दीदी से बहुत प्यार करते हो… और आपके सम्बंध करीना के साथ भी हैं… इस से क्या फर्क पड़ता है…मुझे कोई तकलीफ नहीं है जब तक आप मुझसे प्यार करते हो…

राजेश: बेटा… यह बात नहीं है…आखिर इन को भी तो मेरे सहारे की जरूरत पड़ेगी… अगर इनमें से कोई सिर्फ मेरी पत्नी बनना चाहे तो बिना तुम्हारी रजामन्दी के मै कुछ भी नहीं करना चाहूँगा… ऐसे वक्त में तुम्हें कुछ तकलीफ हो यह मै नहीं कर सकता…

लीना: पर अगर इन को मालूम है कि मै आपकी पत्नी हूँ और फिर भी अगर यह आपके साथ रहना चाहें तो मुझे क्या आपत्ति होगी…

आभा: (बीच में बात काटती हुई) राजेश… लीना अभी छोटी और नासमझ है। मेरा तो यह विचार है कि इसे समय के साथ अपने विचार रखने की आजादी देनी होगी… पढ़ाई के बाद यह जैसा जीवन जीना चाहें इस को अपनी सारी अभिलाषाऐं पूरी करने की छूट देनी चाहिए। इसको ही क्यों, मेरा ख्याल है कि वह सब जो तुमसे प्यार करते तुम्हें उनको भी पूरी छूट देनी चाहिए…

राजेश: आभा… तुम सही कह रही हो… लीना तुम दुनिया की नजरों में मेरी पत्नी हो परन्तु तुम मेरी प्यारी गुड़िया भी हो जिसको अपनी मम्मी की सारी उम्मीदों को पूरा करना है… टीना यह मै तुम्हारे लिए भी कह रहा हूँ… मुमु चाहती थी उसकी दोनों बेटियाँ अपने जीवन की राह खुद तय करें… तो प्लीज अपनी मम्मी की इच्छा को पूरा करो…। आभा मै तुम से भी यही कहूँगा कि अपने भविष्य को बनाओ… अपनी छूटी हुई पढ़ाई को दुबारा शुरु करो… मै तुम सब के सपने पूरे करने मे अपना बिना हिचक साथ दूँगा…

टीना:…पापा…… सिर्फ आप दीदी के पति नहीं है, मेरे भी है…

लीना: क्या… (अचरज भरे स्वर में)

राजेश: हाँ… यह सच है। टीना शारीरिक सम्बंध और जीवन भर का साथ, दोनों में बहुत अन्तर है। तुम्हें जल्दी करने की जरूरत नहीं है… समय आने पर तुम अपना निर्णय लेना… मैं तुम्हारे निर्णय का आदर करूँगा और तुम्हारा साथ भी दूँगा।

टीना: नहीं पापा…इस मामले में आपकी नहीं चलेगी…आप मुझसे दीदी की तरह ही विवाह करेगें।

राजेश: बेटा इधर आओ… (टीना को अपने पास बिठा कर) जैसे तुम चाहोगी वैसे ही होगा, बस… लेकिन जब तुम अपनी पढ़ाई पूरी कर लोगी तब…

टीना: (जिद्द पकड़ते हुए) नहीं पापा… जैसे ही मै सोलहवें साल मे लगूँगी मुझे आपसे तब शादी करनी है…

राजेश: (हार मान कर) ठीक है…

आभा: तो मेरे बारे में क्या सोचा…

राजेश: अरे आज सब ही मेरे पीछे पड़ गये हो…(तभी दरवाजे की घंटी बजती है)

लीना: मै देखती हूँ… (कहते हुए गेट की ओर जाती है)

टीना: मुझे लगता है कि… (लीना और करीना बातें करती हुई अन्दर आती हैं)

राजेश: आओ करीना…

टीना: करीना…आज पापा को हम सब ने घेर रखा है… अच्छा हुआ तू भी आ गयी क्योंकि तेरे को भी पापा के साथ रहने का निर्णय करना है…

राजेश: हाँ… आभा मुझको लगता है कि मेरा हरम पूरा हो गया है…

आभा: (खिलखिला कर हँसते हुए) हाँ हम सब तुमको छोड़ेंगी नहीं…तुम सोच लो कि तुम्हें हम सब का ख्याल रखना है… कैसे रखोगे…।

राजेश: (हँसते हुए) हाँ मै आज वचन देता हूँ कि मै तुम सब का पूरी तरह ख्याल रखूंगा…

आभा: तनवी और मुमु आज जहाँ भी होंगी… आज तुम्हें देख कर उन्हें बहुत शान्ति मिलेगी।

लीना: आभा दीदी… यह तनवी की क्या कहानी है…

आभा: लीना… तनवी मेरी बड़ी बहन थी (राजेश की ओर देख कर) राजेश मै समझ सकती हूँ कि तुम करीना से क्यूँ इतना लगाव रखते हो… वाकई में चेहरे और शरीर की बनावट में हुबहू करीना बिल्कुल तनवी की कापी है…

राजेश: हाँ आभा…तुम सही कह रही हो। जब करीना को मैने पहली बार देखा था तो मुझे लगा था कि तनवी वापिस आ गयी है… यह तब मेरे ख्याल से आठ वर्ष की होगी… फिर जब भी यह टीना के साथ घर पर आती थी तो मेरी निगाह इस पर जा कर टिक जाती थीं… कई बार मुझे आत्मग्लानि होती थी…पर दिल था कि मानता नहीं…

करीना: अंकल… तनवी कौन थी…

आभा: उसी के बारे में तो बता रही थी…वह मेरी बड़ी बहन थी… लीना की मम्मी से छोटी… तुम्हारे प्रेमी की पहली पत्नी… बहुत सुन्दर और मिलनसार थी। तनवी और राजेश की प्रेम कहानी तब शुरु हुई थी जब राजेश स्कूल पास करके अमेरिका जाने से पहले अपने घर आया था। अमेरीका जाने की पूर्व रात को इन दोनों ने गाँव के मन्दिर में विवाह कर लिया था।

क्रमशः
Reply
07-12-2018, 12:41 PM,
#28
RE: Jawan Ladki Chudai कमसिन कलियाँ
कमसिन कलियाँ--28

गतान्क से आगे..........

आभा: लीना… तनवी मेरी बड़ी बहन थी (राजेश की ओर देख कर) राजेश मै समझ सकती हूँ कि तुम करीना से क्यूँ इतना लगाव रखते हो… वाकई में चेहरे और शरीर की बनावट में हुबहू करीना बिल्कुल तनवी की कापी है…

राजेश: हाँ आभा…तुम सही कह रही हो। जब करीना को मैने पहली बार देखा था तो मुझे लगा था कि तनवी वापिस आ गयी है… यह तब मेरे ख्याल से आठ वर्ष की होगी… फिर जब भी यह टीना के साथ घर पर आती थी तो मेरी निगाह इस पर जा कर टिक जाती थीं… कई बार मुझे आत्मग्लानि होती थी…पर दिल था कि मानता नहीं…

करीना: अंकल… तनवी कौन थी…

आभा: उसी के बारे में तो बता रही थी…वह मेरी बड़ी बहन थी… लीना की मम्मी से छोटी… तुम्हारे प्रेमी की पहली पत्नी… बहुत सुन्दर और मिलनसार थी। तनवी और राजेश की प्रेम कहानी तब शुरु हुई थी जब राजेश स्कूल पास करके अमेरिका जाने से पहले अपने घर आया था। अमेरीका जाने की पूर्व रात को इन दोनों ने गाँव के मन्दिर में विवाह कर लिया था।

टीना: पापा… तनवी दीदी कैसी थी?

राजेश: बेटा…बिल्कुल तुम्हारी तरह थी… (एक पल के लिए राजेश अपने ख्यालों मे खो गया और अचानक राजेश जोरों से चीखता है जैसे कि उसे बिजली का करन्ट लगा हो)……अरे…अरे…(कहते हुए चक्कर खा कर बेहोश हो जाता है)

आभा: (उठ कर राजेश की ओर आती हुई) क्या हुआ राजेश…

(टीना और लीना भी राजेश की ओर बढ़ती हैं। सब मिल कर राजेश को उठाने की कोशिश करते है। करीना धीरे से अपनी जगह से उठ कर फ्रिज से एक ठंडे पानी की बोतल निकाल कर ले आती है।)

करीना: प्लीज आप लोग इनके इर्द-गिर्द से हट जाओ… (सारे राजेश को घेरे खड़े लोग हट जाते है)… आप लोग अपनी जगह पर जा कर बैठ जाइए…

(राजेश के चेहरे पर करीना ठंडे पानी के छीटें मारती है। राजेश को धीरे-धीरे होश आता है। जैसे ही राजेश अपनी आँखें खोलता है करीना से आँखें चार होती है…राजेश झपट कर करीना को अपने आगोश में लेकर रोने लगता है। लीना, टीना और आभा अवाक हो कर सारा दृश्य देख रहे हैं। करीना धीरे-धीरे राजेश को थपथपाती हुई सांत्वना देती है। थोड़ी देर के बाद जब राजेश का रोना कम होता है तो सब प्रश्नवाचक निगाहों से राजेश को घूरते है।)

लीना: पापा…आप को क्या हो गया था…

आभा: राजेश मैने कभी भी तुम्हारा यह रूप नहीं देखा था… क्या हुआ?

राजेश: (उनकी बात को अनसुना करते हुए) मुझे माफ कर दो।

करीना: अंकल आपको क्या हो गया है…?

राजेश: (हड़बड़ा कर करीना से लिपटते हुए) तनवी… मैनें तुम्हें पहचान नहीं पाया प्लीज मुझे माफ कर दो… (सब लोग हतप्रभ रह जाते है)

आभा: राजेश… तुम को क्या हो गया है…यह तनवी नहीं करीना है…

राजेश: (अपने आप को काबू में करते हुए) आभा… यह आज करीना है… पर यही तनवी है। पच्चीस साल पहले की कहानी हुबहू दोहराई गयी है… मुझे बात करते हुए अचानक ख्याल आया कि करीना की उम्र और तनवी की उम्र में कोई अन्तर नहीं था जब मैं उनके प्रेम कायल हो गया था। उस वक्त हमारा मिलन नहर के किनारे तारों की छाँव मे हुआ था और कुछ दिन पहले करीना के साथ मेरा मिलन भी रात को खुले आसमान के नीचे हुआ था… यह सब चीजों को मैने कैसे अनदेखा कर दिया…।

आभा: राजेश… यह इत्तेफ़ाक़ भी हो सकता है… कि उम्र, जगह और समय लगभग एक ही जैसा था… (टीना और लीना भी गरदन हिलाती हुई हामी भरती है)

राजेश: हाँ यह एक इत्तेफ़ाक़ हो सकता है… करीना प्लीज मेरे लिए तुम अपनी टी-शर्ट उतारो…

करीना: (झिझकती हुई टीना और आभा की ओर देखती है)…अंकल

राजेश: प्लीज उतारो… सालों से मेरे दिमाग में धूल की परत जमा थी और मुझे याद नहीं आ रहा था कि वह चिन्ह मैनें कहाँ देखा था…पर आज बात करते हुए सारी धूल हट गयी है और अब मुझे सब याद आ गया है… आभा यह तुम्हें अच्छी तरह याद होगा…तनवी के बाँये स्तन पर कहाँ पर तिल था…

आभा: हाँ, तनवी के बाँये स्तन के नीचे की ओर तिल था…।

राजेश: (खुशी में काँपता हुआ) करीना…प्लीज टी-शर्ट उतार कर दिखा दो…

(सब उत्सुकतावश करीना से दिखाने के लिए आग्रह करते हैं। करीना झेंपती हुई अपनी टी-शर्ट उतारती है। राजेश झपट कर करीना की ब्रा को हटा कर बाँये स्तन को हाथ में ले कर नीचे की ओर बने हुए तिल को दिखाता है।)

लीना: पापा… यह तो कमाल है। क्या करीना ही तनवी है…

राजेश: बेटा…यही तनवी है… आखिर मैने उस रात जो मैने करीना के साथ महसूस किया था वह मै बयान नहीं कर सकता…

टीना: पापा… मै इन सब बातों को नहीं मानती… मुझे लगता है कि यह सिर्फ इत्तेफ़ाक़ है…

राजेश: न बेटा… ऐसा मत कहो… अगर मै एक और चीज दिखा दूँ तो सब मेरी बात मान लोगे…करीना जरा इधर आओ…(करीना अपनी ब्रा को ठीक करते हुए टी-शर्ट पहनती हुई राजेश की ओर आती है)… एक और चीज दिखानी है…(कहते हुए स्कर्ट को उपर करता हुआ करीना की पैन्टी को नीचे सरका कर योनिमुख को दिखाता है। योनिमुख के बाँयी ओर नीचे की तरफ एक और तिल को दिखाता है)… याद है आभा मै हमेशा मजाक में कहता था कि तनवी बहुत ही कामुक, संवेदनशील और रोमांटिक प्रवऋत्ति की है जिसको सुन कर तुम्हारी बहन मेरे से नाराज हो जाती थी और मै तुमसे गुहार लगाता था कि प्लीज उसे मना कर ले आओ… याद है न… इसी जगह तिल की दुहाई दे कर मै तनवी को छेड़ता था और वह चिड़ जाती थी।

आभा: (आवाक खड़ी देखती हुई)…हुँम…हाँ…

करीना: अंकल… आपने मुझे भी उस रात को यही कहा था…

राजेश: करीना… सौरी मुझे यह सब खुदाई इशारे पहले क्यों नहीं याद आए…

टीना: पापा… यह करीना हो या तनवी… यह तो आप पर तो पहले दिन से फिदा है… तो क्या फर्क पड़ता है…

लीना: हाँ पापा… टीना ठीक कह रही है… आखिर करीना भी तो आप से प्यार करती है… क्यों करीना…

करीना: (शर्माते हुए) हाँ…

राजेश: भई… तुम लोगों को पा कर तो मै धन्य हो गया… लेकिन करीना तुम्हें मै आज से तनवी ही पुकारा करुँगा।

(सब लोग खिलखिला कर हँस पड़ते है। आज बहुत दिनों के बाद घर में खुशी का वातावरण है। सब के चेहरों पर खुशी की रौनक है। बस की मुमु की कमी खल रही है पर सब को विश्वास है कि जैसे तनवी वापिस आ गयी वैसे ही एक दिन मुमु भी वापिस आ जाएगी……)

(राजेश के घर का दृश्य। राजेश, आभा, टीना और करीना ड्राइंगरूम में बैठ कर गपशप में मशगूल है। एलन, डौली और स्वीटी का अभी-अभी कमरे में प्रवेश होता है।)

राजेश: हाय…

एलन: हैलो… राजेश कैसे हो

डौली: राजेश मुझे देख कर अच्छा लगा है कि तुम लोग खुश हो… क्यों आभा आज कल यह तुम्हारी सुध लेता है कि सिर्फ उनको खुश करने में लगा रहता है…

आभा: इन्होंने ने तो हद कर रखी है… किसी को भी खाली नहीं छोड़ते। तुम सुनाओ क्या हाल है… कौन सा महीना चल रहा है।

डौली: (झेंपती हुई) किस का…

आभा: क्या बात है… क्यों स्वीटी… कब से

स्वीटी: (मुस्कुराती हुई) पिछले महीने से…

एलन: लीना कब घर आ रही है… हम बहुत दिनों से पार्टी के इंतजार में बैठे है…

आभा: लीना कल तक आ जाएगी…

डौली: मै तो इसका अनुमान लगा रही हूँ कि पहले तुम जाओगी या टीना…

टीना: आन्टी… पहले दीदी का नम्बर है

राजेश: (सब को बात करते देख कर) भई मैनें तो निश्चय कर लिया है कि जब तक टीना और करीना की पढ़ाई पूरी नहीं होगी तब तक इन्हें इस सुख से वंचित रखा जाएगा…

करीना: यह नहीं हो सकता… अभी तो मेरी और टीना की पढ़ाई को खत्म होने में चार साल है…

टीना: पापा…प्लीज

राजेश: नो वे… वैसे ही मेडिसिन कि पढ़ाई बहुत कठिन है… और उस पर प्रेगनेन्सी… कभी नहीं।

टीना: दीदी ही अच्छी रही कि सिर्फ एक साल का फिल्म बनाने का डिप्लोमा किया और बस… करीना हमने गलती कर दी हमें भी कोई ऐसा ही कोर्स कर लेना चाहिए था…

एलन: यार… कभी मुझ को तुझ पर दया आती है।

राजेश: न यार मुझ पर दया न कर… मै बहुत लकी हूँ कि मुझसे प्यार करने वाले इतने सारे है…

एलन: (आँख मारते हुए) हाँ और एक से एक खूबसूरत और सेक्सी…

डौली: (आँख तरेरते हुए) अच्छा जी…क्या हम नहीं है…

एलन: मैने ऐसा कब कहा…

आभा: डौली… रहने दो। बेकार है इनसे बहस करना।

डौली: राजेश… फार्म हाउस पर कब शिफ्ट कर रहे हो…अब तक तो काम पूरा हो गया होगा…

राजेश: काम तो पूरा हो गया है… बस लीना और नये मेहमान की इंतजार है। जैसे ही घर आँएंगे… बस फिर शिफ्ट कर लेंगें।

आभा: आप लोग बातें करिए… तब तक मैं कुछ खाने पीने का प्रबन्ध करती हूँ (कह कर रूम से बाहर चली जाती है)

राजेश: एलन मै तुम लोगों का कैसे शुक्रिया अदा करूँ… अगर तुम न होते तो मुझे पता नहीं मै कैसे जी पाता… थैंक्स यार्।

डौली: राजेश हमारे ऊपर तुम्हारे इतने एहसान है… पहले तुम ने मुझे एलन से मिलवाया फिर हम दोनों को तुम ने पैसे से मदद करके काम शुरु करवाया… यह सब क्या मै भूल सकती हूँ परन्तु… मैं इसको तुम्हारी दोस्ती का फर्ज समझती हूँ और इस लिए मैनें आज तक तुमसे कभी एहसान और थैंक्स की बात नहीं करी है…

राजेश: सौरी डौली… तुम सही कह रही हो… गलती हो गयी।

(आभा सारी लड़कियों को आवाज दे कर अपने पास बुलाती है। टीना, करीना और स्वीटी उठ कर आभा का हाथ बटाने के लिए ड्राइंगरूम के बाहर जाती है।)

एलन: यार मुमु के जाने के बाद से… तू बिल्कुल कट गया… ठाकुर साहब का क्या हुआ…

राजेश: कुछ नहीं…उन्हें उम्र कैद की सजा हो गयी थी। एक बार मै आभा, करीना, लीना और टीना को लेकर उनसे जेल में मिलने गया था… तो उन्होंने कोई अच्छा रेस्पान्स नहीं दिया बस यह कह कर वापिस चले गये कि मेरी सारी छिनालों को तू ने अपनी बिस्तर की शोभा बना ली… पर शायद अन्दर से वह जानते थे कि उनकी बेटियाँ खुश हैं।

डौली: राजेश मुझे आज तक समझ नहीं आया कि वह तुम से इतना क्यों चिड़ते थे…

राजेश: यही सवाल मैनें उनसे पूछा था… तो उनका जवाब था कि जवानी में मेरी माँ को उनके शिकंजे से मेरे पिता ने छुड़ा लिया था… और फिर मैनें उनके शिकंजे से तनवी और मुमु को अपने साथ ले आया था… और उनकी बेटी आभा को मैनें उनके खिलाफ बरगला दिया था। यार मैने सिर्फ उन के बुरे व्यवहार के बदले में अच्छा ही किया जिसकी वजह से वह हमेशा मुझ से चिड़ा करते थे।

एलन: चल यार अंत भले का भला… तूने अपनी कसम भी पूरी कर ली…ठाकुर की सारी बेटियाँ को तूने अपनी पत्नी का दर्जा दिया और उनके बाप की दुश्मनी उनसे नहीं निकाली…यह तेरी अच्छाई उनकी बुराई के ऊपर हावी हो गयी…।

डौली: हाँ अब आगे सब को खुश रखो और खुशी-खुशी रहो…

(आभा, करीना, स्वीटी और टीना सारा खाने का सामान मेज पर सजा कर उनको बुलाते हैं। तीनों उठ कर ड्राइंगरूम से निकल कर डाईनिंग टेबल पर आ जाते हैं। सब हँसी खुशी बातें करते हुए)

चार साल बाद…

(फार्म हाउस का दृश्य। राजेश झरने के पास आर्मचेयर पर बैठ कर सामने का नजारा ले रहा है। पास ही टीना अपनी गोद में एक रोती हुई बच्ची को चुप कराने की कोशिश में लगी हुई है। उधर आउटहाउस से बाहर निकलती हुई आभा एक चार वर्षीय लड़के की उँगली थामे पूल की ओर आती दिखाई देती है। दो हमउम्र बच्चियाँ सामने घास में खेल रही है। उन सब पर एक दृष्टि डालते हुए राजेश को आत्मिक संतुष्टि का एहसास होता है। इधर लीना और करीना निर्वस्त्र हो कर पानी के साथ अठखेलियाँ करती हुई राजेश को पूल मे आने का निमंत्रण देती है। अब दोनों बेहत खूबसूरत नवयुवतियाँ हो चुकी है। दो बच्चों के बाद भी लीना के जिस्म में अभी वही सुहाग रात वाली कशिश है, बस सीना और नितंब थोड़े से भर गये है परन्तु कमर का कटाव और भी गहरा गया है। करीना के शरीर में हलका सा भी बदलाव नहीं आया है। एक बच्ची की माँ बनने के बाद भी उसके जिस्म में वही आकर्षण और छरहरापन, ऐसा मानो कि जैसे आसमान से अपसराएं धरती पर उतर आयीं है।)

राजेश: टीना… इस को मेरे को दे दो।

टीना: पापा… यह मेरी तरह जिद्दी है… मै इसका दूध छुड़ाने की कोशिश कर रही हूँ

राजेश: क्यों भई…

टीना: (आँखे नचाते हुए) आपके बाद इस के लिए कम पड़ जाता है… इसी लिए

राजेश: (मुस्कुरा कर) कोई बात नहीं आज की रात मैं अपनी गाय को फिर से हरी कर देता हूं जिससे इसके लिए दूध की कमी न रहे…

टीना: नहीं पापा… दो साल के बाद बच्चे को थोड़ा भारी आहार चाहिए… इस लिए इसका यह दूध छुड़ाना जरुरी है… उनको देखो…कैसी मस्ती छाई है…करीना और दीदी आपको सेड्यूस करने में लगी हुई है…ठीक भी है एक हफ्ते से दीदी बाहर गयी हुई थी और करीना की भी नाइट शिफ्ट चल रही है…

राजेश: तुम भूल रही हो… वह अपना कोटा लंच टाइम में पूरा कर लेती है…

टीना: (आभा की ओर आवाज देते हुए) दीदी इस शैतान को छोड़ दो…

राजेश: हाँ आभा… इसको छोड़ दो…गिर कर ही सँभलना सीखेगा।

आभा: (बच्चे की उँगली छोड़ते हुए) तुम पानी में नहीं जा रहे…

राजेश: तुम्हारा और टीना का इंतजार कर रहा था कि तुम लोग आ जाओ तो साथ चलते है… और थोड़ी देर लीना और करीना को भी तड़पने दो…

आभा: राजेश तुम भी… आओ टीना

टीना: इस का क्या करुँ…

राजेश: (अपने कपड़े उतारते हुए) इसको मुझे दे दो और जल्दी से कपड़े उतार कर पानी में आ जाओ… आओ आभा

(राजेश ने गोदी में बच्ची को उठा लिया और निर्वस्त्र टीना और आभा को अपने साथ ले कर कर पूल की ओर बड़ गया……)

समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 149 483,837 2 hours ago
Last Post: Didi ka chodu
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 104 141,291 12-06-2019, 08:56 PM
Last Post: kw8890
  Sex kamukta मस्तानी ताई sexstories 23 131,259 12-01-2019, 04:50 PM
Last Post: hari5510
Star Incest Porn Kahani दीवानगी (इन्सेस्ट) sexstories 42 193,241 11-30-2019, 08:34 PM
Last Post: Didi ka chodu
Star Maa Bete ki Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल sexstories 102 55,851 11-29-2019, 01:02 PM
Last Post: sexstories
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 207 627,273 11-24-2019, 05:09 PM
Last Post: Didi ka chodu
Lightbulb non veg kahani एक नया संसार sexstories 252 183,672 11-24-2019, 01:20 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Parivaar Mai Chudai अँधा प्यार या अंधी वासना sexstories 154 129,085 11-22-2019, 12:47 PM
Last Post: sexstories
Star Gandi Sex kahani भरोसे की कसौटी sexstories 54 120,149 11-21-2019, 11:48 PM
Last Post: Ram kumar
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 27 130,851 11-18-2019, 01:04 PM
Last Post: siddhesh



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


dewoleena bhattachar nange nange hot sexy sex karte hue photokahani devarji mai apki bhabhi aa aammm ooh sex.combidesi aunty xxx video bada gad chodaechoti sali aur sas sexbaba kahaniInadiyan conleja gal xnxxxTelugu actress Shalini Pandey sexbabam.c ko 13 din ho gaye h kal sex karna hai bina condom se kya oh paignet hogi ki nh hindi storyचुद्दकर कौन किसको चौदाWwww xxxxx hd bf bf, Sadi pahan Ke bhabhi ke BF dikhao HDअमेरिका में मोठे लम्बे बड़े लोंडो सा पत्नी के चुड़ै पति के इचछा मस्तराम कॉम सेक्स स्टोरी हिन्दीलुली कहा है rajsharmastoriesJbrdst bewi fucks vedeoमालकिन ने अपने रसीले होंठ मेरे लंड के सुपाड़े पर रख दिएhindesexkhanisooihui, aantyxxnxkannada acters sexbabawww sexbaba net Thread maa ki chudai E0 A4 AE E0 A5 89 E0 A4 82 E0 A4 95 E0 A5 80 E0 A4 AE E0 A4 B8Peshabsexstoryhindifukehostel. combf के chodachodi phooto dhikhayआबू।चोदवा की ।मम्मी भाई।कहानी चोदवामनोरमा भाभी के झाट वाला बुर चोदाईकहानिया हिनदी पडने वालि जादुगरनी कीTez.tarin.chudai.xxxx.vगाव की ओरते नहते हूवे शकशी वीडवोVidhava ma chodasi kahaniKannada kaam kategaluBhn ko kpra dilane ki sexy khaniफैमली सेकसी बियफ शिल्पा शेटी को किसने चुदाDidi ki gand k andr angur dal kr khayexxi,,karti,vakhate,khun,nikaltaheअभी अभी कुंवारेपन को खो चुकी मेरी बहन की चूत Ladikiyan ka virb nikalna sexdeepshikha nagpal ki boobs ki nangi photoघर की घोडिया yumstories.combrsat ki rat xxxpati apani patni nangi ke upar pani dale aur patani sabun magevidhwa samdhan se sadhi chudai yum storyDewar ko tdpake chudwaishejarin antila zavlo marathi sex storyYeh rista kya khlata h sexbabaxxvideokvT payel bj rahi thi cham cham sex storyनासमझ की chudie गांव में कहानीindian woman ka bataroom me nahani ka xxx photuनाणी को जमके चोदा हिंदी सेक्स कथाdevrani jethani ki eksath boor chudai ki kahaniraju genhila 6 bia reचोद मदारचोद जोर से सेक्सची कहाणीPenti fadi ass sex.सिल फुटने की चुदाई xxx videossax video Gaand maare kaska .comdhvani bhanushali nude sex picture sexbaba.comदेसी विलेज मिलतीं भाभी नुदे क्सक्सक्स girl ko bahala faisla kar blatkar sex videoBaade ghar ki ayas aurte ki chudaiचुची चुसती बहन कहानीhijronki.cudaiझुकने से उसकी छोटी सी बुर का नजारा पुरे क्लास के सामने आ गया..कटरिना कैफ सेक्सी नग्गी पोरना हिंदी बालीबुडJawan bhabhi ki mast chudai video Hindi language baat me porn lammai tumhare pas rat ko aungee xossiplund ko chut me rkh k khana khaya or nahayaDESI52COMxxxossip pics vidsnidiranimukergi fuck nude sexbabaann line sex bdosdehtti pattni apne pati ke samne chodai xxxsparm nikala huya full sex vedieowww चाची balous utarte रंग xnxx तस्वीरें