Rishto Mai Chudai खून का असर
06-21-2018, 11:49 AM,
#1
Exclamation  Rishto Mai Chudai खून का असर
चेतावनी ...........दोस्तो ये कहानी समाज के नियमो के खिलाफ है क्योंकि हमारा समाज मा बेटे और भाई बहन और बाप बेटी के रिश्ते को सबसे पवित्र रिश्ता मानता है अतः जिन भाइयो को इन रिश्तो की कहानियाँ पढ़ने से अरुचि होती हो वह ये कहानी ना पढ़े क्योंकि ये कहानी एक पारवारिक सेक्स की कहानी है 





"खून का असर"--1

लेखक ==RKS

ले बिरजू मार सुत्टा, राजू अपने भाई बिरजू को बीड़ी देते हुए, आज तो नशा ही नही आ रहा है

और देसी दारू की बोतल जो कि आधी हो चुकी थी को उठाकर मूह से लगा कर गटकने लगता है,

रात के सन्नाटे मे दोनो भाई गाँव की एक पुलिया जो उनके घर से लगभग 200 मीटर की दूरी

पर थी वहाँ बैठ कर दारू का मज़ा ले रहे थे, और साथ मे बीड़ी के लंबे लंबे कस

मारते जा रहे थे, फिर राजू बोतल बिरजू को दे देता है और उससे बीड़ी ले कर कस मारने लगता

है, उनका घर उस पुलिया से साफ नज़र आता है, उनका घर खप्रेल वाला कच्चा मकान है

जिस पर एक बड़ा सा आँगन है और फिर एक पुराने जमाने का बड़ा सा दरवाजा है जो कि उन्हे

उस पुलिया से खुला दिखाई पड़ रहा था, दरवाजे के बाहर एक रास्ता है जिसे पूरा गाँव पास की

नदी पर जाने के लिए यूज़ करता है उस नदी का घाट भी राजू और बिरजू के घर से 200 मीटर की

दूरी पर ही है, उनका यह घर नदी की तरफ का आख़िरी मकान है, और जिस पुलिया पर ये दोनो

बैठे थे उसके पीछे की ओर आम का काफ़ी बड़ा बगीचा है, और उस बगीचे के पीछे

से थोड़ा बहुत जंगल शुरू हो जाता है, गाँव काफ़ी छ्होटा है लगभग 40-50 मकान बने

होंगे, बिरजू की उमर लगभग 25 साल के करीब है और राजू उससे 2 साल छोटा है लेकिन दोनो

भाई बचपन से ही दोस्तो की तरह रहते है और वह ऐसे लगते है जैसे जुड़वा हो दोनो हत्ते

कत्ते और मजबूत कद काठी के है,

यार बिरजू चूत मारने का इतना मन करता है लेकिन कोई चूत का जुगाड़ ही नही बनता है, राजू हाँ

यार बिरजू उस दिन थोड़े पैसे जोड़कर चूत के जुगाड़ मे शहर मे रंडी बाजार भी हो आए

लेकिन भोसड़ी की ने हम दोनो भाई से पैसा ले लिया और दो मिनिट मे ही बोल दिया कि चल हट रे

हो गया, मेरा तो लंड भी ठीक से खड़ा नही हुआ था और उस कुतिया ने दो दो कॉंडम मेरे

लंड पर लगा दिए थे, भला तू ही बता ऐसे दो मिनट मे क्या चुदाई हो पाती है, राजू यार

चोदने के लिए तो हमारे से मोटे लंड को कम से कम दो दो घंटे तो मिलना चाहिए, तभी

हम तृप्त हो पाएगे, बिरजू हाँ यार तू ठीक कहता है मैं जब भी सुधिया काकी की मोटी गंद को

सोच कर मूठ मारता हू तो कम से कम आधा घंटा तो काकी की मोटी मोटी गंद को सोच

सोच कर मुठियाने मे लग ही जाता है तब जाकर मेरा माल बाहर निकलता है, और तुझे भी तो

इतना ही टाइम लगता है ना, हाँ यार तूने कहाँ सुधिया काकी की बात कर दी मेरा तो लंड कड़क होने

लग गया है और लूँगी के उपर से दोनो भाई अपने अपने लंड को मसल्ने लगते है, सुधिया

काकी भोसड़ी की 50 के लगभग की होगी पर साली के मोटे चुचे और फैले हुए भारी भारी

चूतड़ देख कर तो ऐसा लगता है कि सीधे जाकर इसकी मोटी गंद मे लंड पेल दू, और दारू की

बोतल से बची हुई दारू गटकते हुए दोनो भाई अपना अपना लॅंड मसल रहे थे, यार राजू मेरा

लॅंड तो मोटी गंद का ही दीवाना है, बिरजू अरे मेरा भी यही हाल है कि मोटे मोटे चूतड़ मिल

जाए तो फाड़ कर रख दू, मोटे चूतादो को देख कर तो मेरे मूह से लार टपकने लगती है,

इन दोनो भाई का यह रोज का काम था दिनभर अपने घर के बाहर लूँगी पहनकर बैठ जाते

थे और अपने गाँव की सारी नदी की ओर जाने वाली औरतो के मटकते चूतड़ देख देख कर अपना

लंड मसल्ते बैठे रहते और जब कोई औरत नही दिखाई देती तो पड़ोस मे रहने वाली सुधिया

काकी के आँगन की ओर नज़र गढ़ा कर उसके आने जाने का इंतजार करने लगते और सारे गाँव की

औरतो के गदराए अंगो की चर्चा के अलावा इन दोनो भाइयो के पास कोई काम नही था, इतफाक

से दोनो के विचार भी बिल्कुल एक जैसे थे, शायद ये इनके खून का असर था,

सुधिया काकी इन दोनो के सगे ताऊ (अंकल) की औरत थी लेकिन सुधिया काकी, इन दोनो की मा

कमला की लड़ाई काफ़ी पुराने समय से थी जिसके चलते दोनो परिवार के लोगो का आपस मे

बोलचाल नही था, इन दोनो की मा कमला थोड़ी मोटी और भरे भरे बदन की एक 45 साल की औरत

थी, उसके दूध और मोटे मोटे चूतादो के मुक़ाबले पूरे गाँव मे किसी भी औरत के दूध

और चूतड़ नही थे, हण सुधिया काकी ज़रूर थोड़ा बहुत टक्कर ज़रूर देती थी लेकिन सुधिया

काकी अगर 19 थी तो कमला 20 थी, कमला का पति मनोहर लाल जो कि दिन और रात शराब के नशे

मे ही रहता था और उसका अधिकतर समय दारू के ठेके पर ही बीत जाता था, मनोहर लाल के

बारे मे गाँव मे एक बात फेमस थी कि काफ़ी साल पहले नदी के किनारे के एक पेड़ के पीछे

अपनी मा गोमती जो की अब मर चुकी है को चोद रहा था जिसे गाँव के कुछ लोगो ने देख लिया

था. कमला अपने बेटो के साथ पास के जंगल से लकड़िया काट कर अपना घर चलाती थी, वह रोज

सुबह सुबह घर का सारा काम करके दोपहर का खाना बाँध कर अपने साथ ही जंगल ले जाती

थी फिर वाहा दोनो बेटे लकड़िया काटने लगते और कमला उन लकड़ियो के तीन गथ्थे बना लेती थी

फिर शाम तक ये लोग लकड़िया लेकर घर आ जाते थे, कमला की एक बेटी थी जो राजू से 2 साल छोटी

थी, अभी तीन महीने पहले ही उसका गोना हुआ था सो अभी वह अपने ससुराल मे थी, सुधिया

काकी का एक ही बेटा था मदन जिसकी शादी हो चुकी थी वह शहर मे किसी कारखाने मे रोज की

मज़दूरी करके वही रहता था और उसकी बीबी संध्या अपने सास ससुर के पास गाँव मे रहती

थी वह करीब 28 साल की उमर की रही होगी

इनके घर के सामने ही एक हॅंडपंप था जो कि कई साल पहले इनके बाप मनोहर और काका

किशन लाल (सुधिया का पति) ने मिलकर लगवाया था सो इनकी लड़ाई होने के बाद भी दोनो घर की

औरते उसी से पानी भरती थी और वही खुले मे नहा भी लेती थी, और आसपास की कुछ औरते जिनकी

पटरी या तो सुधिया या कमला से खाती थी आकर वही नहा लेती थी. राजू और बिरजू अपने घर के

सामने लूँगी पहने कुर्सी लगाकर सुबह सुबह वही बैठकर घर के सामने से नदी की ओर

जाती औरतो या हॅंडपंप पर नहती औरतो को देख देख कर बस चूत लंड की बाते करते और

लूँगी के उपर से अपना लंड मसलते रहते थे, और दोपहर होने पर अपनी मा के साथ जंगल

चले जाते और शाम को आकर फिर घर के सामने कुर्सी डाल कर बैठ जाते और जब रात हो जाती तो

दोनो भाई पुलिया पर जाकर दारू पीने लगते और जब रात के सन्नाटे मे खाना खाने के लिए

आवाज़ लगाती तो दोनो उठ कर घर की ओर आ जाते थे बस इसी तरह इनकी जिंदगी आगे बढ़ रही

थी.

सुबह सुबह दोनो भाई घर के बाहर बैठे बैठे यार राजू देख संध्या भाभी लाल घाघरा चोली मे क्या मस्त लग रही, बिरजू यार इसकी चूत भी मस्त लाल होगी, मदन तो शहर मे लंड पकड़ता रहता है, और यह बेचारी यहाँ लंड के लिए तरसती रहती है, यार बिरजू अपना लंड मसल्ते हुए इसकी ही चूत मारने को मिल जाए तो हमारा भी काम बन जाएगा और इस बेचारी की चूत को भी ठंडक मिल जाएगी और यह बेचहरी हमे दुआए भी देगी की कोई तो इसकी चूत के बारे मे सोचता है,

गाँव मे सभी औरते ज़्यादातर लहगा और चोली ही पहनती थी और आप तो जानते है पॅंटी या ब्रा गाँव की संस्कृति मे नही है, संध्या पानी भरने के लिए हॅंडपंप के पास आ जाती है और दोनो भाई उसकी मोटी मोटी चूचियाँ और उसके चिकने पेट और नाभि को घूर घूर कर अपना लंड मसलने लगते है, संध्या ने अपना घाघरा नाभि के काफ़ी नीचे बाँधा हुआ था जिससे उसकी नाभि और पेट ऐसा नज़र आ रहा था जैसे कुवारि लोंदियो का पेट नज़र आता है उनकी कुर्सी से हॅंडपंप लगभग 20 मीटर की दूरी पर था, यार बिरजू इसको एक बार अपना काला और मोटा लंड निकालकर दिखा दू क्या साली अभी पानी भरते भरते पानी पानी हो जाएगी, देख क्या मस्तानी चुचिया उपर नीचे होती है जब ये हॅंडपंप चलाती है, राजू हंसते हुए बिरजू अगर इसको हम यह बता दे कि जिस हॅंडपंप के डंडे को इसने पकड़ रखा है वह बिल्कुल हमारे लंड की मोटाई का है तो यह डर के मारे हॅंडपंप का डंडा छ्चोड़ देगी और फिर कभी पानी भरने नही आएगी, बिरजू हंसते हुए हा हा हा तू ठीक कहता है राजू इतना मोटा डंडा तो सुधिया काकी ही पकड़ सकती है पर भोसड़ी की जाने कहाँ गंद मरवा रही है नज़र नही आ रही है,

तभी संध्या पानी की बाल्टी लेकर अपने आगन मे चली जाती है और फिर इतने मे सुधिया काकी अपने मोटे मोटे चूतड़ मतकते हुए बाहर बरामदे की झाड़ू लगाने लगती है, सुधिया काकी के मोटे मोटे चूतड़ देख कर राजू और बिरजू का लंड झटके मारने लगा हे मेरी रानी कितनी मोटी और चौड़ी गंद है तेरी, हाय बिरजू एक बार इस घोड़ी की मोटी गंद मिल जाए तो साली की गंद मार मार कर लाल कर देंगे, तभी सुधिया काकी उनकी ओर मूह करके झाड़ू लगाने लगती है जिससे उसके मोटे मोटे थन आधे से ज़्यादा उसकी चोली से बाहर गिरे आ रहे थे, और उसका चर्बी वाला लटका हुआ पेट और गहरी नाभि और पेट के मसल उठाव को देख कर दोनो भाई का हाथ अपने लंड पर तेज तेज चलाने लगता है, राजू सुधिया काकी नंगी कैसी लगती होगी रे मेरा तो यह सोच सोच कर पानी ना निकल जाए,
Reply
06-21-2018, 11:50 AM,
#2
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
चिंता मत कर बिरजू अभी थोड़ी देर मे भोसड़ी की नहाने आएगी तब आधी नंगी तो हो ही जाएगी और चुपचाप अपने लंड को मसलने लगते है, थोड़ी देर बाद सुधिया काकी अपनी चोली और घाघरा लेकर हॅंडपंप पर आ जाती है, वह अपने घाघरे को अपने घुटनो के उपर करके बैठ कर कपड़े धोना शुरू कर देती है उसकी गदराई पिंदलियो और मोटी मोटी गोरी जाँघो को देख कर राजू और बिरजू के मूह मे पानी आ जाता है, जब सुधिया काकी कपड़े को ब्रश से घिसती है तो उसकी बड़े बड़े पपितो जैसी चुचिया बहुत तेज़ी से उपर नीचे होती है यार बिरजू मथेर्चोद 50 साल की है पर इसका गदराया शरीर देखकर लंड लूँगी फाड़ कर बाहर आया जा रहा है,

तभी सुधिया काकी अपने दोनो हाथो से अपनी चोली के हुक खोलने लगती है और फिर अपने दोनो हाथ उपर करके अपनी चोली निकालती है उसकी बालो से भरी बगल देख कर दोनो भाई आ हा मज़ा आ गया और उसकी पहाड़ जैसे मोटे मोटे दूध दोनो भाई के सामने आ जाते है, अब सुधिया काकी पालती मार कर बैठ जाती है उसका गदराया उठा हुआ पेट, गहरी नाभि और मोटे मोटे चुचे, मतलब प्रा पेट और दूध नंगे करके जब वह पालती मार कर बैठ जाती है तो इतनी मस्तानी लगती है कि कोई बेटा भी अपनी मा को इस हालत मे देख ले तो वह अपनी मा के ऐसे मस्ताने नंगे बदन से पूरा नंगा होकर चिपक जाए, यही हाल बिरजू और राजू का था उनका मोटा लंड हल्की हल्की पानी की बूँदो से चिपचिपाने लगा था,

सुधिया काकी ने दो चार मग पानी अपने नंगे जिस्म पर डाला और फिर साबुन से अपनी चुचिया और पेट पर साबुन मलने लगी, जब वह अपने मोटे पपीते जैसे दूध पर साबुन लगा कर रगड़ती तो उसके दूध उसके हाथ मे पूरा समा नही पाते थे, और साबुन की मस्लाई से इधर उधर छतक जाते थे, और फिर अपने उभरे उए पेट पर साबुन मलने लगी, बिरजू ये भोसड़ी अपने पेट को ऐसे सहला रही है जैसे कह रही हो आ मेरी चूत मे लंड डाल डाल कर मेरा पेट और उठा दे, हाय राजू क्या मदमस्त घोड़ी है रे मेरा तो पानी छूटने के कगार पर है, तभी सुधिया काकी एक टांग लंबी करके अपने घाघरे को जाँघ की जड़ो तक चढ़ा लेती है उसकी जंघे भरपूर मसल और गोरी गोरी बिल्कुल कसी हुई लग रही थी,

राजू इसकी मोटी जंघे तो दो हाथो मे भी ना समाए तो फिर इसके चूतड़ पकड़ने के लिए कितने हाथ लगाना पड़ेंगे, अरे बिरजू एक बात तूने देखा है कि औरत की उमर ढल जाती है पर उसकी गंद और जाँघो की चिकनाहट वैसी ही रहती है, क्या मस्त चोदने लायक माल है, इसे छ्होटा मोटा चुड़क्कड़ चोद ही ना पाए इस मस्तानी घोड़ी की चूत और गंद तो हमारे जैसा मोटा काला लंड ही मस्त कर पाएगा, तभी सुधिया काकी ने एक घुटने की जाँघो की जड़ो तक साबुन लगाने के बाद उस जाँघ को मोड मोड दूसरे पैर की जंगो से भी अपना घाघरा हटा कर मोड़ कर साबुन लगाने लगी अब सुधिया काकी उपर से लेकर पेट और कमर तक तो नंगी थी ही साथ ही उसका घाघरा उसकी चूत और जाँघो की जड़ो तक सिमट कर रह गया था और वह अपनी दोनो जाँघो को फैलाए अपनी आइडिया पत्थर से घिस रही ही, देख बिरजू ऐसे जंघे फैला कर बैठी है जैसे कह रही हो की आके घुस जा मेरे मस्ताने भोस्डे मे,

और फिर सुधिया दोनो पैरो के बल बैठ कर बाल्टी का पानी एक साथ अपने सर से डाल कर खड़ी हो जाती है और बिरजू और राजू की ओर अपनी गंद करके हॅंडपंप चलाने लगती है उसका पूरा घाघरा गीला होकर उसकी गंद से चिपक जाता है और उसकी मोटी गंद की दरार मे फँस जाता है जिससे उसकी मोटी गंद साफ झलकने लगती है ऐसा लगता है जैसे दो मोटे मोटे तरबूज थोड़े थोड़े गॅप मे लगा दिए हो, बिरजू अपना लंड मसलते हुए जा के फँसा दू क्या अपना लंड इसकी मोटी गंद मे, हाय रे क्या चूतड़ है रे ये तो मदर्चोद हमारी जान लेने पर तुली है, यार राजू इसको हमने हमेशा हर तरह से नंगी नहाते देखा है लेकिन इसका भोसड़ा और इसकी मोटी गंद नंगी देखने को कभी नही मिली, यार कुछ चक्कर चला कर इसकी मोटी गंद और उसका छेद देखने का बड़ा दिल कर रहा है,

बिरजू एक आइडिया है मेरे दिमाग़ मे, राजू हाँ तो बता ना यार, सुन यह रोज पुलिया के पीछे के खेत मे संडास करने जाती है बस यही एक तरीका है इसकी गंद देखने का वहाँ आसपास काफ़ी पेड़ भी है वही छुप कर हम इसकी गंद देखने कल चलते है, ठीक है कल ही इसकी गंद का भरपूर मज़ा लेकर इसकी गंद देखते हुए वही पर मूठ मारेंगे, गाँव मे अक्सर औरते अपनी चोली खोलकर वही नहा लिया करती है, सुधिया काकी ने अपने उपर अब मग से पानी डालना शुरू कर दिया और फिर अपना घाघरा ढीला करके एक दो मग पानी अपने घाघरे के अंदर चूत के उपर भी डाला तभी गाँव की एक दो औरते और आ गई और वो भी वही कपड़े धोने लगी और अपनी अपनी चोलिया उतार कर नहाने लगी, उनके दूध और गंद का भरपूर आनंद लेने के बाद जब हॅंडपंप पर कोई नही बचा तब राजू अभी लंड हिला ले क्या, बिरजू नही यार जब तक मा को नंगी हम दोनो नही देख लेते तब तक हमारा माल निकलता ही कहाँ है और उन दोनो ने अपनी गर्दन अपने घर के दरवाजे की ओर घुमा दी और अपने घर के आँगन मे देखने लगे,

कमला घर के आँगन मे झाड़ू मार रही थी कमला की मोटी गंद के मुक़ाबले पूरे गाँव मे किसी भी औरत की गंद नही थी, मोटी मोटी केले के तनो जैसे मसल जाँघो के उपर उसके मोटे चूतड़ ज़रूरत से ज़्यादा बाहर की ओर उठे हुए और बिल्कुल गोल शॅप लिए हुए उसकी गंद के पाट और गंद के बीच की दरार इतनी ज़्यादा विपरीत दिशा मे फैली हुई थी कि खड़े खड़े लंड गंद मे घुस सकता था जब वह झुक कर झाड़ू मार रही थी तो उसके विशाल मोटे चूतड़ और ज़्यादा बाहर की ओर निकालकर उसके चलने के साथ थिरक रहे थे, राजू अपनी मा की मोटी गंद जैसी गंद तो इस दुनिया मे कही नही होगी, इन मोटे मोटे चूतादो को देख कर तो लगता है मेरे लंड की नशे फॅट जाएगी, बिरजू मुझे तो लगता है कि अभी जाकर मा का घाघरा उठा कर अपना मोटा काला लंड सीधे गंद मे फसा दू, यार राजू मा के ये मोटे मोटे चूतड़ देख देख कर मेरा लंड लगता है लूँगी मे च्छेद कर देगा, हाँ यार बिरजू तू ठीक कहता है मुझे तो मा की मोटी गंद मे अपना मूह भरने का बहुत मन होता है, अगर यह नंगी होकर हमारे सामने आ जाए तो इसको दिन रात चोदते ही रहे, बिरजू यह नंगी कैसी दिखती होगी रे मैं तो मा को पूरी नंगी करके देखने के लिए मरा जा रहा हू,

कमला झाड़ू मार कर सीधी उनकी ओर मूह करके खड़ी हुई तो उसका पेट दोनो भाइयो के सामने आ गया कमला अपनी फूली हुई चूत से बस दो इंच उपर अपना घाघरा बाँधती थी,

क्रमशः....................
Reply
06-21-2018, 11:50 AM,
#3
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
"खून का असर"--2

गतान्क से आगे........................

उसका पेट काफ़ी चर्बी के कारण उठा हुआ था ऐसा नंगा पेट देख कर अच्छे अच्छे तपस्वी मुतने लग जाए, कमला की नाभि इतनी बड़ी और गहरी थी कि किसी भी जवान लंड के टोपे को अगर नाभि मे डाला जाय तो उसका टोपा नाभि मे फिट हो जाए, यार बिरजू मा का उठा हुआ पेट देख कितना गदराया हुआ लगता है ऐसा लगता है जैसे 6 माह की गर्भवती हो, सोच बिरजू जब अपनी मा का पेट और नाभि इतनी मस्त और विशाल है तो इसका भोसड़ा कितना फूला हुआ और बड़ा होगा, बिरजू अरे अपनी मा के दूध भी कितने मोटे मोटे और बिल्कुल तने हुए है एक एक दूध 5-5 किलो का होगा और निप्पल कितने तने हुए और बड़े बड़े, उस दिन जब हमने मा को हॅंडपंप पर नहाते देखा था तब इसके मोटे दूध और निप्पल देख कर मन करने लगा कि दोनो भाई एक एक दूध को अपने दोनो हाथो से पकड़कर भी दबाएगे तो हमारे दोनो हाथो मे नही समाएगे, और निप्पल तो इतने मोटे मोटे है जैसे बड़े बड़े आकर के बेर होते है, अभी भी इसके दूध मे कितना रस भरा हुआ है, अरे बिरजू जब ये कल नहा रही थी तो इसकी जाँघो के पाट देख कर मेरे मूह मे पानी आ गया था ऐसी मोटी मोटी केले के तने जैसे गोरे गोरे जाँघो के पाट को अपने हाथो से मसल्ने और दबाने मे मज़ा आ जाएगा. चिंता मत कर राजू अब इसके नहाने का टाइम हो रहा है आज फिर हम दोनो इसके मस्ताने नंगे बदन को देख कर लूँगी मई ही अपना पानी निकलेंगे, बिरजू मुझे तो याद भी नही है की हमने अपनी मा की मासल जवानी का मादक रूप देख देख कर कितनी बार अपना पानी छ्चोड़ा होगा, बिरजू अपनी मा की गंद और चूत सूंघने और चाटने का बड़ा मन करता है यार, मा की फूली हुई चूत और मोटी गंद की क्या मदमस्त खुश्बू होगी, मैं तो इसको नंगी करके इस पर चढ़ने के लिए मरा जा रहा हू, और दोनो भाई के काले और मोटे लंड अपनी मा की गदराई जवानी देख देख कर लार टपका रहे थे.

तभी कमला कुछ कपड़े लेकर हॅंडपंप की ओर आ गई, और बिरजू और राजू से क्यो रे तुम दोनो नही नहाओगे, चलो जल्दी नहा लो फिर हमे जंगल भी चलना है, और हॅंडपंप के पास आकर कपड़े रख कर बैठ जाती है और कपड़े धोना शुरू कर देती है, बिरजू और राजू दोनो के लंड खड़े थे वो दोनो सोच रहे थे कि कैसे लूँगी उतार कर केवल कछे मे जाए हमारा मोटा लंड तो खड़ा है, बिरजू अरे चल आज अपनी मा को भी अपने मोटे लंड के दर्शन करवा देते है, शायद इसकी भी फूली हुई चूत हमारे काले डंडे को देख कर फड़कने लगे और अगर यह हम दोनो से चुदवा ले तो फिर घर मे ही मोटी गंद और चूत का जुगाड़ हो जाएगा और दोनो भाई एक साथ रात भर अपनी गदराई मा को चोद्ते पड़े रहेंगे, और दोनो भाई अपनी अपनी जगह से उठ कर हॅंडपंप के पास आकर पानी भरने लगे और वही मा के सामने खड़े हो गये, कमला अपने कपड़े धो चुकी थी और उसने बिरजू और राजू से कहा लाओ तुम्हारी बनियान और लूँगी भी दे दो धो देती हू, तब दोनो भाइयो ने अपनी अपनी बनियान और लूँगी खोल दी अब तक उनका लंड थोड़ा ढीला पड़ चुका था, कमला ने उनकी लूँगी और बनियान धो दी और दोनो मुस्टांडो को को कहा कि अब खड़े क्या हो चलो जल्दी से नहा लो और अपनी चोली के हुक खोलने लगी और जैसे ही उसने अपने दोनो हाथ उठाकर अपनी चोली खोली उसके मोटे मोटे पपीते एक दम से बाहर आ गये अपनी मा के मोटे मोटे पपितो और गदराए उठे हुए पेट देखाकर बिरजू और राजू का लंड एक दम से खड़ा हो गया और कमला की नज़र अपने दोनो बेटो के मोटे मोटे लंबे डंडे पर पड़ी तो उसका मूह खुला का खुला रह गया क्यो कि दोनो भाई अपनी नंगी मा को देख कर अपने लंड को खड़ा होने से रोक नही सके और उनका लंड फुल अवस्था मे आकर झटके मारने लगा कमला एक तक बड़े गोर से उन दोनो के मोटे डंडे को देखे जा रही थी, तभी दोनो भाई जल्दी से पालती मार कर बैठ गये और अपनी मा की मोटी चुचियो और उठे हुए पेट को देखते हुए उसका चेहरा देखने लगे जो कि उनके मोटे लंड के दर्शन से लाल हो चुका था

तभी कमला ने देखा कि दोनो भाई अपनी मा के गदराए बदन को घूर रहे है तो वह अपने बेटो के चेहरो को देख कर कि कैसे अपनी खुद की मा को अधनंगी देख कर इनका लंड खड़ा हो गया है, उसके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान आ गई,

कमला को चुदे हुए एक जमाना बीत गया था मनोहर लाल अपनी जवानी मे ही शराब के प्रति समर्पित हो गया था इस लिए वह कमला की जवानी को केवेल सुलगा कर छ्चोड़ चुका था और कमला अपनी फूली चूत की प्यास अपने मन मे दबा कर ही अपनी जिंदगी गुजारने लगी थी, पर आज कुछ ऐसा हुआ था कि अपने दोनो हत्ते कत्ते बेटो के मोटे झूलते हुए लंड को देख कर उसकी फूली हुई चूत मे कुछ कुलबुलाहट सी होने लगी थी, और वह अपना संयम खोने लगी थी, ना चाहते हुए भी उसका हाथ एक बार अपनी चूत को घाघरे के उपर से थोड़ा खुरेदने के लिया चला गया और दोनो भाई उसकी इस हरकत को देख कर उसके मन की इस्थिति को भाँप चुके थे उनका मोटा लंड बैठे उए भी उनके कछे मे तंबू की तरह तना हुआ था, और वह बिना कमला की परवाह किए अपने शरीर पर साबुन मलते हुए अपनी मा की मोटी मोटी गदराई चुचियो को देख देख कर मज़ा ले रहे थे, कमला की नज़रे अपने बेटो के मोटे लंड पर बार बार जाकर टिक जाती थी और वह भी अपने आप को रोक ना सकी और अपने गोरे गदराए बदन पर पानी डाल कर अपनी मोटी चुचियो पर साबुन लगा कर उन्हे कस कस कर रगड़ने लगी और अपनी चुचियो को अपने हाथो से दबा दबा कर कहने लगी सारा दिन झाड़ फुक कर कर के कितना मैल शरीर पर जमा हो जाता है, और अपने हाथो को उठा कर अपनी बगल मे हाथ फेरने लगी, राजू और बिरजू ने जब अपनी मा की बालो से भरी बगल देखी तो उनका लंड झटके दे दे कर हिलने लगा, दोनो भाई साबुन लगाते लगाते बीच बीच मे अपने लंड को भी मसल देते थे जो कि कमला की चूत से पानी बहाने के लिए काफ़ी था,

कमला ने अब अपनी दोनो जाँघो को थोड़ा फैला कर अपने घाघरे को घुटनो की जड़ो तक चढ़ा कर अपनी गोरी गोरी पिंदलियो और गदराई जाँघो पर साबुन लगाना शुरू कर दिया, दोनो भाई का मन कर रहा था कि अपनी मा को यही लिटा कर उसके नंगे बदन पर चढ़ कर उसे अभी चोद दे, बीच बीच मे कमला अपने घाघरे को जो कि दोनो जाँघो के बीच उसकी चूत के पास सिमट गया था अपनी चूत पर दबा कर अपनी जाँघो को अपने दोनो बेटो को दिखा दिखा कर रगड़ रही थी, फिर अपनी जाँघो पर जब उसने पानी डाला तो उसकी गोरी मोटी मोटी जंघे चमकने लगी, तभी कमला ने कहा अरे राजू ज़रा मेरी पीठ तो रगड़ दे, राजू अच्छा मा कहता हुआ खड़ा हो गया और उसका मोटा डंडा उसकी मा के सामने तन गया जिसे कमला देख कर सिहर गई और उसकी चूत बहने लगी, राजू जल्दी से अपनी मा की नंगी पीठ के पीछे अपने दोनो पैरो के पंजो पर बैठ कर अपनी मा की गोरी पीठ को बड़े प्यार से सहला सहला कर उसकी जवानी का मज़ा लेने लगा, कमला अरे बेटा थोड़ा तगड़ा हाथ लगा कर मसल बड़ा मैल हो जाता है पीठ पर, राजू अपनी मा की पीठ से बिल्कुल लिपट कर तगड़े तरीके से उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा और उसका खड़ा लंड उसकी मा की कमर पर चुभने लगा, अपने बेटे के मोटे लंड की इतनी गहरी चुभन को महसूस करते ही कमला का हाथ अपने बस मे नही रहा और एक बार फिर उसने अपने हाथो के पंजो से अपनी चूत को दबोच लिया, राजू अपनी मा की पीठ रगड़ता हुआ उसके बगल तक अपना हाथ भरने की कोशिश करने लगा जिससे कमला ने अपने हाथो को थोड़ा फैला दिया और राजू अपनी मा की उठी चुचियो को भी साइड से महसूस करने लगा, कुछ देर की पीठ रागड़ाई के बाद कमला ने कहा चल अब जल्दी से नहा लो बेटा फिर हमे जंगल भी चलना है और कमला खड़ी होकर अपना नाडा खोलने लगी और फिर मग से पानी भर कर अपने बेटो के सामने अपने घाघरे के अंदर एक दो मॅग पानी डाल कर घाघरे के उपर से खड़े खड़े अपनी चूत को एक दो बार मसला और फिर दूसरा घाघरा उठा कर अपने सर से डाल कर भीगा हुआ घाघरा छ्चोड़ दिया, दोनो भाई नीचे बैठे होने के कारण दोनो को दो सेकेंड के लिए अपनी मा की कमर से लेकर पेरो तक पूरी नंगी चूत, मोटी जंघे सब कुछ एक पल के लिए उनकी आँखो के सामने आ गया और अपनी मा की ऐसी गदराई जवानी और फूली हुई चूत देख कर उनके लंड झटके मारने लगे,

कमला दोनो के चेहरे देखकर थोड़ा मुस्कुरई और फिर कपड़े उठाने के लिए जैसे ही झुकी उसकी मोटी गंद दोनो के मूह से सिर्फ़ 4 इंच की दूरी पर थी जिसे दोनो आँखे फाड़ फाड़ कर देख रहे थे तभी कमला ने अपना हाथ अपनी गंद के पीछे लाकर अपनी गुदा को अपनी चारो उंगलियो से रगड़ा जैसे गीली गंद का पानी पोछ रही हो और कपड़े उठा कर खड़ी होकर अपने घर के दरवाजे की ओर चल दी, कमला द्वारा अपनी गंद के छेद का पनी पोछने के कारण उसका घाघरा उसकी मोटी गंद की दरार मे फस गया और वह अपने बड़े बड़े मोटे तरबूज से चूतड़ मतकाती हुई अपने दरवाजे की ओर जाने लगी, दोनो भाई का हाल बहाल हो चुका था और दोनो अपनी मा के मटकते मोटे गदराए मसल चूतादो और उसमे फँसे उसके घाघरे और उसकी मोटी दरार को देख कर बर्दाश्त नही कर सके और अपना लंड हिलाने लगे और घर के अंदर तक कमला के मोटे मोटे मटकते चूतादो को देख देख कर अपना पानी छ्चोड़ने लगे, दोनो भाई अपनी मा के मोटे चूतादो को देख कर तबीयत से झाडे और फिर एक दूसरे को देख कर मुस्कुराते हुए यार आज तो मज़ा आ गया , और फिर नहा कर तैयार होकर अपनी लूँगी पहनकर अपनी मा के साथ जंगल की ओर कुल्हाड़ी और रस्सिया लेकर चल पड़े.
Reply
06-21-2018, 11:50 AM,
#4
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
आगे आगे कमला अपने भारी भरकम मोटे मोटे चूतड़ हिलाती चल रही थी और पीछे

पीछे उसके दोनो बेटे राजू और बिरजू चले जा रहे थे, दोनो की कातिल निगाहे अपनी मा की

मस्तानी लचकति गंद पर थी और चलते चलते उनकी लूँगी से उनके डंडे सीधे खड़े नज़र

आ रहे थे, मा उनके जस्ट आगे थी इसलिए दोनो कुछ बोल नही रहे थे लेकिन अपनी मा के

मस्ताने चूतादो को देख देख कर दोनो मंद मंद मुस्कुराते हुए, उनकी नज़रे एक दूसरे

से बखूबी बाते कर रही थी, वह दोनो अपनी मा के मसल चुतदो को देखने मे इतना खोए

हुए थे कि उन्हे यह भी नही पता चला कि कमला ने पीछे मूड कर उनकी नज़र कहाँ है

देख लिया था और साथ ही दोनो के मोटे लंड जो लूँगी के अंदर सर उठाए खड़े है उन्हे भी

देख चुकी थी. आज जबसे कमला ने अपने दोनो बेटो के लंड को देखा तब से उसकी चूत भी एक

तगड़े लंड के लिए तड़पने लगी थी, इसीलिए कमला को अपने दोनो बेटो द्वारा उसकी मोटी गंद को

देखने पर एक अनोखा आनद प्राप्त हो रहा था और वह मन ही मन खुश होती हुई अपनी

मोटी गंद को जनभुज कर और मतकाते मतकाते चलने लगी, उसकी इस तरह की थिरकन और

मटकते चूतादो को देख कर दोनो भाई रस से भरे जा रहे थे और उन्ही अपनी मा घाघरे

के होते हुए भी नंगी नज़र आ रही थी और दोनो चलते चलते अपने मोटे लंड को मसल्ते जा

रहे थे, कमला बीच बीच मे अपने दोनो बेटो को उसकी गंद देख देख कर लंड मसलते

देखने परवह मस्त होने लगी और उसकी चूत भी काफ़ी सारा पानी छ्चोड़ने लगी और उसे अपनी

गंद देख कर अपने बेटो के लंड मसल्ने की हरकत ने सनसना दिया था और वो जानबूझ

कर चलते हुए अपनी गंद मे खुजली करने लगी जिसे देख कर एक पल को तो राजू और बिरजू को

लगा कि अभी पकड़ कर अपनी मा को पूरी नंगी करके यही चोद देते है, कमला थोड़ी थोड़ी देर

मे अपनी गंद के छेद मे खुजली करती हुई अपनी मोटी गंद ऐसे मटका रही थी जैसे कह रही

हो कि आजा और मेरी गंद मे लंड डालकर मुझे चोद दे.

जब कमला और उसके बेटो ने घर के सामने वाली पुलिया पार कर ली तब फिर आम के बगीचे

शुरू हो गये, तब कमला नीचे गिरे हुए आमो को उठाने के लिए जानबूझ कर झुकती और

अपनी मोटी गंद अपने बेटो को दिखा दिखा कर मज़े ले रही थी, आम का बगीचा क्रॉस करते ही

थोड़ा जंगल शुरू हो गया और तभी कमला के पैरो मे कोई काँटा चुबा जिससे वह आह

करती हुई झुक कर काँटा निकालने लगी दोनो भाई ऐसे मोके की हमेशा तलाश मे रहते थे उन

दोनो ने झट से अपनी मा की मोटी गंद पर हाथ फेरते हुए क्या हुआ मा, कमला अरे कुछ नही

बेटा ज़रा काँटा चुभ गया, कमला झुकी हुई काँटा निकाल रही थी और दोनो भाई प्यार से अपनी

मा के चूतड़ सहला रहे थे, घाघरा बिल्कुल पतला होने के कारण राजू ने बड़े प्यार से

पीछे से अपनी मा की फूली हुई चूत को अपने पूरे पंजे से सहलाते हुए -निकला मा, और कमला

सी आह अभी नही निकला रे, जब कि काँटा निकल चुका था तभी राजू ने चूत से हाथ हटाया तो

बिरजू ने इस बार अपना पूरी हथेली को सीधे अपनी मा की पूरी फूली हुई चूत पर रख कर दबा

कर पुंच्छा नही निकल रहा क्या मा, तब तक कमला की चूत से पानी आ गया और उसके घाघरे

से लगता हुआ बिरजू के हाथो मे लग गया, और कमला सीधी होकर चल दी, तब बिरजू अपने

हाथ पर लगे पानी को सूंघने लगा और राजू को भी सूँघाने लगा, कमला ने अपने दोनो बेटो

को अपनी चूत का पानी सूंघते देख लिया और उसकी चूत बुरी तरह लंड खाने के लिए

फड़फड़ाने लगी.

कमला की बुर गीली हो चुकी थी उससे रहा नही जा रहा था, इतने साल की

चुदास अचानक अपने दोनो बेटो के मोटे लंड को देख कर उसकी बुर पानी ही पानी फेक रही

थी.

जब जंगल मे थोड़ा आगे पहुचे तो कमला ने कहा बेटा मुझे बहुत जोरो की पेशाब लगी

है, यह सुन कर दोनो मस्त हो गये, कमला बेटा यहाँ कही जगह दिख नही रही है तुम

दोनो एक काम करो उधर मूह घुमा लो तो मैं पेशाब कर लू, अच्छा मा, और उन दोनो ने

अपना मूह दूसरी ओर घुमा लिया कमला जानती थी कि ये दोनो मूड कर ज़रूर देखेंगे इसलिए

उसने जानबूझ कर उन दोनो की तरफ पीठ करके बड़े आराम से खड़े खड़े अपना पूरा

घाघरा अपनी कमर तक उठा दिया, और दोनो भाइयो ने जल्दी से अपना सर घुमा कर जैसे ही देखा

उनका मूह खुला का खुला रह गया उनकी मा पूरी नंगी थी उसके मोटे मोटे फैले हुए भारी

चूतड़ और लंबी लंबी और काफ़ी ज़्यादा गदराई मोटी मोटी जाँघो को थोड़ा फैला कर

कमला धीरे धीरे अपनी गंद पीछे की ओर निकाल कर बैठने लगी, उसकी गंद का गहरा मोटा

छेद और पूरे एक बीते का फूला हुआ भोसड़ा और भोस्डे की फटी फांको के बीच गुलाबी

कलर का बड़ा सा छेद देख कर दोनो के लंड झटको पर झटके मारने लगा और लूँगी पूरी

तन कर खड़ी हो गई, और उनकी मा अपने भारी भरकम चूतादो को फैलाकर मूतने बैठ गई

दोनो भाई अपनी फटी फटी आँखो से अपनी मा की मोटी मोटी गंद को देखकर अपनाअपना लंड लूँगी

से निकाल कर मसल्ने लगे उनका मोटा काला लंड 10 इंच के लंबे और 3 इंच के मोटे डंडे

जैसे खड़ा था, दोनो भाई अपनी मा की मस्तानी गोरी गंद देखकर पागल हो गये उन्होने इतनी

मोटी और मस्तानी गंद पूरी नंगी आज तक नही देखी थी, घाघरे के उपर से जितनी बड़ी गंद

उनकी मा की नज़र आती थी उससे डबल उसके विशाल चूतड़ नंगे होकर उन्हे नज़र आ रहे थे

, तभी कमला की फूली हुई चूत से एक मोटी धार एक सीटी की आवाज़ के साथ निकलने लगी जिसे देख

कर दोनो भाई के तोपो का रंग लाल हो गया और दोनो आवने लंड को तेज़ी से झटके मारने लगे,

करीब 2 मिनिट तक कमला आराम से बैठी मुतती रही फिर जब खड़ी हुई तो अपने घाघरे से

अपनी चूत दोनो तंघे फैलाकर थोड़ा झुक कर पोछने लगी और फिर दोनो भाइयो ने अपना सर

वापस पीछे घुमा लिया, कमला मंद मंद मुस्कुराते हुए चलो बेटा मैने पेशाब कर

ली,

तभी बिरजू बोला मा हमको भी पेशाब करना है आप भी अपना मूह उधर घुमा लो, तो

कमला ने कहा ठीक है बेटा कर लो और दोनो भाई जानबूझ कर थोड़ा सा मुड़े ताकि उनकी मा

उनके लंड को आराम से देख सके और अपना सर नीचे झुककर दोनो ने जब अपने खड़े

काले काले लंड बाहर निकाले तो कमला उनका लंड देखती ही रह गई, उसकी आँखे फटी की फटी

रह गई क्यो कि उसने भी अपने जीवन मे इतने मोटे और बड़े लंड कभी नही देखे थे अपने

सामने एक नही दो दो मोटे काले डंडे और उस पर बड़ा सा कत्थे रंग का सूपड़ा देख कर

कमला के मूह मे पानी आ गया और उसकी बुर अपने बेटो के मोटे काले लंड देखकर

फड़कने लगी, दोनो भाई अपनी मा के लाल हुए चेहरे को देखने लगे, और अपने अपने लंड

को वापस अपनी लूँगी मे च्छूपा लिया, कमला ने जल्दी से अपना मूह आगे की ओर किया तब दोनो

भाई अपनी मा के पास पहुच कर दोनो ने एक एक हाथ से अपनी मा के चूतादो को हाथ लगा कर

आगे की ओर धकेलते हुए कहा चल मा हम पेशाब कर चुके, जब दोनो ने अपनी मा के

मोटे मोटे चूतादो को छुआ तो दोनो ही सिहर गये यह ऐसा एहसास था जैसे कोई जबरदस्त

कसी हुई गंद की औरत सिर्फ़ साडी पहने हो और उसके चूतादो को सहलाओ तो कैसा एहसास होता

है, क्योकि उनकी मा ने केवेल घाघरा पहना था और घाघरे का कपड़ा काफ़ी चिकना और

पतला था

कमला चलते हुए अपने बेटो के सामने अपनी गंद ऐसे मटका कर चल रही थी जैसे अभी

अपनी गंद मरवा लेगी, दोनो भाइयो के मोटे लंड बैठने का नाम नही ले रहे थे और उनकी

मा उन्हे नंगी नज़र आ रही थी और वह दोनो बड़े गोर से अपनी मा के मस्ताने चूतादो को

देखते हुए उसकी गंद के पीछे चले जा रहे थे, जंगल पहूचकर दोनो भाइयो ने अपनी

अपनी लूँगी को अपनी जाँघो तक मोड़ कर बाँध लिया और पेड़ पर चढ़ कर सुखी सुखी टहनिया

काटने लगे, कमला नीचे बैठ कर लकड़िया समेटने लगी, करीब दो घंटे तक लकड़िया काटने

के बाद कमला ने कहा अब तुम दोनो नीचे आ जाओ और खाना खा लो,

क्रमशः....................
Reply
06-21-2018, 11:51 AM,
#5
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
"खून का असर"--3

गतान्क से आगे........................

फिर कमला ने अपने साथ लाई हुई रोटिया और साग निकालकर दोनो बेटो को दिया और खुद भी खाने लगी, खाना खाने

के बाद एक पेड़ की छाया के नीचे कमला लेट गई और दोनो बेटे उसके पैरो की ओर पेड़ से टिक

कर बैठ गये, कुछ देर पेड़ की छाँव मे लेटे लेटे कमला ने आँखे बंद करते हुए बेटा

मैं थोड़ा थक गई हू तो एक घंटा सो जाती हू तुम दोनो कही जाना नही, ठीक राजू बोला ठीक है

मा तुम सो जाओ हम यही बैठे है और कमला ने अपनी आँखे बंद कर ली, कमला की आँखो

मे नींद कहाँ थी वह आँखे बंद किए लेटी थी लेकिन उसकी आँखो के सामने तो अपने बेटो

के काले लंड लहरा रहे थे और उसकी बुर चिपचिपा रही थी.

कुछ देर अपने दोनो पैरो को मोड़ कर पीठ के बल लेटी हुई थी तभी राजू ने बिरजू की ओर इशारा

करते हुए जो कि कमला के पैरो के बिल्कुल पास बैठा था को अपनी मा के घाघरे की ओर इशारा

किया और बिरजू उसका इशारा समझते ही अपनी मा के दोनो पैरो के बीच मे लटके घाघरे को

धीरे से उठा कर उसके घुटनो पर चढ़ा देता है, जिससे कमला के पैरो के बीच की जगह से

पूरा घाघरा उठ जाता है अब दोनो भाई चुपके से एक एक कर के अपनी मूह अपनी मा की दोनो

टाँगो के बीच घुसा कर अपनी मा का फूला हुआ भोसड़ा देखने लगते है और उनका मूह

खुला का खुला रह जाता है उनकी मा का भोसड़ा बिल्कुल पाव रोटी की तरह और फूला हुआ

था जिसके बीच एक लंबी लकीर उसकी चूत को बीच से चीर कर गंद के छेद से मिल रही थी

यह सीन देख कर उनके लंड झटके मारने लगे और दोनो ने अपने अपने लंड अपनी लूँगी से

निकालकर अपने हाथ मे ले लिए और वही बैठे बैठे हिलाने लगे,

राजू धीरे से यार बिरजू अपनी

मा की चूत कितनी गदराई हुई है मेरा लंड देख अपनी मा की चूत को फाड़ने के लिए मचल

रहा है, जंगल के शांत वातावरण मे उन दोनो की कामुक बाते कमला को स्पस्ट सुनाई दे

रही थी और उसने धीर से अपनी आँखो को थोड़ा खोल कर देखा तो दोनो के काले काले मोटे

लंबे लंड देख कर कमला के मूह मे पानी आने लगा और उससे रहा नही गया वह अपनी

चूत खूब नंगी कर के अपने बेटो को दिखाना चाहती थी तभी उसने धीरे से अपनी जाँघो को

थोड़ा फैला दिया जिससे उसकी फूली हुई चूत की फांके पूरी तरह खुल गई और उसकी चूत का

गुलाबी रस से भरा छेद दोनो भाइयो के सामने खुल गया जिसे देख कर दोनो भाइयो की

आँखो मे लाल डोरे तेरने लगे और उन दोनो ने अपने लंड को अपनी मा की फटी हुई चूत देख

कर तबीयत से मुठियाना चालू कर दिया, कमला उनके लंड देख देख कर बैचैन हो रही थी

और उसका मन कर रहा था कि अभी के अभी इन दोनो के मोटे लंड उसकी चूत को फाड़ फाड़ कर

खूब कस कस कर चोदे, तभी बिरजू ने धीरे से मा मा कहते हुए उसकी दोनो जाँघो को और

खोल दिया कमला ने भी अब अपने पैरो को पूरा फैला कर पसार दिया जिससे उसकी फटी फांके

बिल्कुल अलग हो कर अपनी चूत का पूरा गुलाबी कटाव और काफ़ी तना हुआ लहसुन अपने बेटो को

दिखाने लगी, उसकी जाँघो के बीच इतना गेप हो चुका था कि पूरा भोसड़ा साफ दिखाई दे रहा

था तभी राजू धीरे से अपने घुटनो के बल आकर अपनी मा के घाघरे मे अपना मूह डालता

हुआ अपनी नाक को अपनी मा की फूली हुई खुली चूत के बिल्कुल पास ले गया और बहुत तेज़ी से सास

खीच कर अपनी मा की फटी हुई चूत को सूंघने लगा और बिल्कुल मदहोश हो गया और खूब

ज़ोर ज़ोर से सास ले ले कर अपनी मा की फूली हुई चूत की मादक गंध को सूंघने लगा, राजू जब

अपनी नाक से सास लेकर अपनी मा की फूली हुई चूत सुन्घ्ता फिर जब उसकी सास भर जाती तो वह

अपनी नाक से सास छ्चोड़ता जिससे कमला की खुली हुई चूत पर जब गरम गरम सांसो की हवा

पड़ने लगी तो वह समझ गई कि उसका बेटा उसकी चूत के बिल्कुल नज़दीक अपनी नाक लगा कर उसकी

चूत की मादक गंध को सूंघ रहा है तो वह इतनी चुदासी हो गई कि उसकी चूत से पानी बह

बह कर उसकी गंद के छेद तक पहुच गया, फिर बिरजू ने पीछे से हाथ लगा कर राजू को

इशारा किया तो राजू ने अपनी मा के घाघरे से अपना मूह बाहर निकाल और फिर बिरजू ने अपना

मूह अपनी मा के घाघरे के अंदर डाल कर उसकी चूत की मादक गंध को अपनी नाक से

सूंघना शुरू कर दिया,

करीब आधे घंटे तक दोनो भाई बारी बारी से अपनी मा की चूत

सूंघ सूंघ कर उसे चोदने के लिए मरे जा रहे थे, और दोनो कहते जा रहे थे यार हमारी

मा की भोसड़ी कितनी मस्त और फूली हुई है अगर यह एक एक बार हम दोनो भाइयो का लंड अपनी

चूत मे घुसवाकर मरवा ले तो फिर हम इसे दिन रात अपने घर मे नंगी रख कर दिन रात इसकी

फूली हुई चूत मारेंगे, कमला अपने बेटो द्वारा खुद की चूत मारने की बात सुन कर सनसना

गई और उसे लगा जैसे पड़े पड़े ही उसकी चूत से पेशाब निकल जाएगा, दोनो भाई अपनी मा को

चोदने की खुली बाते कर कर के पागल हो रहे थे और फिर जब उनसे बर्दास्त नही हुआ तो वही

अपनी मा की फूली हुई बुर को देखते हुए दोनो भाइयो ने तबीयत से अपना लंड हिलाया और अपना

सारा माल छ्चोड़ कर हाफने लगे, जब कमला को एहसास हो गया कि दोनो ने उसकी चूत को देख

देख कर मूठ मार ली है तब थोड़ा कसमसा कर सोए से उठने का नाटक करती हुई उठ बैठी,

तुम दोनो कही गये तो नही थे नही मा हम दोनो तो तेरे पैरो के पास ही बैठे थे, अच्छा

चलो अब लड़किया रस्सी से बांधो और चलने की तैयारी करो फिर नही तो शाम हो जाएगी और

दोनो भाई अपनी लूँगी ठीक करते हुए लकड़ियो के गत्थे बनाने लगे और फिर सबसे छ्होटा

गत्था अपनी मा के सर पे लड़ दिया और बड़े बड़े गटते अपने सर पर लड़ कर अपनी मा को

आयेज चलने का कह कर पीछे पीछे चलते हुए अपनी मा के गदराए चूतादो को देखते

हुए घर की ओर चलने लगे.

रात को कमला अपनी खाट पर पड़ी पड़ी अपने बेटो की बातो को याद कर कर के अपनी चूत को सहला रही थी उसकी चूत खूब फूल चुकी थी, तभी उसका मन अपने बेटो की बाते सुनने का होने लगा और वह चुपचाप दरवाजे के पास कान लगा कर सुनने लगी, अंदर बिरजू और राजू अपना लंड अपने हाथ से सहलाते हुए यार क्या चूत है हमारी मा की इतनी फूली चूत देख कर मेरा लंड तो पागल हो रहा था हाँ यार राजू और अपनी मा की मोटी गंद देखी कितनी मस्तानी गंद है यार राजू अपनी मा की चूत और गंद मारने का मज़ा ही कुछ और होगा कितना पानी छोड़ती होगी हमारी मा की फूली हुई चूत, राजू मैने तो जब से उसकी मोटी गंद और पेशाब करते हुए उसकी चूत से निकलती पेशाब की मोटी धार देखी तब से मेरा लंड तो उसके मोटे गुलाबी चूत के छेद मे घुसने के लिए तड़प रहा है, हाँ यार राजू अपनी मा को पूरी नंगी करके देखने का इतना मन कर रहा है कितनी गदराई और मोटी जंघे है उसकी, और चूतड़ तो इतने मोटे है जब चलती है तो ऐसे मटकते है की सीधा जा कर अपना मोटा लंड उसकी मोटी गंद मे डाल दू और मार मार के उसकी गंद का छेद ढीला कर दू,
Reply
06-21-2018, 11:51 AM,
#6
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
हाँ यार राजू मेरा दिल तो अपनी मा की चूत और गंद मारने के लिए तड़प रहा है एक बार हम दोनो भाइयो से अगर हमारी मा चुदवा ले तो उसे पूरी नंगी करके तू आगे से उसकी चूत मारना मैं पीछे से उसकी गंद मारूँगा जब हमारी मा की चूत और गंद मे हमारे मोटे मोटे काले लंड घुस कर उसे चोदेगे तो दोनो तरफ से ऐसे मोटे मोटे लंड के झटके खा खा कर वह भी मस्त हो जाएगी तू आगे से उसकी चूत अपने लंड से दबाना मैं पीछे से उसकी मोटी गंद मे अपना लंड दाबुँगा तब हमारी मा अपने दोनो बेटो के लंड पर झूला झूल कर खड़ी खड़ी मूतने लग जाएगी,

अब बाहर कमला अपने दोनो बेटो द्वारा उसे तरह तरह से चोदने की बात सुन सुन कर कमला से रहा नही जा रहा था और उसने अपना घाघरा उठा कर वही मूतने के अंदाज मे बैठ गई और अपने बेटो द्वारा उसे चोदने की बाते सुन सुन कर अपनी चूत को अपनी चारो उंगलियो से चोदने लगी और कल्पना करने लगी कि उसके बेटे कैसे पूरे नंगे होकर अपनी मा को पूरी नंगी करके कितने तगड़े झटके अपनी मा की चूत और गंद मे मार रहे है,

यार बिरजू कैसे भी करके हम दोनो को अपनी मा को चोदने के लिए पटाना होगा एक बार भोसड़ी अगर हमसे चुद गई तो फिर समझ लो हम दिन रात उसको घर पर नंगी ही रखेंगे और दिन रात उसको चोद्ते रहेगे, दोनो भाई दारू के नशे मे मस्त होकर अपनी मा की चूत मारने की बाते कर कर के अपना मोटा लंड हिलाते जा रहे थे, और उनके द्वारा खुद को चुदने की बात से कमला अपनी मोटी चूत को मसले जा रही थी, और कुछ देर के बाद अपना लंड हिलाते हुए दोनो ओह मा कितनी मादक गंध थी तेरी फूली हुई बुर की कितनी चौड़ी और फूली बुर है तेरी एक बार अपने बेटो को पूरी नंगी होकर अपने उपर चढ़ा ले मा तेरी ऐसी चूत मारेंगे कि तू खड़े खड़े ही मूते रह नही पाएगी, और अपनी मा का गदराया पेट देखा है जैसे किसी ने चूत मार कर उसे गर्भवती कर दिया हो मेरा तो मन करता है कि उसे इतना नंगी करके चोदु कि वह सच मे गर्भवती हो जाए यार राजू कल जब मा के साथ जंगल जाएगे तब जब वह सो जाएगी तब उसकी बुर को अपने हाथो से ज़रूर सहलाएगे वैसे भी वह थोड़ी गहरी नींद मे सोती है उसका घाघरा उठाकर उसकी चूत को पहले अच्छे तरह से सूँघेगे फिर उसकी चूत को हल्के हल्के अपने हाथो के पंजो मे लेकर उसे खूब दबोचेगे पर कही वह जाग गई तो अरे नही यार वह बड़ी पक्की नीद सोती है अगर थोड़ी बहुत उंगली भी उसकी चूत मे डाल देंगे तब भी उसकी नींद खुलेगी नही, और फिर दोनो भाई अपनी मा की नंगी चूत और गंद की कल्पना करके अपना लंड हिला कर अपना माल निकाल देते है उधर कमला अपने बेटो की बाते सुन कर अपनी चूत मे खूब कस कस कर उंगलिया चलाते हुए झाड़ जाती है, फिर तीनो मा बेटे सो जाते है

सुबह सुबह दोनो भाई अपनी प्लॅनिंग के हिसाब से आम के बगीचे के मे जाकर एक पेड़ से छुप जाते है और सुधिया काकी का उधर आना होता है सुधिया काकी जब उनसे सिर्फ़ 20 मीटर की दूरी पर आकर उनकी और अपनी मोटी गंद करके संडास को बैठती है

तब दोनो भाई उसके चूतड़ देख कर होश खो बैठते है और अपना अपना लंड निकाल कर उसकी मोटी गंद देख देख कर अपना लंड हिलाने लगते है और सुधिया काकी कि गंद देख देख कर वही खड़े खड़े अपना लंड हिलाकर मूठ मार देते है और जल्दी जल्दी अपने घर की और आ जाते हेई, दोनो बही हॅंडपंप पर बैठ कर दातुन करते हुए सुधिया काकी की मोटी गंद के बारे मे बाते करने लगते है, लेकिन उन्हे ध्यान नही रहता है कि सुधिया काकी आकर उनके पीछे खड़ी उनकी बात सुनने लगती है राजू यार सुधिया काकी के चूतड़ कितने भारी है मेरा तो उसकी गंद मारने का दिल कर रहा है, तभी सुधिया काकी हराम के जनो कुत्तो, कमिनो शर्म नही आती मेरी गंद मारने की बात करते हुए हरमियो जाकर अपनी अम्मा की गंद मारो मदर्चोदो उसकी गंद तो पूरे गाँव मे सबसे मोटी है जाकर अपनी मा की गंद पर चढ़ जाओ हरमियो, तुम कमिने कभी नही सुधरोगे आख़िर हरामी अपने बाप पर गये है उसने भी अपनी अम्मा की गंद मारी थी आख़िर खून का असर है तो वह कहाँ जाएगा, नीच कही के और इतना कह कर बड़बड़ाती हुई अपने घर मे घुस जाती है, दोनो भाइयो का मूड खराब हो जाता है और यार राजू इस मदर्चोद की गंद तो अब किसी भी हालत मे मारनी ही पड़ेगी मदर्चोद बहुत मा चुदवा रही है, अब हमे इसकी मोटी गंद मारे बिना चैन नही आएगा इस रंडी की गंद अगर मार मार के फाड़ ना दी तो हम भी अपने बाप की औलाद नही, कुतिया साली सुबह सुबह मा चुदवा के चली गई रंडी, और दोनो भाई अपने घर मे आ जाते है, कमला घर मे झाड़ू लगा रही थी और दोनो भाई चाय पीते हुए अपनी मा के मोटे मोटे चूतादो को थिरकते देख देख कर मज़ा ले रहे थे कमला भी समझ रही थी कि उसके बेटे उसकी मोटी गंद को देख देख कर मज़ा ले रहे है,

तभी कमला झाड़ू मारते हुए अपनी गंद के छेद को खुजलाने लगी जिससे उसके घाघरे मे एक गहरा सा गेप बन गया और दोनो भाइयो के लंड अपनी मा की मोटी मोटी गंद को देख कर खड़े हो गये, कमला झाड़ू मारते मारते अपने मोटे चूतादो को अपने बेटो के मूह के सामने लाकर नचा नचा कर झाड़ू मारने लगी दोनो भाइयो को लग रहा था कि अभी अपनी मा का घाघरा उठा कर उसकी गंद मे अपना मूह भर दे, और अपना लंड अपनी लूँगी से सहलाने लगे, तभी बिरजू खड़ा होकर अपने लंड को बाहर निकाल लेता है तब राजू उसका हाथ पकड़ कर वापस उसे बैठने को कहता है और धीरे से सबर कर यार तू तो मा की गंद मे लंड फसाने के लिए मरा जा रहा है, ये अपनी मा है ये इतनी आसानी से अपनी गंद नही मरवाएगी इसकी मोटी गंद चोदने के लिए हमे बड़े जतन और उपाय करने होंगे लेकिन तू चिंता मत कर एक दिन इसकी मोटी गंद हम दोनो भाई ही चोदेन्गे, कमला अपने बेटो की खुस्फुसाहट भरी बाते सुन लेती है और अपनी गंद का छेद सहलाते हुए घर के बाहर कचरा फेंकने चली जाती है, तब राजू यार एक बात देखी है तूने कुच्छ दिन से हमारी मा की गंद कुच्छ ज़्यादा ही खुजलाने लगी है मुझे लगता है कि हमारे मोटे काले लंड देख कर इसकी गंद और चूत मे खुजली बहुत बढ़ गई है यदि हम थोडा संयम से काम ले तो यह हमे अपनी गंद और चूत बड़े आराम से दे देगी बस थोड़ा इसकी चूत का पानी हमे कैसे भी करके बहाना पड़ेगा, तब बिरजू बोला मेरे दिमाग़ मे एक आइडिया है राजू बोल बोल कॉन सा आइडिया आया है तेरे भेजे मे, बिरजू यार पहले एक बार यह पता चल जाए कि यह हमारे लंड के लिए तड़प रही है तभी मैं अपने आइडिया के बारे मे आगे सोच सकता हू, राजू अरे यह तो बड़ा आसान है पता करना कि यह हमारे लंड के लिए तड़प रही है कि नही, बिरजू वह कैसे, राजू अगली बार जब हम जंगल जाएगे तब मूतने के बहाने इसे फिर से लंड दिखाने की कोशिश करेंगे अगर यह हमारा लंड देखने की कोशिश करती है तो समझ लेना कि यह हमसे अपनी चूत और मोटी गंद मरवाने के लिए तड़प रही है, तभी कमला घर के अंदर आ जाती है और दोनो चुप हो जाते है,

क्रमशः....................
Reply
06-21-2018, 11:51 AM,
#7
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
"खून का असर"--4

गतान्क से आगे........................

कमला -अरे बेटा तुम्हारी बहन के गाँव से एक आदमी आया था और वह बता रहा था कि तुम्हारी बहन तुम्हारे जीजा जी के साथ शहर मे रहने लगी है तुम्हारे जीजा जी की कोई नौकरी शाहर मे लगी है तो तुम दोनो ऐसा क्यो नही करते शहर जाकर अपनी बहन की खेर खबर ले आओ और अगर तुम्हारे जीजाजी हाँ करे तो अपनी बहन को कुछ दिन के लिए लेते भी आना काफ़ी समय हो गया है उसे अपने ससुराल गये हुए को, और वैसे भी आज मेरी तबीयत कुच्छ ठीक नही लग रही है तो मैं भी आज जंगल नही जाना चाहती हू तो तुम दोनो आज ही शहर चले जाओ और आज रात अपनी बहन के यही रुक जाना सुबह अगर तुम्हारे जीजाजी कहे तो उसे भी साथ लेते आना, बिरजू ठीक है मा तू हमारे लिए रोटिया बाँध दे हम अभी चले जाते है,

दोनो भाई शहर की ओर चल देते है, शहर पंहुच कर राजू यार बिरजू बहुत दिन से

हमने कोई पिक्चर नही देखी क्यो ना हम कोई पिक्चर देख ले उसके बाद अपनी बहन शीला के

घर चलते है, बिरजू तो ठीक है हम लोग पिक्चर चलते है, दोनो भाई टिकेट ले कर सिनिमा

देखने बैठ जाते है मूवी मे एक सीन मे विलेन हीरोइन को किडनॅप करके उसे अपने गॉडाउन

मे ले जाता है और उसे चोदना चाहता है लेकिन हेरोइन उसका विरोध करके चिल्लाति है और उस

विलेन को छोड़ने नही देती है तब विलेन उसे कहता है तू मुझे नखरा दिखा रही है, अब मैं

तेरी ऐसी हालत करूँगा कि तू खुद अपना विरोध भूल कर मुझसे बड़े प्यार से चुडवाएगी और

उस हेरोइन को एक पलंग पर सीधा लेटा कर उसके हाथ पलंग के उपर की तरफ बाँध देता है

और उस हेरोइन के दोनो पैरो को फैलाकर एक पैर को दाई और तथा दूसरे पैर को बाई और

बाँध देता है, हीरोइन काफ़ी हाथ पाँव मारने की कोशिश करती है लेकिन वह कुच्छ नही कर

पाती फिर विलेन उसके कपड़े धीरे धीरे उतारने लग जाता है और वह हीरोइन बहुत रोती और चिल्लाति

है लेकिन विलेन उसकी एक नही सुनता है और उसको पूरी नंगी कर देता है अब हीरोइन मारे शर्म

के बहुत रोती है और अपने हाथ पाँव को अपने बंधन से छुड़ाने की कोशिश करती है

लेकिन विलेन ने उसके हाथ पाँव मोटी रस्सी से बाँध दिया था, हीरोइन अपना मूह एक तरफ करके

मारे शर्म के बहुत रोती है और विलेन से उसे छ्चोड़ देने की भीख मांगती है लेकिन विलेन

उसकी एक नही सुनता है, अब विलेन जैसे ही उसके पास आता है वह और ज़ोर से चिल्ला चिल्ला कर रोती

है तब विलेन सीधे उसके दूध के निप्पल मूह को भर कर चूसने लगता है और हेरोइन

बहुत चिल्ला चिल्ला कर विरोध करती है पर विलेन उसके दूध चूस्ता रहता है और हीरोइन के

आँखो से आँसू बहते रहते है अब विलेन उसकी चूत मे अपना मूह लगा कर उसकी चूत को

चाटने लगता है

हीरोइन बहुत रोती है पर जैसे जैसे विलेन उसकी चूत चाटता जाता है वह

कसमसाने लगती है और जब विलेन 5-10 मिनिट तक उसकी चूत चाटता है तो हीरोइन रोना बंद

कर देती है और चुपचाप अपनी आँखे बंद किए पड़ी रहती है अब विलेन उसकी चूत की फांको

को अपने दोनो हाथो से फैला फैला कर खूब कस कस कर उस हीरोइन की चूत चाटने लगता

है अब हीरोइन सिसकारी मारने लगती है और तड़पने लगती है विलेन उसकी चूत को लगातार चूस्ता

रहता है हीरोइन की चूत का पानी निकलने लगता है और वह अपनी कमर को विलेन के मूह पर

मारने लग जाती है, और फिर अचानक झाड़ जाती है, और उसका बदन ढीला पड़ जाता है लेकिन

विलेन उसकी चूत को चाटना जारी रखता है लगभग दो मिनिट मे ही हीरोइन फिर से सिसकने

लगती है और फिर से अपनी गंद को हिलाने लगती है, अब विलेन धीरे धीरे उसकी चूत चाटता हुआ

अपनी शर्ट और बाकी के कपड़े उतार कर नंगा हो जाता है हीरोइन उसके लंड को देख कर अपनी

आँखे बंद कर लेती है और विलेन उसकी चूत को कस कस कर चूस्ता रहता है और हेरोइन

तड़पने लगती है अब विलेन हेरोइन का एक हाथ खोल देता है फिर दूसरा हाथ भी खोल देता है

और विलेन जैसे ही नंगा होकर उसके उपर सोता है हेरोइन उसको कस कर अपनी बाँहो मे भर

लेती है और विलेन धीरे से उसे चूमता है तो वह विलेन से कस कर चिपक जाती है और फिर विलेन

धीरे से उसके बँधे हुए पैर भी खोल देता है और हेरोइन को छ्चोड़ देता है लेकिन हेरोइन

उसे कस कर अपनी बाहो मे भर लेती है और अपनी दोनो जाँघो को फैला देती है बस विलेन

यही चाहता था कि वह खुद ही उससे चुदवाये और फिर विलेन उसकी चूत मे अपना लंड डाल

देता है और हेरोइन उसे कस कर अपने नंगे बदन से लगाती हुई उससे चुदवाने लगती है इस

तरह विलेन उसे उसकी मर्ज़ी से भरपूर चुदाई करता है.

दोनो भाई फिल्म का यह सीन देख कर उत्तेजित हो चुके थे और फिर जब फिल्म ख़तम हो गई तो

दोनो बाहर आ गये राजू
Reply
06-21-2018, 11:51 AM,
#8
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
यार बिरजू तूने देखा फिल्म मे विलेन ने कैसे हेरोइन को चोदा बिरजू

हाँ यार कितना नखरा कर रही थी लेकिन विलेन ने क्या आइडिया लगाया और हेरोइन खुद अपनी चूत

मरवाने को तैयार हो गई, तभी राजू बोला यार बिरजू इस पिक्चर को देख कर मेरे दिमाग़ मे एक

आइडिया आया है, बिरजू वो भला क्या राजू यार अगर सुधिया काकी को हम इस तरह बंद कर उसकी

चूत चाते तो वह हमसे खुद चुदने को तैयार हो जाएगी, और यदि हम उससे ज़ोर ज़बरदस्ती

करेंगे तो वह पूरे गाँव मे हल्ला कर सकती है और हम मुसीबत मे आ सकते है, बिरजू भी

राजू की बात से सहमत हो गया और दोनो भाई अपनी योजना के लिए खुश हो गये, फिर दोनो

अपनी बहन शीला के घर की ओर चल दिए, जब वह घर पंहुचे तो एक घाघरा चोली पहने

औरत ने दरवाजा खोला तो दोनो भाई एक पल के लिए तो उसे पहचान नही पाए लेकिन तभी वह

औरत भैया कहते दोनो भाइयो से चिपक गई और उसकी कसी हुई मोटी मोटी चुचिया दोनो

भाई के सीने से दब गई, दोनो भाइयो के तो जैसे होश उड़ गये ऐसी मादक जनाना

खुश्बू की महक उन्हे पहली बार मिल रही थी और अपनी बहन के गदराए बदन से उठती

मादक गंध ने दोनो की नसो मे खून की रफ़्तार को एक दम बढ़ा दिया और उन्होने बिना

मोका गवाए अपनी बहन के चूतादो के पीछे हाथ ले जाकर दोनो भाइयो ने अपने एक एक

हाथ से उसके दोनो चूतादो को दबाते हुए अपनी और खीच कर ओह मेरी प्यारी बहना तू कितनी

बड़ी हो गई हम तो तुझे 4-5 महीने बाद ही देख रहे है लेकिन इन चार पाँच महीने मे तू

कितनी बदल गई कि तुझे देख कर एक पल के लिए तो हम पहचान ही नही पाए और उसके दोनो

और से अपना मूह लगा कर उसके गोरे गोरे गदराए गालो को दोनो भाई चूम लेते है, फिर

शीला दोनो का हाथ पकड़ एक अंदर लेकर आती है और उन्हे बैठा कर भैया आप दोनो

बैठो मैं आपके लिए पानी लेकर आती हू और अंदर की तरफ जाने लगती है दोनो भाइयो के लंड

बिल्कुल खड़े हो चुके थे लेकिन रही सही कसर शीला को अपनी मोटी गंद हिलाकर अंदर जाते

हुए देखते ही उनके लंड ने झटके मारना शुरू कर दिया

उसके अंदर जाते ही यार राजू शीला के

चूतड़ देख कितने गदरा गये है चार महीने पहले तो इतने गदराए नही थे और उसके

दूध देखे कैसे पपितो की तरह बड़े बड़े हो गये है और उसके जिस्म की गंध कितनी

मादक है जब इसके जिस्म की गंध इतनी मादक है तो इसकी चूत और मोटी गंद की गंध कितनी

मादक होगी, राजू अपना लंड मसलता हुआ अरे बिरजू मुझे लगता है ये जीजा जी का खूब कस कस

कर अपनी चूत मे लंड लेती होगी और अपनी गंद भी खूब मरवाती होगी तभी तो इतनी गदरा गई

है, हमे तो पता ही नही था क़ि हमारे घर का माल इतना तगड़ा होगा नही तो हम पहले ही इसकी

चूत और मोटी गंद मार मार के सूजा देते, बिरजू अरे तो अभी क्या बिगड़ा है अभी तो असली फूल

खिला है इसकी गदराई जवानी का रस तो अब भरा है इसके बदन मे, अब अगर हमे ये चोदने

को मिल जाए तो मज़ा आ जाएगा और दोनो भाई अपनी बहन की गदराई जवानी का रस लेने की

कल्पना करते हुए अपने मोटे काले लंड को मसल्ने लगे,

तभी उधर से शीला अपने हाथो मे पानी लेकर आई और मुस्कुराती हुई अपने दोनो भाइयो को

पानी पिलाया फिर धम से दोनो के बीच बैठ गई, अच्छा भैया मा कैसी है और गाँव मे

सब ठीक है ना, बिरजू शीला की मोटी चुचियो को देखता हुआ अरे मा ठीक है और गाँव मे भी

सब ठीक है पर हम देख रहे है तू कितनी बड़ी हो गई है, राजू भी शीला की मोटी जाँघो पर

अपना हाथ फेरता हुआ, शीला अब तो तू औरतो की तरह दिखने लगी है, शीला थोड़ा शरमाने के

बाद अरे भैया शादी के बाद लड़किया औरतो की तरह ही दिखने लगती है, राजू हाँ वही तो हम

देख रहे हैकि हमारी प्यारी बहन पूरी औरत बन चुकी है और शीला के गालो को अपने हाथो

से सहला देता है और दोनो भाई उसे अपनी बाँहो मे कस लेते है, तभी बिरजू अरे शीला जीजाजी

कहाँ है, शीला भैया वो तो काम पर गये है और रात को देर से ही आते है, चलो आप दोनो

हाथ पाँव धो लो मैं आप दोनो के लिए खाना बना देती हू, राजू अरे नही शीला हम गाँव से

खाना लाए थे तो हमने रास्ते मे खा लिया है अब हम जीजा जी के साथ रात को ही खाएगे, शीला

जैसी आप दोनो की मर्ज़ी, बिरजू अच्छा तू हमारे साथ गाँव चलेगी ना मा ने कहा था कि शीला

को भी साथ लेते आना बहुत दिन हो गये है, शीला वो तो ठीक है भैया लेकिन इनसे बोलना तो

पड़ेगा ना, बिरजू अरे शीला तू फिकर ना कर मैं जीजा जी से बात कर लूँगा और फिर दोनो भाई हाथ

पाँव धोने चले गये, जब वापस आए तो शीला बैठी बैठी सब्जिया काट रही थी और उसके

मोटे मोटे दूध बिल्कुल चोली फड़कर बाहर आने को बेताब दिख रहे थे, दोनो भाइयो की

कामुक निगाहे अपनी बहन के मोटे खरबूजो पर लगी हुई थी, लेकिन वह दोनो नही जानते थे कि

शीला अपने कमिने भाइयो की नज़रो को ताड़ चुकी थी और उसे भी कुछ कुछ मज़ा आने लगा
था, तब शीला खड़ी होकर चलो भैया मैं खाना बनाउन्गि आप दोनो रसोई मे ही मेरे पास

रहना और अपनी मोटी गंद मतकाते हुए चलने लगी दोनो भाई अपना अपना लंड मसल्ते हुए

अपनी बहन की मोटी गंद देखते हुए उसके पीछे चल दिए, किचन मे जाकर शीला खाना

बनाने लगी और दोनो भाई अपनी बहन से सॅट कर खड़े हो गये, तभी शीला ने देखा की

दोनो पागल भेड़िए की तरह उसकी मोटी मोटी चुचीयोको बिल्कुल खा जाने की नज़र से देख रहे

थे, तभी शीला ने अपनी चोली का एक बटन खोलते हुए भैया यहाँ बड़ी गर्मी लग रही है

आप चाहो तो बाहर चले जाओ मैं खाना बना कर आती हू, दोनो भाई नही नही तू आराम से

खाना बना हम यही खड़े है और अपनी बहन की चुचियो को प्यासी नज़रो से देखने लगे,

शीला ने हल्के से मुस्कुराते हुए अपनी बहन को इतने दिनो बाद देख रहो हो इसी लिए दूर जाने

का दिल नही कर रहा है आप दोनो का है ना,
Reply
06-21-2018, 11:52 AM,
#9
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
राजू और बिरजू ने अपनी बहन के गालो को चूमते

हुए हमारी रानी बहना कितनी सयानी हो गई है, अब तो शायद तुझे हम याद ही नही आते

होंगे जीजा जी जो मिल गये है, शीला नही भैया जीजा जी तो बाद मे है पहले तो आप दोनो ही है

जिसे मैं प्यार करती हू और फिर आप की गोद मे तो दिन रात खेली हू फिर आप दोनो को कैसे भूल

जाउन्गि, बिरजू अरे शीला वो तो पहले की बात थी जब तेरी शादी नही हुई थी अब तो तू जीजा जी को पा गई है

अब तू क्या हमारी गोदी मे बैठेगी, और अपने मोटे लंड को हल्के से मसल्ने लगा, रश्मि

दोनो भाइयो की लूँगी मे उठे उनके लंड को देख कर सिहर गई और फिर अपनी चूत का पानी

अपने घाघरे से पोंछती हुई, नही भैया आज भी आप दोनो जब मुझे अपनी गोद मे आने को

कहोगे मैं अपने प्यारे भैया की गोद मे चढ़ कर बैठ जाउन्गि, फिर आप जितना चाहे अपनी

बहन से प्यार कर लेना , और मैं ये भी जानती हू कि आप अब मुझसे पहले से भी ज़्यादा प्यार

करने लगे है, और बिरजू के सीने से चिपक जाती है जिससे बिरजू का लूँगी के अंदर खड़ा लंड

शीला के घाघरे से धकि चूत पर सीधे टकराता है और शीला का उठा हुआ लहसुन का दाना

उसके लंड के टोपे से रगड़ खा जाता है, तभी राजू से सहन नही होता और वह शीला के

पीछे से उसकी गंद से सॅट जाता है जिससे उसका मोटा लंड सीधे अपनी बहन की गुदा से

टकरा जाता है और शीला अपनी चूत और गंद से सटे दो दो मोटे लंड की चुभन से सनसना

जाती है और जब दोनो भाई आगे पीछे से उसकी गंद और चूत पर ज़ोर लगा कर उसके शरीर को

अपने शरीर से चिपका लेते है ओह मेरी प्यारी बहना तू आज भी अपने भाइयो को कितना चाहती

है, और दोनो भाई अपनी बहन को भींच लेते है और शीला की चूत से पानी बहता हुआ उसकी

जाँघो पर रिसने लगता है, तभी कोई बाहर का दरवाजा खटखटाता है और तीनो अलग हो जाते

है और बाहर आ जाते है फिर शीला जाकर दरवाजा खोलती है तो उसका पति आ चुका था, दोनो

भाई अपने जीजा जी से मिलते है फिर तीनो लोग बैठ कर बाते करने लगते है और फिर बिरजू शीला

को कुछ दिनो के लिए अपने साथ गाँव ले जाने की बात कहता है तब शीला का पति रमेश कहता

है साले साहेब आज रात आप हमारे साथ ही रुकिये दारू सारू पीते है फिर सुबह सुबह हम

आप तीनो को गाँव की बस मे बैठा देंगे, तब राजू बिल्कुल ठीक जीजा जी वैसे भी आज हमारा

पहला मोका होगा आपके साथ बैठने का मज़ा आ जाएगा, और फिर रमेश शराब की बोतल

लेने चला जाता है, फिर तीनो जीजा सालो की बैठक जमती है और शराब का दोर शुरू हो जाता है

बीच बीच मे शीला नमकीन और चिप्स आदि लेकर उन्हे लाकर देती है, करीब रात को 12 बजे

तक तीनो दारू पीते है, फिर रमेश खूब नशे मे आ जाता है और वह अपनी लड़खड़ाती

आवाज़ मे अक्च्छा साले साहेब अब मैं तो सोने जा रहा हू आप लोग चलने दो, और रमेश अपने

रूम मे घुस जाता है,

क्रमशः....................
Reply
06-21-2018, 11:52 AM,
#10
RE: Rishto Mai Chudai खून का असर
"खून का असर"--5

गतान्क से आगे........................

अंदर जाकर रमेश शीला को बाँहो मे भर लेता है, इधर यार राजू हमारी बहन की मोटी गंद कितनी मस्त है यार मेरा तो पूरा लंड उसकी गंद फाड़ने के लिए मरा जा रहा है, बिरजू यार 4 महीने मे ही चुदवा चुदवा कर कैसी मस्त हो गई है साली इसको एक बार पूरी नंगी देखने का मन हो रहा है, तभी यार कही हमारा जीजा अंदर जाकर हमारी बहन को चोद तो नही रहा है चल अंदर झाँक कर देखते है और दोनो दरवाजे के पास की दरार से अंदर देखने लगते है, और उनका अंदाज़ा सही होता है उसका जीजा उनकी बहन की चोली खोल कर उसके मोटे मोटे चुचे को पकड़ कर दोनो हाथो से कस कस कर मसल रहा था दोनो भाई अपनी बहन की गदराई चुचि देख कर अपना लंड सहलाने लगे तभी रमेश ने शीला के घाघरे का नाडा खोल कर उसे नीचे गिरा दिया और शीला पूरी नंगी हो गई अपनी बहन की फूली हुई चूत और गदराई गंद देखकर दोनो भाई के होश उड़ गये उन्हे यकीन नही हो रहा था कि उनकी बहन घाघरे चोली के अंदर इतनी गदराई और गोरी है दोनो भाई उसकी मस्त बुर और गंद को सूंघने और चाटने के लिए तड़पने लगे

तभी रमेश ने शीला की दोनो टाँगो को फैलाकर उसकी फूली हुई बुर को चाटना शुरू कर दिया और शीला तड़पने लगी इधर दोनो भाई अपने अपने लंड को मसल मसल कर अपनी बहन की नंगी जवानी का लुफ्त उठा रहे थे तभी रमेश ने अपना लंड निकाल कर शीला की चूत मे डाल दिया और शीला आह आह कर के सीसीयाने लगी रमेश तेज तेज उसकी चूत मे धक्के मार रहा था और एक तेज झटके के साथ रमेश का लावा शीला की चूत मे फुट पड़ा रमेश ज़्यादा नशे मे होने के कारण ज़्यादा लंबी पारी खेल नही सका और शीला तड़पति रह गई और फिर रमेश सो गया, अब दोनो भाई अपनी अपनी जगह पर आकर बैठ गये और दोनो ने फिर शराब का गिलास उठाकर पीना शुरू कर दिया उनका लंड अपनी बहन को नंगी देख कर तना हुआ था, और दोनो मन ही मन सोच रहे थे कि चूत हमे क्यो नही मिल पा रही है तभी राजू ने कहा यार बिरजू मेरे दिमाग़ मे एक आइडिया आया है बिरजू वह क्या राजू यार अभी शीला काफ़ी गरम है और हमारा जीजा उसे लगता है प्यासी ही छ्चोड़ कर झाड़ गया है यह बड़ा ही अच्छा मोका है अपनी बहन को चोदने का, वह अभी बाते कर ही रहे थे कि अचानक शीला के कमरे का दरवाजा खुला और वह बाहर आ गई,

आज शायद दोनो भाइयो की किस्मत भी उन पर मेहरबान थी, शीला अपना घाघरा चोली पहन चुकी थी और वह अपने भाइयो जो कि चटाई बिच्छा कर शराब पी रहे थे, अरे भैया अभी तक सोए नही और कब तक पीओगे, और शीला उनके पास आकर बैठ गई, राजू अरे शीला नींद ही नही आ रही थी और फिर अभी भी काफ़ी दारू बची है सो हमने सोचा इसे ख़तम करके ही सोते है, पर तू क्यो नही सोई अभी तक और जीजा जी सो गये क्या, शीला हाँ भैया वो तो कब के सो गये है, तभी अचानक शीला की नज़र दोनो की लूँगी मे बने तंबू पर पड़ी तो उसके रोंगटे खड़े हो गये क्यो कि दोनो के लंड अपनी बहन को देख कर ऐसे खड़े हो गये थे जैसे अभी उसकी चूत मे घुस जाना चाहते हो शीला पहले से ही गरम थी और अपने भाइयो का मोटे लंड के एहसास ने उसकी चूत को फिर से पानी पानी कर दिया था, तभी बिरजू ने घाघरे के उपर से अपनी बहन की गदराई जाँघ पर हाथ फेरते हुए, शीला तू खुस तो है ना यहाँ, शीला हाँ भैया मैं खुस हू लेकिन मुझे आप दोनो की याद बहुत सताती है, और मुझे अपने बचपन के दिन बहुत याद आते है जब आप दोनो मुझे अपनी गोद मे बैठा कर प्यार किया करते थे, बिरजू ने अपनी बहन की नंगी कमर मे हाथ डाल कर अपनी और खिचते हुए अरे पगली तू फिकर क्यो करती है और तू जब भी अपने दोनो भाइयो को याद करेगी तेरे भाई तुझसे मिलने चले आया करेंगे, शीला ओह भैया कहते हुए अपने भाई के गले लग गई, तब बिरजू ने उसे अपनी ओर खींच कर उसके मोटे-मोटे दूध को अपनी छाती से कस कर दबा दिया और शीला के मूह से एक हल्की सी आह निकल गई, तब बिरजू ने चुपके से राजू की ओर आँख मार दी तब राजू ने अपनी बहन शीला के मोटे चूतादो को अपनी और दबोचते हुए उससे कहा मेरी प्यारी बहना जितना तुम हमे याद करती हो ना उससे कही ज़्यादा हम तुम्हे याद कर कर के मतलब तुम्हे याद करते थे
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Porn Story शर्मीली सादिया और उसका बेटा sexstories 11 46,111 2 minutes ago
Last Post: desi-bhabhi
Thumbs Up Desi Sex Kahani रंगीला लाला और ठरकी सेवक sexstories 179 13,446 9 hours ago
Last Post: sexstories
Star Antarvasna Sex kahani मायाजाल sexstories 19 2,481 Yesterday, 01:37 PM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani दीदी और बीबी की टक्कर sexstories 47 35,829 10-15-2019, 12:20 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Story रिश्तो पर कालिख sexstories 142 124,989 10-12-2019, 01:13 PM
Last Post: sexstories
  Kamvasna दोहरी ज़िंदगी sexstories 28 23,191 10-11-2019, 01:18 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 120 323,921 10-10-2019, 10:27 PM
Last Post: lovelylover
  Sex Hindi Kahani बलात्कार sexstories 16 178,933 10-09-2019, 11:01 AM
Last Post: Sulekha
Thumbs Up Desi Porn Kahani ज़िंदगी भी अजीब होती है sexstories 437 183,022 10-07-2019, 01:28 PM
Last Post: sexstories
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 64 416,932 10-06-2019, 05:11 PM
Last Post: Yogeshsisfucker

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Gareeb nukrani ki gareebi ka fida utha kar chuda chudai storiexxx sojaho papa video Meyeta eccha kore chudaypati ke muh par baith kar mut pilaya chut chaatkar ras nikalaHansika motwani saxbaba.netकामवाली बाई सुनीता ला झवलेhiroin ke mu me giraya porndidi ke pass soya or chogaJhama jham Pron Indian anty papa ka adha land ghusa tab boliVIDEO XXXX DRINK PILAKAR AND ROMANSH KARKE CHODNE VALA SAEX MP3 CHAHIYAबलात्कार गांड़ काAbhintri Nhaha sarma sex videoxxxsexaasamusna मारा shat jaberdasti सैक्स keaa मंजिलाmama ne farmhouse me chut or gand humach ke fadiబ్రౌన్ వీడియోస్ తెలుగుsexanushka Sethyy jesi ledki dikhene bali sexy hd video alisha panwar naked nude photos sex Babahiroin ke sath sex relation keliyan mobile numberइंडियन गरल हाँट कि चुत के फोटोSex video hbhavi just ki chut ki bateGALLIE DEKAR PYASI JAWANI KE ANTERVASNA HINDI KHANI PORN KOI DEKH RAHA HAIindian aunty ke help kerke choda chodo ahhh chod hallo chod betaमाँ बेटे ने शादी की शॉपिंग की सेक्स कहानीwww.chusu nay bali xxx video .com.नोकिला xnxXX भाभि झंपर नीकालकर सोईkatrina kaif 2018 sexbaba.combeta nai maa ko aam ke bageche mai choadaHot women ke suhagraat per pure kapde utarker bedper bahut sex kuya videosअंजना कीर्ति nuked image xxxnait me hone wali xxx photo priyanka landbani kapur nude sexbaba.comनाई काहानी बुर चुदाई कीचूतो का समुंदर page 68 Karisma sex ass hole pic sexbabaअसल चाळे चाचीbahan watchman se chudwatiHindi sex video gavbalaWife Ko chudaane ke liye sex in India mobile phone number bata do pls xxx sexy photo HD Shilpa shetty Navi hiroyinGreater Noida Gamma ki sexy ladki nangi nahati huiहिंदी साड़ी रेम्योविंग कदै के पिछ सेक्स बाबा कॉमmeri bivi ko dosto se masasse sex kiyarajeethni saxi vidyobhosada pelate xxx photoMarathi sexy babhi var devar romotik video hdwwwxnxxcom hd indian jadrdastMunh ke andar Bira chhodana videos pronBrsat ki rat jija ne chodababa ne mera duddh pia or lund dlkr fuddi chodijejaje chat par he xxx elaichi nage fotuJameela ki kunwari choot mera lundSex.baba.net.puran.kahane.hinde.Xxx dase baba uanjaan videokarina kapur sexy bra or pantis bfxxxxwww www hdkjwww.daya or madhvibhabhi loda chudkarससुर ओर नंनद टेनिग सेकस कहनीसौम्या टंडन की चुदाईhot sexySouth Indian auntysfuck videosrandi bani sexbaba.netसोनम कपूर किXxx फोटो बडीचुदाई विदियो पेहलि बार xxxindia हिंदी की हलचलफ्रॉक उठा कर छोटी बहन को खड़े लण्ड पर बैठा लियाsara ali khan nude sexbabamothya bahini barobar sex storiespapa mummy beta sexbabaहस्तमैथुन कहानियां2019कच्ची उम्र की प्यास sexbabaरगंङा 3 हिदीNude Ramya krishnan sexbaba.comलरकी औरलंड